100 साल पुरानी इस भविष्यवाणी पर लगी मुहर, पीएम मोदी ने भी दी बधाई

By: | Last Updated: Friday, 12 February 2016 12:48 PM
Einstein’s gravitational waves ‘seen’ from black holes

वॉशिंगटन: अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में उस समय खुशी की लहर पैदा हो गई, जब वैज्ञानिकों ने यह घोषणा की कि उन्होंने अंतत: उन गुरूत्वीय तरंगों की खोज कर ली है, जिसकी भविष्यवाणी आइंस्टीन ने एक सदी पहले ही कर दी थी. वैज्ञानिकों ने इसे एक महान उपलब्धि करार देते हुए इसकी तुलना उस क्षण से की है, जब ग्रहों को देखने के लिए गैलीलियो ने दूरदर्शी यंत्र का आविष्कार किया था.

पीएम मोदी ने भी दी बधाई
पीएम मोदी ने गुरुत्वाकर्षण तरंगों की खोज पर ट्वीट कर कहा, “बेहद गर्व है कि भारतीय वैज्ञानिकों ने इस चुनौतीपूर्ण खोज में अहम भूमिका निभाई. गुरुत्वीय तरंगों की ऐतिहासिक खोज ने ब्रह्मांड को समझने के लिए एक नया मोर्चा खोल दिया है.” भारत उन देशों में से भी एक है, जहां गुरुत्वाकषर्ण प्रयोगशाला बनाई जा रही है. स्टीफन हॉकिंग्स ने भी इस खोज के लिए वैज्ञानिकों को बधाई दी है.

ब्रह्मांड में जोरदार टक्करों के कारण पैदा होने वाली इन तरंगों की खोज खगोलविदों को इसलिए उत्साहित कर रही है क्योंकि इससे ब्रह्मांड का अवलोकन उसकी क्रमबद्धता में करने का एक नया रास्ता खुल गया है. उनके लिए यह एक मूक फिल्म से बोलती फिल्मों में प्रवेश करने जैसा है क्योंकि ये तरंगें ब्रह्मांड की आवाज हैं.

कोलंबिया विश्वविद्यालय के अंतरिक्ष विज्ञानी और खोज दल के सदस्य एस मार्का ने कहा, ‘‘इस क्षण से पहले तक हमारी नजरें तो आसमान की ओर होती थीं लेकिन हम वहां का संगीत नहीं सुन पाते थे.’’ इस नयी खोज में खगोलविदों ने अत्याधुनिक एवं बेहद संवेदनशील लेजर इंटरफेरोमीटर ग्रेविटेशनल वेव ऑबजर्वेटरी या लीगो का इस्तेमाल किया, जिसकी लागत 1.1 अरब डॉलर है. लीगो की मदद से उन्होंने दूर दो ब्लैक होल के बीच हुई हालिया टक्कर में पैदा हुई गुरूत्वीय तरंग का पता लगाया.

कुछ भौतिकविदों का कहना है कि यह खोज वर्ष 2012 की हिग्स बोसॉन (गॉड पार्टिकल) जितनी बड़ी है. वहीं कुछ वैज्ञानिक इसे उससे भी बड़ी खोज कह रहे हैं. खोज दल के सदस्यों से इतर पेन स्टेट के भौतिक विज्ञानी अभय अष्टेकर ने कहा, ‘‘इसकी तुलना सिर्फ गैलीलियो द्वारा दूरदर्शी यंत्र लेकर आने और उससे ग्रहों को देखना शुरू करने से ही की जा सकती है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ब्रह्मांड को लेकर हमारी समझ में नाटकीय ढंग से बदलाव आया है.’’

गुरूत्वीय तरंगों की सबसे पहली व्याख्या आंइस्टीन ने वर्ष 1916 में अपने सापेक्षिता के सामान्य सिद्धांत के तहत की थी. ये चौथी विमा दिक्-काल में असाधारण रूप से कमजोर तरंगें हैं. जब बड़े लेकिन सघन पिंड, जैसे ब्लैक होल या न्यूट्रॉन स्टार आपस में टकराते हैं तो उनके गुरूत्व से पूरे ब्रह्मांड में तरंगे पैदा होती हैं.

वैज्ञानिकों को 1970 के दशक में की गई गणनाओं के आधार पर गुरूत्वीय तरंगों के अस्तित्व का अप्रत्यक्ष साक्ष्य मिला था. इस उपलब्धि को वर्ष 1993 का भौतिकी का नोबल पुरस्कार से नवाजा गया था. बहरहाल, मौजूदा घोषणा गुरूत्वीय तरंग की सीधी पहचान से जुड़ी है. ऐसे में इसे एक बड़ी उपलब्धि माना जा रहा है. खोज दल से इतर जॉन हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के भौतिकविद मार्क केमिओनकोव्सी ने कहा, ‘‘ध्वनि तरंगों के मौजूद होने की बात जानना एक चीज है लेकिन बीथोवेन (महान संगीतकार) के पांचवे सिंफनी को वास्तव में सुन पाना एक अलग ही बात है.’’

केमिओनकोव्सी ने कहा, ‘‘ऐसे में, हम दरअसल ब्लैक होल के विलय को सुन पाएंगे.’’ पेनसेल्वानिया स्टेट विश्वविद्यालय के टीम सदस्य चाड हाना ने कहा, गुरूत्वीय तरंगे ‘‘ब्रह्मांड का साउंडट्रैक है.’’ अष्टेकर ने कहा कि गुरूत्वीय तरंगों की पहचान इतनी मुश्किल है कि जब आइंस्टीन ने पहली बार इनकी व्याख्या की थी, तब उन्होंने कहा था कि वैज्ञानिक कभी भी इन्हें सुन नहीं पाएंगे.
आइंस्टीन ने बाद में खुद ही इस बात पर संदेह जताया था और यहां तक कि 1930 के दशक में सवाल भी उठाया था कि ये तरंगे हैं भी या नहीं? लेकिन 1960 के दशक में वैज्ञानिकों ने यह निष्कर्ष निकाला था कि संभवत: इनका अस्तित्व है. वर्ष 1979 में, नेशनल साइंस फाउंडेशन ने तरंगों की पहचान का तरीका निकालने के लिए कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और मेसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी को धन दिया था. 20 साल बाद, उन्होंने वाशिंगटन के हैनफोर्ड और लुइसियाना के लिविंगटन में दो लीगो संसूचक बनाने शुरू किए. इन्हें वर्ष 2001 में सक्रिय किया गया.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Einstein’s gravitational waves ‘seen’ from black holes
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर ने फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी
'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी

नई दिल्ली: नागरिक अधिकार कार्यकर्ता इरोम शार्मिला और उनके लंबे समय से साथी रहे ब्रिटिश नागरिक...

अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे
अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे

 मुंबई: मुंबई पुलिस के मशहूर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को महाराष्ट्र...

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017