नाम बदलने से नहीं होगा विकास, इंदौर को इंदौर ही रहने दो: राहत इंदौरी | Don't change name, let Indore be Indore says Rahat Indori

नाम बदलने से नहीं होगा विकास, इंदौर को इंदौर ही रहने दो: राहत इंदौरी

राहत इंदौरी ने कहा, "क्या इंदौर को इंदूर किए जाने भर से यह शहर स्मार्ट सिटी बन जाएगा. अगर सरकार इंदौर को एक आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं, तो कुछ और सोचा जाना चाहिए. शहर का नाम बदलने से कुछ नहीं होगा."

By: | Updated: 22 Nov 2017 05:38 PM
Don’t change name, let Indore be Indore says Rahat Indori

इंदौर: मशहूर शायर राहत इंदौरी ने मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी का नाम बदलने की बहस को "सियासी हल्ला" करार दिया. उन्होंने अपनी राय जाहिर करते हुए कहा कि इससे शहर की सेहत और मिजाज पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. इसका नाम इंदौर ही रहने दिया जाए. राहत इंदौरी ने बुधवार को कहा, "इंदौर का नाम बदलने की बहस से इस शहर की तरक्की नहीं होगी. यह बहस सियासी हल्ला भर है, इंदौर को इंदौर ही रहने दिया जाये. शहर का नाम बदलने की कोई जरूरत नहीं है."


राहत इंदौरी ने कहा, "क्या इंदौर को इंदूर किए जाने भर से यह शहर स्मार्ट सिटी बन जाएगा. अगर सरकार इंदौर को एक आधुनिक शहर बनाना चाहते हैं, तो कुछ और सोचा जाना चाहिए. शहर का नाम बदलने से कुछ नहीं होगा."


गौरतलब है कि गुजरे सालों में देश के कई शहरों के नामों में बदलाव के बाद इंदौर के नाम में बदलाव की बहस तेज हो गई है. इंदौरी सवाल करते हैं, "देश के कई शहरों से लेकर उनके मोहल्लों, गलियों और चौराहों तक के नाम भी बदल दिए गए हैं, लेकिन मुझे अब तक समझ नहीं आया कि इससे आखिर क्या तब्दीली हुई है." उन्होंने कहा, "मद्रास को चेन्नई या कलकत्ता को कोलकाता कर दिया गया, तो इससे भला क्या फर्क पड़ गया?"


बम्बई का नाम बदलकर मुंबई किये जाने के सन्दर्भ में इंदौरी अपना एक पुराना शेर याद दिलाते हैं, "रोशनी को तीरगी (अंधेरा) करते रहे, यह सफर पूरी सदी करते रहे. लोग सूरज तोड़ लाये और हम....बम्बई को मुम्बई करते रहे." इंदौर से ताल्लुक रखने वाले मशहूर फिल्मी गीतकार स्वानंद किरकिरे का भी मानना है कि इस शहर का नाम बदलकर इंदूर किये जाने की बहस सरासर बेमानी है.


गीतकार ने कहा, "मुझे समझ नहीं आता कि हम आगे जा रहे हैं या पीछे जा रहे हैं. जिन लोगों को इस शहर को इंदौर बोलना है, वे इसे इंदौर बोलें. जो लोग इस शहर को इंदूर के रूप में सम्बोधित करना चाहते हैं, वे इसे इंदूर कह लें. शहर के नाम को विवाद का विषय नहीं बनाया जाना चाहिए." मध्यप्रदेश के सबसे बड़े शहर के नाम में बदलाव की बहस 14 नवंबर को शुरू हुई, जब इंदौर नगर निगम के पार्षदों के सम्मेलन में एक प्रस्ताव पेश किया गया था. वॉर्ड नंबर 70 के बीजेपी पार्षद सुधीर देड़गे ने ऐतिहासिक तथ्यों का हवाला देते हुए प्रस्ताव रखा जिसमें कहा गया था कि पूर्व होलकर शासकों की राजधानी रहे शहर का नाम बदलकर 'इंदूर' किया जाना चाहिए. देड़गे का दावा है कि प्राचीन इंद्रेश्वर महादेव मंदिर के कारण इस शहर का नाम 'इंदूर' ही रखा गया था. लेकिन अंग्रेजों के गलत उच्चारण के कारण शहर का नाम 'इंदोर' पड़ गया जो बाद में और बदलकर 'इंदौर' हो गया.


बहरहाल, नगर निगम के एक अधिकारी ने कहा कि बीजेपी पार्षद के प्रस्ताव पर फिलहाल कोई अंतिम फैसला नहीं किया गया है. जन प्रतिनिधि से कहा गया है कि वह अपने दावे के समर्थन में ऐतिहासिक दस्तावेज पेश करें. इसके बाद विचार-विमर्श के आधार पर उनके प्रस्ताव पर उचित कदम उठाया जाएगा.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Don’t change name, let Indore be Indore says Rahat Indori
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story आपको पता है? अगर बैंक लॉकर में रखा आपका बेशकीमती सामान चोरी हो गया तो बैंक नहीं करेगा भराई