Exclusive Interview: पंकजा मुंडे ने कहा- कोई घोटाला नहीं किया तो इस्तीफा क्यों?

By: | Last Updated: Saturday, 27 June 2015 1:43 PM

नई दिल्ली: चिक्की विवाद में फंसी महाराष्ट्र की महिला बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे ने एबीपी न्यूज़ को एक्सक्लुसिव इंटरव्यू दिया है. पंकजा ने  एबीपी न्यूज़ पर कहा है कि  उन्होंने कोई घोटाला नहीं किया है इसलिए इस्तीफे का तो सवाल ही नहीं उठता.

 

पंकजा ने एबीपी न्यूज़ के दस सवालों के जवाब देते हुए कहा, “2014 दिसंबर में निर्णय लिया था कि कॉन्ट्रेक्ट को ई टेरिंग होना चाहिए था. को ई नया टेंडर निकाल रहे है उसके लिए नियम था. जो मैंने खरीदा था उसमें पहले से ही रेट कॉंट्रेक्ट था. ये अपने प्रोसिजर से हो चुके थे. कोई नया  टेंडर निकालने जा रहे थे उसके लिए ई टेंडरिंग का नियम था. पहले हम पेपर के माध्यम से टेंडर निकालते थे औऱ अब यह ऑनलाइन हो गया है.”

 

तीन लाख से ऊपर का ठेका देने के लिए ई टेंडरिंग का नियम निकाला गया था तो क्यों नहीं निकाले? इस सवाल पर पंकजा मुंडे ने कहा, “2014 दिसंबर में निर्णय लिया था कि कॉन्ट्रेक्ट को ई टेरिंग होना चाहिए था. को ई नया टेंडर निकाल रहे है उसके लिए नियम था. जो मैंने खरीदा था उसमें पहले से ही रेट कॉंट्रेक्ट था. ये अपने प्रोसिजर से हो चुके थे. कोई नया  टेंडर निकालने जा रहे थे उसके लिए ई टेंडरिंग का नियम था. पहले हम पेपर के माध्यम से टेंडर निकालते थे औऱ अब यह ऑनलाइन हो गया है.”

 

पंकजा ने आगे बताया, “जो रेट कॉन्ट्रैक्ट है उसके  बारे में भी ई टेंडरिंग से निर्णय लिया जाए ये नियम अप्रैल में आया है और मैंने फरवरी में निर्णय लिया था.”

 

आपने टैंक वाला वाटर फिल्टर क्यों चुना जो कि पांच हजार का था जबकि साढ़े चार हजार वाला फिल्टर भी आप ले सकती थीं.? इस सवाल पर  पंकजा मुंडे ने कहा, “जब से मैं मिनिस्टर बनी हूं कोई नया रेट कॉन्ट्रैक्ट नहीं बनाया है. डिपार्टमेंट की तरफ से जो फाइल मेरे पास आई उसमें सुझाव था आंगन बाड़ी के पास कंटेनर उपलब्ध नहीं है. इसके बाद मैंने कंटेनर के साथ वाला सामूहिक रूप से निर्णय लिया गया.”

 

पकंजा मुंडे ने कहा, “यहां कोई ऐसा नहीं है कि मैंने कुछ नई चीज जोड़ के खऱीदा है. हमें दोनों विकल्पों में से चुनना था और ये सामूहिक निर्णय था. इसमें कुछ गलत नहीं है.”

 

जिस एनजीओ से चिक्की नहीं लेने का आदेश था  फिर वहीं से चिक्की क्यों ले गई? इस सवाल पर पंकजा मुंडे ने सफाई देते हुए कहा, “गलतफहमी कीवजह से ये सब बवाल उठ रहे हैं. मैंने पूरा जानकारी ली है. कोई रिटेन इविडेंस नहीं है. विपक्ष के पास कोई प्रूफ नहीं है. मैंने डिपार्टमेंट से  पूछा भी था कि अगर ऐसा कुछ मुद्दा था तो मुझे बताया क्यों नहीं गया. जब मैंने ये फैसला लिया था तब मेरे पास ऐसी कोई जानकारी नहीं थी और अब भी नहीं है.”

 

यहां देखें पूरा इंटरव्यू-

 

ABP न्यूज पर पंकजा मुंडे ने कहा- गलती नहीं तो इस्तीफा क्यों? 

 

 

क्या है पूरा विवाद?

महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे पर 206 करोड़ के घोटाले का आरोप लग रहा है. उन पर आरोप है कि उन्होंने कायदे कानून को ताक पर रखकर अपनी पसंद की कंपनियों को स्कूल में खाना सप्लाई करने का ठेका दिया है. कांग्रेस ने इस मुद्दे पर पंकजा मुंडे से इस्तीफा मांगा है वहीं पकंजा मुंडे ने सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है.

 

दरअसल पंकजा मुंडे के मंत्रालय में एक ही दिन में 206 करोड़ की खरीददारी हुई है जिसमें आदिवासी छात्रों के लिए चिक्की, किताबें, वॉटर फिल्टर जैसी चीजें खरीदी गईं. बाद में खुलासा हुआ कि ये सारी खरीददारी बिना किसी टेंडर के हुई है जबकि राज्य सरकार के नियम के मुताबिक एक लाख से ऊपर की सरकारी खरीद के लिए ई टेंडर निकालना जरुरी है.

 

कांग्रेस ने पंकजा मुंडे के मामले की शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो से की है और उसका दावा कि पंकजा के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं. दूसरी तरफ दिवंगत गोपनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे ने इस मुद्दे पर सफाई देते हुए कहा है कि महिला और बाल विकास मंत्रालय में जो खरीददारी की गई है वो केंद्र सरकार के डायरेक्टर जनरल ऑफ सप्लाईज एंड डिस्पोजल्स के नियमों के अनुसार किया गया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Exclusive Interview: Pankaja Munde says took bold decision, no chance of resigning
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017