Earthquake: 9.56 बजे एक बार फिर नेपाल में भूकंप के झटके महसूस हुए

By: | Last Updated: Sunday, 26 April 2015 9:48 AM
earthquake_abp_live

काठमांडू/नई दिल्ली:  नेपाल में आज रात 9 बजकर 56 मिनट पर एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए, भूकंप  की तीव्रता 5.3 मापी गई है. इसके साथ ही दिल्ली में भी झटके महसूस किए गए हैं.

 

नेपाल में तबाही और सिर्फ तबाही का मंजर है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक नेपाल में अब तक 2400 से ज्यादा जानें मौत की आगोश में समा चुकी हैं तो भारत में ये आंकड़ा 62 को पार कर गया है. चीन के भी 13 लोग मारे गए हैं.

 

नेपाल में 5000 लोग घायल बताए जा रहे हैं. अस्पताल के बाहर लाशों का ढेर है और अब बीमारी फैलने का खतरा मंडरा रहा है.

 

भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने नेपाल को हरमुमकिन मदद का यकीन दिलाते हुए कहा कि नेपाल का दुख भारत का दुख है और भारत हर मदद को तैयार है.

 

भारत में भी इस भूकंप से 60 से ज्यादा लोग मारे गए हैं, जिनमें सबसे ज्यादा मौतें बिहार में हुई हैं. बिहार में 38 लोग मारे गए हैं.

 

600 फंसे भारतीय निकाले गए

 

नेपाल में बड़ी तादाद में भारतीय फंसे हुए हैं. सही आंकड़े का पता नहीं है, लेकिन रविवार दोपहर दो बजे तक 600 भारतीय सुरक्षित निकाले गए. इन्हें भारतीय एयरफोर्स और एयर इंडिया ने सुरक्षित दिल्ली पहुंचाया है.

 

अंडर-14 टीम फंसी

 

काठमांडू में फुटबॉल की अंडर-14 टीम फंसी हुई है. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का कहना है कि फंसी लड़कियों को निकालने उनकी प्राथमिकता है.

 

आज भी आए तेज़ झटके

 

भूकंप के दूसरे दिन जब लोग संभल रहे थे और सदमे से बाहर निकल की कोशिश कर रहे थे कि इस बीच दोपहर 12.39 बजे दोबारा तेज़ झटके आए.  भूकंप की तीव्रता 6.9 थी, जो पहले आए भूकंप के बाद दूसरा सबसे बड़ा झटका था.  आज के भूकंप का केंद्र भी नेपाल की राजधानी काठमांडू से 80 किलोमीटर दूर कोडारी रहा.

 

आज के झटके पर पढ़ें पूरी खबर

 

आज के आफ्टर शॉक के बाद बचाव का काम बाधित हुआ है और कुछ जगहों पर तो काम रोक दिया गया है.  नेपाल प्रशासन को काठमांडू एयरपोर्ट पर विमान सेवा तक रोकनी पड़ी है. 

 

लगातार झटके

 

नेपाल में शनिवार शाम और रात को हर हर घंटे-घंटे पर कई झटके महसूस किए गए. आज सुबह क़रीब नौ बजे भी एक बड़ा झटका महसूस किया गया. बताया जा रहा कि अब तक 50 से ज्यादा झटके महसूस किए गए हैं.

 

आज सुबह 4 चार बजे 22 झटके महसूस किए गए.

 

कहां-कहां हुई है भूकंप से तबाही

 

भूकंप से नेपाल में भारी तबाही हुई है. सबसे ज्यादा प्रभावित राजधानी काठमांडू है. काठमांडू में ऐतिहासिक मंदिर पशुपतिनाथ मंदिर को भी नुकसान पहुंचा है.

 

काठमांडू शहर की आबादी 30 लाख है. शहर के अनेक मंदिर को नुकसान पहुंचा है. सड़कों के बीच में बड़ी बड़ी दरारें आ गई हैं.

 

स्थानीय लोग और टूरिस्ट मलबे में ज़िंदगियां तलाशने में जुटे हैं. जैसे ही मलबे से कोई जिंदा निकल जाता है, खुशियां बिखर आती हैं.

 

ज्यादा लाशें सड़ रही हैं. अस्पताल में काफी भीड़ है. घायलों का सड़कों पर इलाज किया जा रहा है. अस्पताल में अपनों को तलाशने के लिए रिश्तेदारों का जमावड़ा दिखा जा रहा है.

 

धरहरा:  धरहरा में ऐतिहासिक नौ मंजिला मीनार गिर गई है.  धरहरा में मीनार गिरने से काफी मौतें हुई हैं. वहां से बड़ी संख्या में लाशें निकाली गई हैं. 

 

धरहरा की मीनार की तामीर 1832 में की गई थी, लेकिन 1934 के भूकंप में ये टावर टूट गया था और इसकी मरम्मत की गई. देखें कैसी गिरी धरहरा की इमारत

 

नेपाल के 75 में 30 जिले भूकंप प्रभावित हैं.

 

देहात में है बड़ी तबाही की आशंका

 

नेपाल के केयर इंटरनेशनल के डायरेक्टर का कहना है कि अब तक जो जानकारी मिली है वे बड़े शहरों के हैं. देहात में भी 80 फीसदी मकान ध्वस्त हो गए हैं.

 

भूकंप का केंद्र पोखरा है और उसके आपपास के इलाकों में भारी तबाही मची है. बड़ी संख्या मौतें हुई हैं, लेकिन उन देहात और छोटे जगहों की खबरें आ ही नहीं पा रही हैं. 

 

कई दूरस्थ और घाटी के शहरों में अब तक मलबे नहीं हटाए गए हैं. जब मकान गिरे हैं और उस वक़्त जो लोग उसमें थे अब भी नहीं निकाले जा सकते हैं.

 

80 साल बाद आया इतना बड़ा भूकंप

 

नेपाल में भूकंप तो आते रहते हैं, लेकिन इतने बड़े भूकंप नहीं आते. 80 साल बाद इतना बड़ा भूकंप आया है. साल 1934 में नेपाल में 8.1 तीव्रता का भूकंप आया था, जिसमें 10 हज़ार से ज्यादा लोग मारे गए थे.

 

हिमालय की चोटियां भी हिलीं

 

भूकंप का असर दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर भी पड़ा है और वहां पर 18 लोगों के मारे जाने की खबर है. लोग माऊंट एवरेस्ट पर चढ़ाई के लिए गये थे लेकिन वहां आये एवलांच में लोगों की मौत हो गई. मारे गए 18 लोगों में से सभी के शव बरामद हो गए हैं. माउंट एवरेस्ट पर कुल 61 लोगों के जख्मी होने की खबर है. पढ़ें पूरी खबर

 

इन बड़े-बड़े लोगों की हुई मौत

 

नेपाल सहित पूरे उत्तर भारत में आए भूकंप से भारी जान और माल का नुकसान हुआ है. इस तबाही में दुनिया की सबसे बड़ी इंटरनेट सर्च कंपनी गूगल के एक कार्यकारी डैनियल फ्रेडिनबर्ग की भी मौत हो गई. डेनियल की मौत माउंट एवरेस्ट पर अचानक आए एवलांच में हुई. माउंट एवरेस्ट पर आए इस एवलांच में 17 पर्वतारोहियों के शव निकाले गए हैं. पढ़ें पूरी खबर

 

ऑपरेशन मैत्री जारी

 

भारतीय सेना ने नेपाल में आई तबाही से लोगों को बचाने के लिए ऑपरेशन मैत्री चला रही है. भारतीय सेना का राहत ऑपरेशन काठमांडू में काफी जोर शोर से जारी है. भारत के पीएम ने भी नेपाल को हरमुमकिन सहयोग की बात कही है.

 

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: earthquake_abp_live
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017