डीयूः Phd के लिए अब मिलेंगे साढ़े छह साल, इंट्रेंस एक्जाम हुआ अनिवार्य

By: | Last Updated: Tuesday, 21 July 2015 2:40 PM

नई दिल्ली: दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के छात्रों को अब पीएचडी पूरी करने के लिए चार साल के बजाय साढ़े छह साल का वक्त मिलेगा और इसमें दाखिले के लिए इंट्रेंस एक्जाम पास करना होगा. गौरतलब है कि अभी दिल्ली यूनिवर्सिटी में छात्रों को चार साल में पीएचडी पूरी करनी होती है.

 

मूल्यांकन प्रक्रिया के सफलतापूर्वक संपन्न होने और डिग्री दिए जाने की घोषणा के 30 दिनों के भीतर शोधकर्ताओं को अपनी पीएचडी थीसिस की एक सॉफ्ट कॉपी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को भी देनी होगी.

 

यूनिवर्सिटी ने यूजीसी नियमन, 2009 (पीएचडी डिग्री देने के न्यूनतम मानक एवं प्रक्रिया) और यूजीसी नियमन, 2010 (यूनिवर्सिटियों और कॉलेजों में शिक्षकों एवं अन्य शैक्षणिक कर्मियों की नियुक्ति के लिए न्यूनतम योग्यता एवं उच्च शिक्षा में मानक बनाए रखने के उपाय) के अनुसार अपने पीएचडी अध्यादेश में संशोधन किया है.

 

कल हुई कार्यकारी परिषद की बैठक में यूनिवर्सिटी ने संशोधनों को मंजूरी दी.

 

कार्यकारी परिषद की सदस्य आभा देव हबीब ने कहा, ‘‘पीएचडी थीसिस जमा करने की अवधि अब पांच साल होगी, जिसे बढ़ाकर साढ़े छह साल किया जा सकता है. अपवाद के मामलों में उचित तर्कों पर विचार करने के बाद इस अवधि में बढ़ोत्तरी की जा सकती है.’’ इससे पहले, छात्रों को पीएचडी पूरी करने के लिए चार साल का वक्त दिया जाता था और इसमें छह महीने के विस्तार का प्रावधान था.

 

पहले पीएचडी कार्यक्रमों में दाखिले की प्रक्रिया हर विभाग में अलग-अलग होती थी लेकिन अब इसके लिये प्रवेश परीक्षा को जरूरी बना दिया गया है.

 

हबीब ने कहा, ‘‘पीएचडी कार्यक्रम में छात्रों के दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा होगी. बहरहाल, जेआरएफ और एमफिल डिग्री धारकों के लिए अलग शर्तें तय की जा सकती हैं.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: du phd
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017