इबोला से निपटने के लिए कितने तैयार हैं हम ?

By: | Last Updated: Friday, 17 October 2014 4:19 PM

नई दिल्ली: वेस्ट अफ्रीका में तबाही के बाद अमेरिका में भी दो लोग इबोला की चपेट में आ चुके हैं. ऐसे में एक बार फिर दुनिया भर में इबोला का खतरा मंडराने लगा है. आपको बता दें कि भारत में भी करीब 22 हजार लोगों की जांच की गई है.

 

लेकिन इनमें से एक पर भी इबोला वायरस का असर नहीं देखा गया है. बावजूद इसके केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्वास्थ्य कर्मियों को निर्देश दिए हैं कि वो इबोला की चुनौती से निपटने के लिए तैयार रहे हैं.

 

फिलहाल दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल को इबोला का नोडल सेंटर बनाया गया है- जहां जांच की पूरी सुविधा मौजूद है. इसके अलावा दस और सेंटर खोले गए हैं- जहां इबोला वायरस की जांच हो सकेगी.

 

वहीं निजी अस्पतालों में इबोला से निपटने की कोई तैयारी नहीं है. जानकारों के मुताबिक बाहर से इबोला वायरस यहां ना पहुंचे इसके लिए एयरपोर्ट से ही सावधानी बरतने की जरूरत है.

 

आपको बता दें कि थाईलैंड के डॉक्टर भी अभी इबोला वायरस का कोई इलाज नहीं ढूंढ पाए हैं. थाइलैंड के डीआईबी इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डॉक्टर चरिया सांगसज्जा के मुताबिक फिलहाल वो मरीजों के लक्षण के आधार पर ही इलाज कर रहे हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि अगर इबोला का संक्रमण भारत में फैलता है तो उसके लिए क्या मौजूदा तैयारी काफी है?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ebola_india_africa_america
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017