दूसरे दिन भी डीटीसी की हड़ताल जारी, दिल्ली सरकार ने एस्मा लगाया

By: | Last Updated: Tuesday, 12 May 2015 1:16 AM

नई दिल्ली: दिल्ली सरकार डीटीसी बसों की हड़ताल पर सख्त हो गई है. दिल्ली में सरकार ने आवश्यक सेवा कानून यानी एस्मा (Essential Services Maintenance Act) लगा दिया है. इसका मतलब ये है कि बस ड्राइवर हड़ताल नहीं कर सकते हैं. ऐसा करने पर उन्हें 6 महीने की जेल हो सकती है.

दिल्ली सरकार की सख्ती के बावजूद दूसरे दिन भी डीटीसी बसों की हड़ताल जारी है. करीब पौने पांच हजार बसों के ह़ड़ताल पर जाने की वजह से लोगों की परेशानी बढ़ी गई है.

 

क्या है मामला-

पश्चिमी दिल्ली के मुंडका इलाके में एक युवक ने अपनी मोटरसाइकिल में बस से टक्कर लगने के बाद 42 वर्षीय बस चालक अशोक की हेलमेट व आग बुझाने वाले छोटे सिलेंडर से पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. इसके विरोध में डीटीसी की बसों के चालक सोमवार को हड़ताल पर रहे, जिस कारण यात्रियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा.

 

चालक की मौत की खबर फैलते ही डीटीसी कर्मचारी संगठनों ने सोमवार को हड़ताल की घोषणा कर दी. सुबह से ही चालक व सहचालक डिपो पर एकत्रित होने लगे. उन्होंने नारे लगाए और बाइक सवार के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की मांग की.

 

डीटीसी यूनियन की मांग है कि मृत ड्राइवर के परिजन को सरकार नौकरी दे. लेकिन सरकार ने सिर्फ 5 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की.

 

दिल्ली सरकार और बीजेपी में आरोप प्रत्यारोप जारी

हड़ताल के लिए दिल्ली सरकार ने बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया. चालकों की हड़ताल के कारण डीटीसी की 4,705 बसें सड़कों से नदारद रहीं और सैकड़ों चालक व सह चालकों ने शहर के 45 डिपो पर एकत्रित होकर विरोध-प्रदर्शन किया.

 

दिल्ली की आप सरकार ने बीजेपी पर मामले का राजनीतिकरण करने और डीटीसी कर्मियों को उकसाकर हड़ताल कराने का भी आरोप लगाया. मंत्री गोपाल राय ने मीडिया से कहा, “मुआवजे की घोषणा हो चुकी है और दोषी को गिरफ्तार कर लिया गया है. इस हड़ताल के पीछे बीजेपी है.”

 

उन्होंने कहा कि जल्द ही डीटीसी बसों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे और पहले चरण में लगभग 2,500 मार्शलों को तैनात किया जाएगा. दिल्ली सरकार ने कहा कि वह मृत बस चालक की बेटी की शिक्षा का खर्च वहन करेगी. उन्होंने कहा किकाम पर न लौटने वाले कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई होगी.

 

उन्होंने कहा, “सरकार ने डीटीसी कर्मचारियों की हड़ताल को बेहद कड़ाई से लिया है. सरकार हड़तालियों से कड़ाई से निपटेगी. कर्मचारियों को सलाह दी जाती है कि वे जल्द से जल्द काम पर लौटें, ऐसा न करने पर वे नतीजा भुगतने को तैयार रहें.”

 

इससे पहले बीजेपी ने मृत बस चालक को न्याय देने की मांग करते हुए संसद मार्ग से जंतर मंतर तक कैंडल मार्च निकाला और दिल्ली सरकार को मुआवजे की रकम बढ़ाकर एक करोड़ रुपये करने को कहा.

 

दिल्ली बीजेपी प्रमुख सतीश उपाध्याय ने पीड़ित परिवार को पांच लाख रुपये की मदद दी है. उन्होंने कहा, “आप ने महिलाओं को डीटीसी बसों में सुरक्षा प्रदान करने का वादा किया था, लेकिन यहां तो बस के चालक भी सुरक्षित नहीं हैं.”

 

डीटीसी के बेड़े में कुल 4,705 बसें हैं, जिनमें से 1,275 एयरकंडीशन तथा 2,506 साधारण लो फ्लोर बसें हैं. बाकी पुरानी बसें हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: DTC employees strike likely to continue today, Delhi Govt invokes ESMA against the agitating staff
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: DELHI NCR dtc ESMA
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017