ताज़ा भूकंप के झटके से फिर कांपी उत्तर भारत और नेपाल की धरती, दहशत का माहौल बढ़ा

By: | Last Updated: Sunday, 26 April 2015 7:27 AM
earthquake_abp_live

काठमांडू/नई दिल्ली: नेपाल और उत्तर भारत में आए कल के भूकंप के जोरदार झटके बाद आज फिर तेज़ झटके महसूस किए गए. करीब एक से दो मिनट का कंपन महसूस किया गया. ये झटके दोपहर 12.39 बजे आए.

 

इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 6.7 मापी गई है. भूकंप का केंद्र भी नेपाल की राजधानी काठमांडू से 80 किलोमीटर दूर कोडारी रहा.

 

भारत में नेपाल में कल से अब तक 20 से ज्यादा बार हल्के और बड़े झटके महसूस किए गए हैं. लेकिन ये तीसरा बड़ा झटका है.

 

इस भूकंप की चपेट में बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, मध्यप्रदेश, असम, पंजाब, राजस्थान, उत्तराखंड और झारखंड है.

 

इस भूकंप के साथ ही दहशत का माहौल और ज्यादा बढ़ गया है. पहले से ही डरे लोग काफी खौफ में जीने के मजबूर हैं.

 

दिल्ली में मेट्रो सेवा शुरू की गई

 

रविवार को जैसे ही दोपहर में भूकंप के झटके महसूस किए गए. दिल्ली मेट्रो की सेवा फौरी तौर पर रोक दी गई, लेकिन अब दोबारा शुरू कर दी गई है.

 

इस भूकंप के साथ ही नेपाल में बचाव का काम बाधित होने के आसार बताए जा रहे हैं.

 

यूपी में भूकंप के झटके का पूरा ब्यौरा

 

मौसम विभाग के मुताबिक अपराहन करीब 12 बजकर 39 मिनट पर लखनउ, कानपुर, संतकबीरनगर, फैजाबाद, बहराइच, बलिया, महाराजगंज, कुशीनगर, अमेठी, उन्नाव, एटा और बाराबंकी समेत कई जिलों में भूकम्प के झटके महसूस किये गये. यह कम्पन करीब 45 सेकेंड तक रहा. ताजा झटके आने से घबराये लोग एक बार फिर सड़कों पर आ गये.

 

प्रदेश में कल भी लगभग सभी जिलों में भूकम्प के झटके महसूस किये गये थे. जलजले के कारण छत और दीवार गिरने की घटनाओं में अब तक कम से कम 13 लोगों की मौत हो चुकी और 40 से ज्यादा अन्य घायल हो गये हैं.

 

प्रदेश के लगभग सभी जिलों में कई बार आये भूकम्प की वजह से समूचे प्रदेश में भय और अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया और घबराये लोग अपने-अपने घरों, दफ्तरों और दुकानों से बाहर निकल आये.

 

बार-बार भूकम्प आने से दहशतजदा अनेक लोगों ने खुले मैदानों में शरण ले ली और वहां काफी देर तक रूके रहे. भूकम्प से प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में अफरातफरी और घबराहट का माहौल पैदा हो गया था. जलजले से कई मकानों तथा इमारतों में दरारें आ गयी और टेलीफोन, इंटरनेट समेत दूरसंचार सेवाओं पर असर पड़ा था.

 

प्रदेश में भूकम्पजनित हादसों में बाराबंकी, संतकबीरनगर और गोरखपुर में तीन-तीन, श्रावस्ती, बदायूं, कुशीनगर तथा कानपुर देहात में एक-एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है.

 

लखनउ में कल 11 बजकर 41 मिनट पर करीब दो मिनट और फिर करीब 12 बजकर 15 मिनट पर लगभग 20 सेकंड तक भूकम्प के झटके महसूस किये गये. अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के मुताबिक, भूकंप की तीव्रता 7.9 थी और उसका केन्द्र नेपाल में था.

 

नेपाल में विनाशकारी भूकम्प के मद्देनजर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निर्देश पर पीडितों की मदद के लिए 10 ट्रक मिनरल वाटर, 10 ट्रक बिस्किट और एक ट्रक दवा आज रवाना कर दी गयी.

 

भूकम्प के मद्देनजर सरकार ने प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों को 24 घंटे संचालित कंट्रोल रूम स्थापित करने के भी निर्देश दिए है. साथ ही प्रदेश के सभी चिकित्सालय, अग्निशमन, पुलिस राजस्व तथा अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों को हाई अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं ताकि आवश्यकता पड़ने पर तुरंत आवश्यक कार्यवाही की जा सके.

 

प्रदेश स्तर पर उत्तर प्रदेश राज्य आपदा प्रबंध प्राधिकरण ने 24 घंटे संचालित नियंत्रण कक्ष को सक्रिय कर दिया गया है. इसका फोन नम्बर-0522-4015703 तथा फैक्स नं0-0522-4915723 है.

 

मध्य प्रदेश का हाल

 

भोपाल में एबीपी न्यूज़ संवाददाता ब्रजेश सिंह का कहना है कि राज्य के भोपाल, सागर, रीवा, ग्वालियर, मुरैना में 12.40 के बीच भूकंप के झटके महसूस किए है.

 

बिहार का हाल

 

बिहार में भी झटके महसूस किए गए.  एबीपी न्यूज़ संवाददाता अंकित गुप्ता का कहना है कि बिहार में मोतिहारी, बेतिया, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, वैशाली और आसपास के जिलों में झटके महसूस किए गए.

 

मधेपुरा में आज के ताजा झटके के बाद शहर की जेल की दीवार टूट गई.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: earthquake_abp_live
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017