हवाला कारोबारी मोइन कुरैशी CBI के पूर्व निदेशक से करता था बात

By: | Last Updated: Friday, 17 October 2014 10:56 AM
Ex-CBI director talked to Moin Qureshi

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट में कोयला घोटाले पर हो रही अहम सुनवाई के दौरान बड़ा खुलासा हुआ है . खुलासा ये कि हवाला कारोबारी मोइन कुरैशी के सीबीआई निदेशक रंजीत सिन्हा से रिश्ते नहीं बल्कि सीबीआई के पूर्व निदेशक एपी सिंह  से रिश्ते थे .

 

कोयला घोटाले में आज सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई में आयकर विभाग ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि हवाला कारोबारी मोइन कुरैशी के घर मारे गए छापों में रंजीत सिंहा के साथ उसके संबधो से जुड़ा को सबूत नही मिला है. लेकिन मोइन कुरैशी सीबीआई एक दूसरे पूर्व निदेशक एपी सिंह से अक्सर बात किया करता था जो इस वक्त यूपीएससी का सदस्य है. उनकी उस से अक्सर बातचीत होती थी. 

 

अब खबर है कि सरकार उस अधिकारी को यूपीएससी के पद से हटा भी सकती है. सुप्रीम कोर्ट ने आयकर विभाग से पूछा था कि क्या उसे रंजीत सिंहा और मोइन कुरैशी के संबधो और दोनो के कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित करने से जुड़े कोई सबूत मिले है.

 

आयकर विभाग ने सुप्रीम कोर्ट को एक चौंकाने वाली जानकारी दी है . आयकर विभाग ने बताया है कि हवाला कारोबारी मोईन कुरैशी सीबीआई के एक पूर्व डायरेक्टर से अक्सर बातें किया करता था. सीबीआई के ये पूर्व डायरेक्टर फिलहाल यूपीएसएसी के सदस्य हैं.

 

आयकर विभाग के मुताबिक सीबीआई के पूर्व निदेशक और हवाला कारोबारी मोइन कुरैशी के बीच अक्सर बातें होने की जानकारी उसे कुरैशी के घर मारे गए छापों के दौरान मिली है. बताया जा रहा है कि आयकर विभाग के इस खुलासे के बाद सरकार सीबीआई के उस पूर्व डायरेक्टर को यूपीएससी के सदस्य पद से हटा सकती है.

 

आयकर विभाग ने ये भी कहा कि मोईन कुरैशी के घर मारे गए छापों में उसे कोई ऐसा सबूत नहीं मिला है, जिसे मोईन और सीबीआई डायरेक्टर रंजीत सिन्हा के बीच संबंधों का पता चलता हो.

 

सुप्रीम कोर्ट ने आयकर विभाग से पूछा था कि क्या उसे रंजीत सिन्हा और मोइन कुरैशी के बीच संबंधों और कोयला घोटाले की जांच को प्रभावित किए जाने से जुड़े कोई सबूत मिले हैं?

 

सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से कहा है कि अब तक अलग-अलग मामलों में हुई जांच की सारी रिपोर्ट 4 दिसंबर तक अदालत में जमा करे. 8 दिसंबर को मामले की अगली सुनवाई होनी है.

 

सुप्रीम कोर्ट ने किसी भी कोयला कंपनी को ब्लैक लिस्ट करने से मना किया. कोर्ट ने कहा जिनके खदान सुप्रीम कोर्ट के फैसले की वजह से रद्द हुए है, वे भी नए सिरे से होने वाली निलामी में भाग लेने के लिए स्वतंत्र हैं. इन कंपनियों को ब्लैक लिस्ट किए जाने के लिए वकील एमएल शर्मा ने दायर की थी अर्ज़ी.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Ex-CBI director talked to Moin Qureshi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: CBI supreme court
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017