अब भोपाल के परिवार ने गीता को अपनी बेटी बताया

By: | Last Updated: Friday, 8 January 2016 4:45 PM
Family from bhopal claims Geeta is their daughter

इंदौर: पाकिस्तान में दशक भर से ज्यादा वक्त गुजारने के बाद अक्तूबर में भारत लौटी गीता को अपनी बेटी बताते हुए भोपाल के एक परिवार ने इंदौर के जिला प्रशासन से इस मूक.बधिर लड़की से मुलाकात की मंजूरी मांगी है.

प्रशासन के एक आला अधिकारी ने आज ‘पीटीआई.भाषा’ को बताया, ‘भोपाल जिले के निवासी रणजीत सिंह और उनकी पत्नी माया ने हमें कल आवेदन देकर दावा किया है कि गीता और कोई नहीं बल्कि उनकी बेटी प्रीति है, जो करीब 27 साल पहले रेल यात्रा के दौरान उनसे बिछड़ गयी थी.’

उन्होंने बताया कि गीता से मुलाकात के इच्छुक इस परिवार के आवेदन की जांच की जा रही है. जांच के बाद इसे केंद्र सरकार को भेजा जायेगा. केंद्र सरकार ही तय करेगी कि इस महिला को गीता से मुलाकात की मंजूरी दी जाये या नहीं.

जिला प्रशासन को अब तक पांच ऐसे परिवारों के आवेदन मिल चुके हैं, जिन्होंने गीता को अपनी बेटी बताते हुए उससे मुलाकात की मंजूरी मांगी है. ये आवेदन भी केंद्र सरकार को भेज दिये गये थे. लेकिन इस मूक.बधिर लड़की के परिवार का अब तक पता नहीं चल सका है.

गीता 7.8 साल की उम्र में पाकिस्तानी रेंजर्स को समझौता एक्सप्रेस में लाहौर रेलवे स्टेशन पर मिली थी. उसे ईदी फाउंडेशन की बिलकिस ईदी ने गोद लिया और अपने साथ कराची में रखा था.

पाकिस्तान में दशक भर से ज्यादा वक्त गुजारने के बाद गीता 26 अक्तूबर को भारत वापस लौटी थी. गीता इन दिनों जिला प्रशासन की निगरानी में एक स्थानीय मूक.बधिर संगठन के आवासीय परिसर में रह रही है. वह इस परिसर में तब तक रहेगी, जब तक सरकार उसके परिवार को खोज नहीं लेती.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Family from bhopal claims Geeta is their daughter
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: geeta Pakistan
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017