'मफलरवाला' ही निकला नसीबवाला

By: | Last Updated: Tuesday, 10 February 2015 3:12 PM
election_arvind kejriwal_

नई दिल्ली: दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने एक बार फिर समूचे विश्व के सामने अपनी ‘परिपक्वता’ का सबूत देकर यह जता दिया कि जहां लोक बड़ा होता है, वहां सबकुछ गौण होता है. दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों ने देश-दुनिया को इस तरह चौंकाया है जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी, खुद अरविंद केजरीवाल ने भी नहीं सोचा होगा कि वह इस तरह छा जाएंगे.

दिल्ली के नतीजे अप्रत्याशित नहीं थे, लेकिन चौंकाने वाले जरूर साबित हुए. अब दिल्ली विधानसभा का नजारा ही बिल्कुल उलट होगा. भले ही दिल्ली कांग्रेस से मुक्त हो गई है लेकिन इस बात से कैसे इनकार किया जा सकता है कि आम आदमी पार्टी कल कांग्रेस का विकल्प तो नहीं बन जाएगी?

 

अब यह वक्त निश्चित रूप से विश्लेषण का है, खुद आम आदमी पार्टी के लिए भी और उससे ज्यादा बीजेपी के लिए. दिल्ली ने एक नया इतिहास रच दिया और इस बात से इनकार भी नहीं किया जा सकता कि देश की नब्ज दिल्ली में ही धड़कती है या यूं कहा जाए कि दिल्ली की नब्ज ही देश की धड़कन है.

 

लगता है, अब दिल्ली की जनता को ही विपक्ष की भूमिका भी निभानी होगी, क्योंकि कल तक कांग्रेस को विपक्ष की भूमिका के लिए नकारा मानने वाली बीजेपी आज खुद उसी कटघरे में आ खड़ी हुई है.

 

यह सब अप्रत्याशित था. अन्ना हजारे के आंदोलन से उपजे अरविंद केजरीवाल और किरण बेदी के एक-दूसरे के सामने आ जाने का जवाब दिल्ली के मतदाताओं ने कुछ इस अंदाज में दिया कि राजनीति के चाणक्यों को जबरदस्त मात खानी पड़ी.

 

सारा गुणा-भाग धरा का धरा रह गया. राजनीति के सारे अंकगणित को मतदाताओं के बीज गणित ने झुठला दिया और बता दिया कि भारतीय मतदाता न केवल बेहद समझदार है, बल्कि वह सबक सिखाने में जरा भी देर नहीं करता.

 

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की ऐतिहासिक जीत ने जहां नरेंद्र मोदी के अश्वमेघ यज्ञ के घोड़े को न केवल रोक लिया, बल्कि सिक्कम में रचे गए 1989 के विधानसभा चुनाव की याद दिला दी जहां पर तब ‘सिक्किम संग्राम परिषद’ ने सभी 32 विधानसभा सीटों पर एकतरफा जीत हासिल की थी.

 

लेकिन आम आदमी पार्टी की इस जीत को उससे बड़ी इसलिए माना जा रहा है, क्योंकि दिल्ली को ‘मिनी इंडिया’ कहा जाता है और यह माना जाता है कि दिल्ली के चुनाव एक तरह से देश की राजनीति के लिए बैरोमीटर का काम करता है.

 

आंकड़ों की बाजीगरी के लिहाज से भले ही बीजेपी इस बात से संतोष कर ले कि उसे प्राप्त वोटों का प्रतिशत ज्यादा कम नहीं हुआ है. इस बार भी बीजेपी को लगभग 32.2 प्रतिशत मत हासिल हुए हैं. लेकिन आम आदमी पार्टी के वोटों में जबरदस्त इजाफा हुआ है और उसे लगभग 54.3 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिले हैं जो कि एक रिकार्ड भी है.

 

इसका मतलब यह हुआ कि दिल्ली का जागरूक मतदाता एक-एक वोट का महत्व जानता था और उसने कांग्रेस को पूरी तरह से नकार दिया. इस तरह 1951 के बाद से कांग्रेस का यह सबसे बुरा प्रदर्शन रहा है. पिछले चुनाव में कांग्रेस को लगभग 20 प्रतिशत वोट मिले थे जो कि इस बार मात्र 9.7 प्रतिशत पर ही सिमट कर रह गए.

 

बीजेपी के लिए सबसे बड़े झटके की बात मुख्यमंत्री पद के लिए चुनाव से 17 दिन पूर्व ही प्रोजेक्ट की गई किरण बेदी की हार है जिनके लिए दिल्ली की सबसे सुरक्षित सीट को तलाशा गया था और वहां से बीजेपी 1993 से लगातार जीतती आई थी.

 

एक तरह से यह आत्मचिंतन और मंथन का समय है, जब अपनी ही धुन में और बंद कमरों में राजनीति की बिसात और गुणा-भाग करने वाले हर नेता को सोचना होगा कि मैदानी हकीकत जाने बिना किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचना कितना घातक होता है.

 

दिल्ली के इन चुनावों ने देश में एक नई बहस शुरू कर दी है और इतना तो साफ हो गया है कि मतदाताओं को कम आंकने वालों को अब सोचना ही होगा. राजनीति में शुचिता की बात के महत्व को स्वीकारना होगा तथा दंभ और अहं से भी बचना होगा.

 

इसके साथ ही दिल्ली के मतदाताओं ने भले ही बीजेपी को 3 सीटों पर लाकर समेट दिया हो, लेकिन एक संदेश यह भी दे दिया है कि उसका भरोसा दो दलों पर ही है यानी टक्कर आमने-सामने की है. यह संदेश सारे देश में असर डाल सकता है.

 

इन परिणामों ने गठबंधनों की आड़ में राजनीति करने वालों का भी रक्तचाप बढ़ा दिया है, क्योंकि दिल्ली में समूचे भारत के लोग रहते हैं और इन नतीजों का असर दूर तलक जाएगा. जब बात नतीजों और देश की धड़कन की निकलेगी तो चर्चा नसीब पर भी होगी. यहीं एक चुनावी रैली में नरेंद्र मोदी ने खुद को ‘नसीबवाला’ बताया था और जब नतीजे आए तो मफलरवाला ही नसीबवाला निकला.

 

राजनीति में बड़बोलापन, वादाखिलाफी और सरकार के क्रियाकलापों पर मतदाता किस तरह से और कितनी पैनी निगाह रखता है और बड़ी ही खामोशी से अपने वक्त का इंतजार करता है, यह दिल्ली विधानसभा के इन नतीजों से समझा जा सकता है. मतदाताओं को बौना समझने वालों को दिल्ली के चुनाव परिणामों ने खुद बौना बना दिया है. विरोधों, अंतर्विरोधों और लोक से रूबरू हुए बिना तंत्र को साधने वालों के लिए अब भी होश में आने का वक्त बचा है.

 

यदि ऐसा नहीं हुआ तो विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के आगे अपने तंत्र को फैलाने वालों के सारे मंत्र यूं ही खाली जाएंगे और फिर सिवाय हाथ मलने के कुछ नहीं रह जाएगा. बहुत से विद्यालयों में पढ़ी जाने वाली दैनिक प्रार्थना की ये पंक्तियां शायद आज राजनीतिज्ञों के लिए सबसे अहम होगी ‘छल द्वेष दंभ पाखंड झूठ अन्याय से निसि दिन दूर रहें, जीवन हो शुद्ध सरल अपना सुचि प्रेम सुधा रस बरसाए,.. निज आन मान मर्यादा का प्रभु ध्यान रहे अभिमान रहे’.

 

यह भी पढ़ें-

दिल्ली चुनाव: पांच उम्मीदवार जो रिकॉर्ड वोटों से जीते

केजरीवाल: चट्टानी इरादा, धुन का पक्का

हकीकत से दूर रहे एग्जिट पोल के नतीजे

वोटों में 25 फीसदी छलांग के साथ बजा ‘आप’ का डंका 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: election_arvind kejriwal_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

एबीपी न्यूज की दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज की दिनभर की बड़ी खबरें

1. यूपी के मुजफ्फरनगर में बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. मुजफ्फरनगर में खतौली के पास कलिंग-उत्कल...

गोरखपुर ट्रेजडी: मृतक बच्चों के परिजनों से मिले राहुल गांधी, बोले- यह सरकार की बनाई 'राष्ट्रीय त्रासदी'
गोरखपुर ट्रेजडी: मृतक बच्चों के परिजनों से मिले राहुल गांधी, बोले- यह सरकार...

गोरखपुर: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में पिछले दिनों संदिग्ध...

पुराने अंदाज में दिखीं किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा का जायजा
पुराने अंदाज में दिखीं किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला...

पुदुच्चेरी: पुदुच्चेरी की उप राज्यपाल किरन बेदी ने रात में भेष बदलकर केंद्र शासित प्रदेश में...

LIVE: मुजफ्फरनगर के पास ट्रेन एक्सीडेंट में 11 लोगों की मौत, घायलों की संख्या 65 हुई, रेलवे का मुआवजे का एलान
LIVE: मुजफ्फरनगर के पास ट्रेन एक्सीडेंट में 11 लोगों की मौत, घायलों की संख्या 65...

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. मुजफ्फरनगर में खतौली के पास...

गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!
गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में बीजेपी नेता हरीश वर्मा जो 200 से ज्यादा गायों को भूखा मारने के आरोप में...

गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी जाएंगे
गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी...

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत से मचे...

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017