सरेआम जिसकी मौत का नजारा देखते रहे अब उसके लिए केजरीवाल ने दिए मजिस्ट्रेट जांच के आदेश

By: | Last Updated: Wednesday, 22 April 2015 9:02 AM
farmer suicide

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की जंतर मंतर पर रैली के दौरान एक किसान गजेंद्र ने खुदकुशी कर जान दे दी है.

जैसे ही केजरीवाल जंतर मंतर पर रैली को संबोधित करने के लिए आए, गजेंद्र एक पेड़ पर चढ़ गया और अपने गमछे को ही फांसी का फंदा बना लिया. आनन फानन में कुछ लोग पेड़ पर चढ़ें और गजेंद्र को पेड़ से उतारा. गजेंद्र को राममनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया. लेकिन उसने रास्ते में ही दम तोड़ दिया.  दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पूरे मामले की मजिट्रेट जांच के आदेश दिए हैं. साथ ही देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह दिल्ली पुलिस से पूरे मामले की जांच करने को कहा है.  

कौन था जान देने वाला किसान गजेंद्र राजपूत? 

‘घर में खाने के लिए कुछ नहीं था’

 

गजेंद्र ने सुसायड नोट भी छोड़ा है जिसमें लिखा है, “मैं राजस्थान के दौसा का रहने वाला हूं और मेरे तीन बच्चे हैं. घर में खाने के लिए कुछ नहीं था.  मेरी फसल बर्बाद हो गई है. पिता ने घर से बाहर निकाल दिया है.”

केजरीवाल की रैली में खुदकुशी की कोशिश

इस बड़े हादसे के बाद भी अरविंद केजरीवाल की रैली जारी रही. हालांकि, जब अरविंद केजरीवाल रैली को संबोधित करने आए तो उन्होंने पुलिस पर आरोप लगाया कि उसने खुदकुशी करने वाले शख्स को बचाने की कोशिश नहीं की.

केजरीवाल का कहना था कि दिल्ली पुलिस उनके अख्तियार में नहीं है, लेकिन उसे भगवान का भी डर नहीं है. ये समझ से परे है कि क्यों दिल्ली पुलिस ने उस शख्स को बचाने की कोशिश नहीं की.

 

गजेंद्र को देखने के लिए रैली खत्म होने का इंतजार

 

गजेंद्र ने अस्पताल जाते वक्त दम तोड़ दिया, लेकिन सीएम अरविंद केजरीवाल ने गजेंद्र को देखने के लिए अपनी रैली के खत्म होने का इंतजार किया. जब रैली खत्म हुई तब केजरीवाल राममनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचे.

 

अब सवाल है कि आखिर किसान ने डेढ़ बजे खुदकुशी की, लेकिन आप के नेता और केजरीवाल क्यों 2.47 मिनट तक रैली को संबोधित करते रहे?

 

सवाल है कि आखिर केजरिवाल ने गजेंद्र को देखने जाने के लिए क्यों रैली खत्म होने का इंतज़ार किया?

 

भाषण से सस्ती जान

 

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने आरोप लगाया है कि अगर रैली रोक दी जाती तो किसान की जान बचाई जा सकती है. पायलट का आरोप है कि किसी ने उस बचाने की कोशिश नहीं की.

 

कांग्रेस नेता अजय माकन भी गजेंद्र को देखने के लिए अस्पताल पहुंचे. अस्पताल पहुंचने के बाद अजय माकन ने एबीपी न्य़ूज़ से कहा कि गजेंद्र की हालत बहुत ही नाज़ुक है.

 

अजय माकन ने कहा, “अस्पताल में अंदर गया था. मैं वहां की हालत बता नहीं सकता. मैं बहुत दुखी हूं, हालत गंभीर है.”

 

केजरीवाल की रैली में किसान ने दी फांसी लगाकर जान, आप नेता भाषण देते रहे

15 मिनट पेड़ पर रहे गजेंद्र की सांसे 1 मिनट में उखड़ गई

केजरीवाल का झूठ: जब भाषण दे रहे थे, तब मर चुके किसान को जिंदा बता रहे थे

कौन था जान देने वाला किसान गजेंद्र राजपूत? 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: farmer suicide
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017