फोर्टिस अस्पताल में आद्या की मौत: केंद्र ने कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया

फोर्टिस अस्पताल में आद्या की मौत: केंद्र ने कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया

आद्या की मां ने बताया कि अस्पताल ने उन्हें गुमराह किया और बच्ची की मौत के बाद कफन के लिए 700 रुपये तक मांगे गए.

By: | Updated: 23 Nov 2017 07:03 AM
Fortis case:Haryana govt orders probe; hospital refutes charge

नई दिल्ली: गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल में डेंगू से 7 साल की बच्ची की मौत के मामले में आद्या के माता-पिता आज जांच कमेटी से मिलेंगे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने हरियाणा सरकार को दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है.


आद्या को 31 अगस्त को डेंगू के इलाज के लिए फोर्टिस अस्पताल में भर्ती किया गया था, उस वक्त बच्ची पूरी तरह होश में थी. लेकिन दो दिन बाद ही उसे वेंटिलेटर पर रख दिया गया, करीब 13 दिनों तक उसी हालत में रखने के बाद जब परिवार ने एमआरआई करने का दबाव डाला तो डॉक्टरों ने खुद माना कि बच्ची को बचाया नहीं जा सकता.


अपताल ने बिल में 4 लाख की दवाइयों का खर्चा बताया है मतलब आद्या को हर दिन 26 हजार की दवाएं दी गईं. 2700 दस्ताने का मतलब इलाज के लिए हर घंटे 7 दस्तानों का इस्तेमाल किया गया. 600 सीरिंज का मतलब एक दिन में 40 सीरिंज इस्तेमाल हुईं. इतना ही नहीं जो दवाई बाजार में 500 रुपए की है बिल में उसके 3000 रुपए वसूले गए.


इस मामले में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने कड़ी कार्ऱवाई के आदेश दिए थे. फोर्टिस अस्पताल की कथित लापरवाही मामले में आज आद्या सिंह के माता- पिता हरियाणा सरकार की गठित जांच कमेटी से मिलेंगे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Fortis case:Haryana govt orders probe; hospital refutes charge
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात चुनाव पर पाकिस्तान का बड़ा बयान, ‘हमें न घसीटो, अपने दम पर जीतो’