पुलिस वालों के पौधे नष्ट करने पर गधों को मिली जेल की सजा

पुलिस वालों के पौधे नष्ट करने पर गधों को मिली जेल की सजा

इस पूरे मामले पर जेलर का कहना है कि पचास-साठ हजार रुपये खर्च करके पौधे लगवाए गए हैं, गधों को ना तो अरेस्ट किया जा सकता है और ना ही एडजस्ट किया जा सकता है. गधों के मालिकों को बुलाकर चेतावनी देकर छोड़ दिया गया.

By: | Updated: 28 Nov 2017 01:05 PM
Donkeys spend 4 days in custody at Jalaun jail

लखनऊ:  उत्तर प्रदेश में उरई जेल के बाहर लगे पेड़ पौधों और जेल स्टाफ की कालोनी की बगिया को नष्ट करना आठ गधों को महंगा पड़ गया. जेल स्टाफ ने गधों को कैद कर बच्चा जेल में बंद कर दिया. सोमवार सुबह काफी दिनों से बंद पड़ी उरई जेल की बच्चा जेल का नज़ारा देखने लायक था. बच्चा जेल से 4 दिनों से बंद 8 गधे रिहा हो रहे थे.


जानकारी के मुताबिक जेल अधिकारियों ने गधे के मालिक को कई बार मना किया था वो अपने गधे इदर ना छोड़े. जेल पुलिस ने सबक सिखाने के लिए चार दिन के लिए गधों को जेल में बंद कर दिया. गधों की रिहाई भी इतनी आसानी से नहीं हुई, गधे के मालिक ने पहले तो जेलर से गुहार लगाई. इसके बाद स्थानीय बीजेपी नेता शक्ति गहोई से कहलवाने के गधों को आजादी मिली.


इस पूरे मामले पर जेलर का कहना है कि पचास-साठ हजार रुपये खर्च करके पौधे लगवाए गए हैं, गधों को ना तो अरेस्ट किया जा सकता है और ना ही एडजस्ट किया जा सकता है. गधों के मालिकों को बुलाकर चेतावनी देकर छोड़ दिया गया.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Donkeys spend 4 days in custody at Jalaun jail
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story ‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ के खेल में फंस गयी है कांग्रेस, 18 दिसंबर को देखेगी आखिरी एपिसोड: पीएम मोदी