व्यक्ति विशेष: वोटों की गुल्लक भरने के लिए ‘हथियार’ बनी ‘गाय’?

By: | Last Updated: Saturday, 10 October 2015 4:10 PM

जोशीला लहजा, इमोशन में लिपटी हुए जुबान और आम जनता से संवाद करने का सधा हुआ अंदाज. बड़ी-बडी बातों और मुद्दों को बेहद आसान शब्दों में जनता तक पहुंचाने की पीएम नरेंद्र मोदी की ये महारत ही उन्हें दूसरे नेताओं से आगे ले जाती है. उनकी भाषा का ठेठ देसी अंदाज सुनने वालों के जहन पर सीधी चोट करता है और चुनावी माहौल में मोदी की यही चोट सीधे वोट में तब्दील होती रही है. बिहार विधानसभा चुनाव में प्रधानमंत्री मोदी ने एक बार फिर विकास के उसी मुद्दे को हवा दी जो 2014 के लोकसभा चुनाव से ही वो दोहराते रहे हैं लेकिन वोटिंग का वक्त करीब आते ही बिहार चुनाव में अब गोमांस के मुद्दे ने आग पकड़ ली है. बिहार के चुनावी मैदान में गोमांस के मुद्दे पर संग्राम छिड़ चुका है. एक तरफ आरजेडी प्रमुख लालू यादव गोमांस के मुद्दे को लेकर बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं तो वहीं मोदी भी इसी मुद्दे को लेकर उन पर पलटवार कर रहे हैं.

 

गौहत्या के मुद्दे को लेकर क्या रची जाती है साजिशें और गौमांस को लेकर क्यों छिड़ता रहा है विवाद?

 

दादरी हत्याकांड पर मचे राजनीतिक घमासान के बीच पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब चुप्पी तोड़ी तो उनके निशाने पर वो राजनेता थे जो दादरी हत्याकांड के बाद टीवी के परदों पर भड़काऊं बयानबाजी करके अपनी राजनीति चमकाते नजर आए थे. बिहार के नवादा में चुनावी रैली में बोलते हुए मोदी ने कहा कि हिंदू और मुसलमानों को एक दूसरे से लड़ने की बजाए साझा दुश्मन गरीबी से लड़ने पर ध्यान देना चाहिए और नेताओं के गैरजिम्मेदाराना बयानों पर ध्यान नहीं देना चाहिए. पिछले दिनों उत्तर प्रदेश के दादरी में गोमांस खाने की अफवाह के बाद अखलाक नाम के शख्स की पीट – पीट कर हत्या कर दी गई थी और इसके बाद से ही गोमांस और गाय के मुद्दे को लेकर देश की राजनीति तवे की तरह गर्म हो गई है.

 

राजनीति की दुनिया के अपने ही कायदे और कानून होते है इसीलिए विकास के मुद्दे पीछे छूट जाते हैं और राजनीति के मैदान में गाय को वोट बनाकर राजनीति करने वाले नेता दोनों तरफ खड़े नजर आते हैं. जाहिर है बिहार के चुनावों में भी गाय की चाल चल दी गई है. क्योंकि राजनेता ये खूब समझ रहे हैं कि जब मांस का एक टुकड़ा सैकड़ों का दिमाग फेर सकता है तो पूरी गाय वोटों का अंबार भी लगा सकती है. दरअसल गाय हिंदुओं की आस्था का प्रतीक रही है इसीलिए देश के कई राज्यों में सरकारों ने गौहत्या पर प्रतिबंध लगा रखा है लेकिन आज गौमांस का ये मुद्दा धर्म और राजनीति का एक नया हथियार बन चुका है. हांलाकि देश में गोहत्या और गोमांस के मुद्दे को सांप्रदायिक रंग देने और उसको एक राजनीतिक मुद्दा बनाने का इतिहास भी पुराना रहा है.

 

अब कभी अखलाक नहीं लौटेगा. दरवाजे पर भी अब उसकी आवाज सुनाई नहीं देगी और एक मां अपने बेटे की मौत की उन खौफनाक यादों के साथ जीने को मजबूर होगी जो एक भयानक सपना बन कर जिंदगी भर उसका पीछा करती रहेगी. अखलाक का जैसा नाम था. वैसा ही उसका मिजाज भी था. सबसे मिल-जुल कर रहने वाले अखलाक के घर पर ईद और बकरीद पर मेहमानों और पड़ोसियों का तांता लगता था. ईद के मौके पर जब दावतों का दौर चलता तो गांव के मुसलमान ही नहीं हिंदू भाई भी उसका लुत्फ उठाते थे लेकिन सोमवार की उस रात को ना जाने क्या हुआ कि अखलाक के वो दोस्त ही उसकी जान के दुश्मन बन गए.

उस रात नोएडा के इस बिसाहड़ा गांव में लाउडस्पीकर से एक आवाज गूंजी जो देखते– ही देखते एक ऐसी वहशी भीड़ में तब्दील हो गई जिसने अखलाक की बरसों की मोहब्बत और भाई-चारे को उसके ही खून से लाल कर दिया. 52 साल के अखलाक को उन्हीं हाथों ने बेरहमी से पीट – पीट कर मार डाला जो हाथ कभी उनसे दोस्ती से मिला करते थे. टूटा हुआ दरवाजा….ये बिखरा हुआ खून आंखों से बहते ये आंसू और घर के कोने – कोने में फैले तबाही के ये निशान उस खौफनाक मंजर के गवाह है जिसे सुन कर किसी की भी रुंह तक कांप जाए. अखलाक के गांव में फैली गौहत्या की अफवाह ने तबाही का एक ऐसा तांडव मचाया है जिसकी गूंज पूरी दुनिया में सुनाई दे रही है.

 

अखलाक की मां असगरी बेगम ने बताया कि उन्होंने किया क्या सोचकर मेरे बच्चे के साथ उसे मार दिया औऱ मुझे तड़पाने को क्यों छोड़ दिया? मैं इससे ज्यादा क्या बयान करुं जिस बच्चे को मैंने 29 साल से पाला था उसके कान भी न है कनपटी भी न है.

 

सोमवार की वो रात असगरी बेगम और उनके परिवार पर कयामत की तरह गुजरी है. अपने बेटे अखलाक को अपनी ही आंखों के सामने उन्होंने तड़प – तड़प कर मरते हुए देखा है. उनका पूरा परिवार मदद के लिए चीख रहा था लेकिन पड़ोसी हाथ बांधे खड़े थे और वहशी भीड़ अखलाक के मुर्दा जिस्म पर वार पर वार किए जा रही थी. 68 साल की असगरी बेगम उस घड़ी को याद कर बिलख उठती हैं जिस वक्त कई लोगों ने एक साथ उनके घर पर हमला बोल दिया था.

एक खूनी अफवाह और अखलाक के कत्ल की ये खौफनाक दास्तान उत्तर प्रदेश के शहर ग्रेटर नोएडा के बिसहाड़ा गांव की है. दिल्ली से चंद किलोमीटर के फासले पर बसे बिसाहड़ा गांव में 52 साल के अखलाक अपने भरे – पूरे परिवार के साथ रहते थे. लेकिन सोमवार की रात अखलाक के परिवार पर कहर बन कर टूटी. अखलाक को बेरहमी से पीट – पीट कर मार दिया गया जबकि उनका जवान बेटा अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच झूल रहा है. अखलाक की पत्नी, मां और बेटी को भी दरिंदगी से पीटा गया और ये वारदात सिर्फ इसलिए अंजाम दी गई क्योंकि उस रात गांव में ये अफवाह फैला दी गई थी कि अखलाक अपने घर में गाय का मांस पका कर खा रहा है.

 

अखलाक ने गौहत्या की या नहीं ये बात तो अभी मालूम नहीं है लेकिन गौहत्या के नाम पर उसे जरुर मार दिया गया. अखलाक की हत्या की ये पूरी दर्दनाक और सोचने पर मजबूर कर देने वाली कहानी भी हम सुनाएंगे आपको आगे लेकिन उससे पहले बात गौहत्या और गौमांस के उस मुद्दे की जिसके लिए अखलाक मार दिया गया.

 

गौहत्या के इल्जाम में अखलाक की हत्या जितनी डरावनी और चौंकाने वाली है उतनी ही परेशान करने वाली वो प्रतिक्रियाएं भी हैं जो उसकी मौत के बाद सामने आई हैं. दरअसल गाय हिंदुओं की आस्था का प्रतीक रही है इसीलिए देश के कई राज्यों में सरकारों ने गौहत्या पर प्रतिबंध लगा रखा है लेकिन आज गौमांस का ये मुद्दा धर्म का एक नया हथियार बन चुका है. हालांकि देश में गौहत्या और गौमांस के मुद्दे को सांप्रादिक रंग देने और उसको एक राजनीतिक मुद्दा बनाने का इतिहास भी पुराना रहा है. गाय के उस इतिहास की भी परते हम खोलेंगे आगे लेकिन उससे पहले ये जान लीजिए की गौमांस का ये मुद्दा कैसे बन गया है धर्म का नया हथियार.

 

आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा बताते हैं कि इस देश की वर्तमान दोनों में जो एक प्रतीक के रुप में जो आस्था से जोड़ती है उसमें एक गाय है और इसी कारण से गाय के संबंध में लंबे समय से विमर्श शुरु हुआ जब कुछ खास लोगों ने गाय के मांस को अपनी फूड हैविट का अनिवार्य अंग बना लिया और गौ हत्या शुरु कर दी. हिन्दू समाज कभी भी गौ हत्या के पक्ष में नहीं रहा है.  तो सवाल बीफ खाने पर नहीं है जिनको बीफ खाना है वो बीफ खा सकते हैं हम गाय का कत्ल इस देश में नहीं होने देना चाहते हैं. गाय हमारी आस्था भी है और गाय हमारी संस्कृति की प्रतिक भी है.

 

गाय किसी की नजर में मां है, तो किसी के लिए भोजन और किसी के लिए सिर्फ एक जानवर है. गाय और गौवंश को लेकर ये अलग – अलग नजरिया हमेशा से विवाद का विषय रहा है. चूंकि इस मुद्दे के साथ धार्मिक भावनाएं जुड़ी है इसीलिए इसको लेकर राजनीति भी खूब होती रही है. चंद महीने पहले ही महाराष्ट्र और हरियाणा की बीजेपी सरकारों ने गौवंश हत्या पर रोक का कानून बना कर इस मुद्दे को एक बार फिर हवा दे दी है. दरअसल गाय को मां और ममतामयी कहा गया है उसके दूध से लेकर उसके गोबर तक को लाभकारी बताया गया है लेकिन वहीं गाय किसी का भोजन भी बन सकती है इसका जिक्र कभी नहीं होता है लेकिन हकीकत यही है कि देश में एक बड़ा वर्ग जहां गाय को मां मान कर उसकी पूजा करता है वहीं देश के कई हिस्सों में वही गाय प्लेटों में परोसी भी जाती रही है.

 

आमतौर पर गौहत्या और गौमांस के मामले को सांप्रदायिक बनाते हुए हिंदू – मुस्लिम रंग देने की कोशिश की जाती है. लेकिन हिंदुस्तान में बीफ यानी गाय, बैल, सांड़ और भैंस का मांस खाने वाले सिर्फ मुसलमान हों ऐसा भी नहीं है. कई आदिवासी जनजातियों, दलितों और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए बीफ उनके रोजाना भोजन का हिस्सा है और इसकी बड़ी वजह बीफ का दूसरे मांस की तुलना में सस्ता होना है. जानकारों के मुताबिक बीफ में सब्जियों या किसी अन्य मांस से ज्यादा प्रोटीन होता है और चूंकि बकरे और दूसरे जानवरों के मांस महंगे होते हैं इसलिए जो गरीब या पिछड़े वर्ग के लोग मांसाहारी हैं उनके लिए बीफ खरीदना आसान होता है. इसीलिए गौमांस के मुद्दे पर अक्सर ये सवाल भी उठता रहा है कि क्या लोगों को इस बात की आजादी नहीं होनी चाहिए कि वो क्या खायें और क्या नहीं?

 

आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा बताते हैं कि जिनको जो खाना है वो एक्सपोर्ट करके खा सकते हैं इंपोर्ट करके खा सकते हैं बाहर जाकर खा सकते हैं. किसी को ये निर्देशित नहीं किया जा सकता है आरोपित नहीं किया जा सकता है कि आप मत खाओ हम तो सिर्फ इतनी ही बात कहते हैं कि गौहत्या नहीं होनी चाहिए गाय को लोग माता के रुप में हजारों साल से पूज रहें हैं. मां मानते हैं और सुबह उठ कर पहले गाय को खाना खिलाते हैं तो उस गाय की अगर पड़ोस में कोई हत्या करे तो स्वभाविक है समाज की सद्भावना और समाज की विरासत दोनों ही सवालों के घेरे में आती है.

 

धार्मिक आस्था और खाने की आजादी के बीच की इस बहस का इतिहास पुराना है. अधिकांश हिंदुओं के लिए गाय और बैल पूज्यनीय है. लेकिन यह सवाल भी उठता रहा है कि क्या हिंदू हमेशा से ही ऐसा मानते थे यानी क्या हिंदुओं में कभी भी गोमांस खाने का रिवाज नहीं था?

 

हिंदू कृष्ण भगवान की पूजा करते हैं और मान्यताओं के अनुसार कृष्ण गायों को पालते और उनकी सेवा करते थे. वहीं बैल को भगवान शिव का वाहन माना जाता है और उसी बैल के नंदी स्वरूप की पूजा आज भी होती है. इस तरह गाय और बैल हिंदूओं की धार्मिक आस्थाओं से जुड़े हुए हैं. लेकिन The myth of holy cow  नाम की किताब लिखने वाले इतिहासकार डी एन झा के मुताबिक यह धारणा बिल्कुल गलत है कि हिंदू कभी भी गोमांस नहीं खाते थे. उनके मुताबिक वैदिक काल में न सिर्फ गाय और बैल की बलि दी जाती थी बल्कि खास मौकों पर गोमांस खाया भी जाता था.

 

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के विचारक राकेश सिन्हा बताते हैं कि जहां तक वेदों की बात है औऱ जो डी एन झा कहते हैं वो तथ्यों को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत करते हैं वेदों की अनेक श्लोकों का अनेक तरह से व्याख्या की गई है औऱ कुछ मॉर्क्सवादी इतिहासकारों को वही व्याख्या अच्छी लगती है जिसमें भारत की विरासत औऱ भारत की संस्कृति पर धब्बा लगे और वर्तमान में जो आस्था है उसपर चोट पहुंचाई जा सके वस्तुत: ये सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के विरोधी है. सांस्कृतिक राष्ट्रवाद को डीकंस्ट्रक्ट करना चाहते हैं औऱ डीकंस्ट्रक्ट करने के लिए जितने आयाम हैं उसको पहले डीकंस्ट्रक्ट करना पड़ता है उसमें गाय भी एक आयाम है.

 

सदियों से गौमांस का मुद्दा विवादों में घिरा रहा है लेकिन ये सिर्फ आस्था से ही जुड़ा मुद्दा नहीं है बल्कि भारत के संविधान के नीति निर्देशक सिद्धांतों में गोरक्षा की बात कही गयी है. लेकिन भारत के संविधान के निर्माता कहे जाने वाले डॉक्टर भीम राव आबेंडकर ने अपनी किताब – अछूत कौन थे और वो अछूत क्यों बने में एक निबंध लिखा – क्या हिंदुओं ने कभी गोमांस नहीं खाया ? इस निबंध के मुताबिक वेदों में गाय को पवित्र जरूर कहा गया है लेकिन साथ ही गाय की बलि और गोमांस खाने के प्रमाण भी मौजूद हैं.

 

हिंदू धर्म को अमेरिकी धर्म संसद तक ले जाने वाले स्वामी विवेकानंद ने साल 1900 में कैलिफोर्निया में दिए एक लेक्चर में भी कुछ ऐसा ही जिक्र किया. विवेकानंद के मुताबिक पुराने रीति रिवाजों के मुताबिक जो बीफ नहीं खाता था वो अच्छा हिंदू नहीं था.

 

इतिहास के इन दावों पर विवाद आज भी जारी है लेकिन जानकारों के मुताबिक पांचवी और छठी शताब्दी से खेती में गाय और बैलों का महत्व बढ़ने लगा. उसके बाद से ही गोरक्षा का समर्थन भी बढ़ने लगा. गाय को लेकर हिंदुओं की आस्था का सम्मान करते हुए मुगल बादशाह बाबर से लेकर अकबर और जहांगीर तक ने गोहत्या पर पाबंदी लगाई.

 

ऐसा माना जाता है कि गौहत्या के एक राजनीतिक मुद्दा बनने की शुरूआत भारत में अंग्रेजों के आने के बाद हुई थी. और आज भी गौमांस का मुद्दा एक बेहद संवेदनशील मुद्दा बना हुआ है. एक ऐसा मुद्दा जिसके नाम पर ना जाने कितने अखलाक मारे जा चुके हैं. कैसे गौहत्या के इल्जाम में बिसहड़ा गांव के अखलाक का भी हुआ था कत्ल?

 

उत्तर प्रदेश के नोएडा का बिसहड़ा गांव. इस गांव में करीब दो हजार परिवार रहते हैं लेकिन इस इन दिनों गांव की गलियों में हर रोज की तरह चहल – पहल नहीं है. गांव के सिर्फ एक घर के बाहर लोगों का हुजूम लगा है. सरकारी अधिकारियों, पुलिस, मीडिया और नेताओं के जमावड़े के बीच ये अखलाक का घर है जहां पिछले पांच दिनों से मातम का माहौल है. सोमवार को गोहत्या की अफवाह के बाद हुई हिंसा में अखलाक की हत्या कर दी गई थी. सोमवार रात करीब साढे दस बजे जब भीड़ ने अखलाक के घर पर हमला बोला था उस वक्त घर में अखलाक के अलावा उनकी पत्नी, मां, बेटी और बेटा दानिश भी मौजूद था. गुस्साई भीड़ ने किसी को भी नहीं बख्शा. पूरे परिवार को बेरहमी से पीटा गया और अखलाक को पीट – पीट कर मार डाला गया. 

 

अखलाक और उसके परिवार के साथ जिस वारदात को अंजाम दिया गया. उसके पीछे एक खूनी अफवाह थी. दरअसल गोहत्या और गोमांस खाने की ये अफवाह फैलाने के लिए गांव के ही कुछ लड़कों ने इस शिव मंदिर में लगे लाउडस्पीकर का सहारा लिया था.

आरोप है कि मंदिर से लाउडस्पीकर पर ये अफवाह फैलाई गई थी कि गांव में गाय की हत्या कर दी गई है. इसके बाद गांव वालों को एक जगह इकट्ठा होने के लिए कहा गया था. मंदिर के महंत का भी ये कहना है कि दो लड़कों के कहने पर उन्होंने लाउडस्पीकर से अनाउंटमेंट किया था. हांलाकि वो इस बात से इंकार करते हैं कि उन्होंने किसी का नाम लेकर लोगों को भड़काया था.

 

सोमवार रात लाउडस्पीकर से निकली गोहत्या की अफवाह के बाद गुस्साई भीड़ ने अखलाक के घर पर हमला बोल दिया था. गलियों से होते हुए भीड़ अखलाक के घर तक जा पहुंची और इससे पहले की कोई कुछ समझ पाता, गुस्साई भीड़ ने घर में घुस कर अखलाक और उसके परिवार को मारना पीटना शुरू कर दिया. भीड़ में शामिल युवकों ने महिलाओं और बुजुर्गों को भी नहीं बख्शा. शाइस्ता की माने तो उस भीड़ में ऐसे भी लोग शामिल थे जिन्होंने कुछ दिनों पहले ही ईद पर साथ बैठ कर सेवईयां खाई थीं लेकिन गौहत्या की एक अफवाह ने उन्हें भी उनका दुश्मन बना दिया.

 

एक अफवाह के बाद टूटे विश्वास से अखलाक के परिवार को हिला कर रख दिया है वो अब इस गांव में नहीं रहना चाहता. इसी गली में रहने वाला इलियास का परिवार भी गांव छोड़ देना चाहता है. जो बिसहड़ा गांव कभी हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल था. आज उस पर अविश्वास का घना साया है. गांव के बुजुर्ग बताते हैं कि यहां बरसों से हिंदू और मुसलमान भाई-भाई की तरह रहते आए हैं. डेढ़ सौ साल पुरानी गांव की ये मस्जिद भी इस बात की गवाह है जिसे गांव के हिंदू और मुसलमानों ने मिलकर बनाया था लेकिन अखलाक की हत्या ने एकता की तहजीब पर ही मानों सीधी चोट कर दी है.

बिसहड़ा गांव में रहने वाले करीब 25 मुसलमान परिवारों का विश्वास हिला हुआ है. लेकिन गोहत्या और गोमांस खाने को लेकर विवाद और वारदात का देश में ये पहला मामला नहीं है. गोहत्या को सांप्रदायिक रंग देने का इतिहास पुराना रहा है. ऐसा  माना जाता है कि गोहत्या को राजनीतिक मुद्दा बनने की शुरूआत देश में अंग्रेजों के आने के बाद हुई थी. भारत में ब्रिटिश हुकूमत की शुरूआत करने वाले रॉबर्ट क्लाइव ने 1760 में कोलकाता में पहला बूचड़खाना बनवाया. इसी के साथ शुरूआत हुई उस कारोबार की जिससे आज भी लाखों लोगों की रोजी – रोटी चलती है. इन बूचड़खानों में काम करने के लिए गरीब मुसलमानों को रखा गया. इस तरह से गोहत्या के मुद्दे ने सांप्रदायिक रंग ले लिया.

 

धार्मिक आस्थाओं को लेकर अंग्रेज सरकार के इसी रवैये का नतीजा 1857 का विद्रोह था तब भारतीय सैनिकों ने जानवरों की चर्बी से लैस कारतूस का इस्तेमाल करने से इंकार कर दिया और इसके बाद से ही गोरक्षा का मुद्दा एक अभियान के तौर पर चलाया जाने लगा. हिंदू संगठनों ने गोरक्षा समितियां बनानी शुरू कीं. स्वामी दयानंद सरस्वती ने देश भर में घूम कर गौहत्या रोकने की अपील की. धीरे -धीरे इस मुद्दे पर हिंदू और मुसलमानों के बीच की दूरियां बढ़ने लगीं और गोरक्षा के मुद्दे पर पहली बार 1893 में आजमगढ़ में सांप्रदायिक दंगा भी हुआ था.

 

विभाजन के काल में गाय को सांप्रदायिकता से जोड़कर देखा गया और गाय को लेकर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण कराने की कोशिश मुस्लीम लीग ने की थी इसलिए दंगा कराने के लिए गौमांस को मंदिरों में फेंकना गाय की हत्या करना ये एक प्रवृत्ति थी वो प्रवृत्ति उपनिवेशवाद के बाद स्वतंत्र भारत में भी कुछ हद तक जारी रही बहुत लोगों को ये रिएलाइज हुआ कि ये सांस्कृतिक प्रतिक है और इसके साथ हम ऐसा व्यवहार करें जो अपने सांस्कृतिक प्रतिकों के साथ पूरी दुनिया में व्यवहार होता है.

 

अंग्रेज शुरूआत से ही भारत में हिंदू और मुसलमानों के बीच फूट डालने की रणनीति पर चल रहे थे और गौहत्या का मुद्दा उनकी इसी योजना का हिस्सा था. महात्मा गांधी ने हमेशा गोहत्या का विरोध किया था. जब देश आजाद हुआ तो संविधान में भी राज्य के नीति निर्देशक सिद्धांतों के तहत गोरक्षा की बात कही गयी. जिसके बाद देश के कई राज्यों ने गौहत्या पर रोक लगाने के लिए कानून बनाये. लेकिन हिंदू संगठन पूरे देश में गौहत्या पर रोक की मांग कर रहे थे. इसी के तहत 1966 में देश भर से आये साधु संतों और हिंदू संगठन के लोगों ने संसद का घेराव भी किया था.

 

राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के विचारक राकेश सिन्हा बताते हैं कि संविधानसभा में बहस चल रही थी तो गांधीवादियों नें जिस ढ़ग से गौ हत्या पर पाबंदी की मांग की और महात्मा गांधी जी का जो आग्रह था गौहत्या पर प्रतिबंध का तो संविधानसभा की उस बहस में मुस्लिम लीग के एक सदस्य जेड एस लारी ने हस्तक्षेप किया और जेड एच लारी ने कहा कि गौ हत्या पर प्रतिबंध राज्य की नीति निर्देशक तत्व में नहीं रहकर फंडामेंटल राइट मौलिक अधिकारों में रखना चाहिए. इससे भ्रम दूर होगा और गौ हत्या पर प्रतिबंध इस देश की विरासत और संस्कृति के अऩुकुल लग पाएगा.

 

हिंदू संगठन आज भी यही मांग कर रहे हैं कि देश में गोवंश हत्या पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए. लेकिन इस मांग को पूरा कर पाना सरकार के लिए ना तब आसान था और ना आज आसान है. और इसकी सबसे बड़ी वजह इससे जुड़ा कारोबार है. मांस और चमड़े के इस कारोबार से न सिर्फ लाखों लोगों का रोजगार जुड़ा है बल्कि इसके निर्यात से सरकार को भी विदेशी मुद्रा मिलती है.

 

भारत आज दुनिया में बीफ का सबसे बड़ा निर्यातक देश है.

 

बीफ और गौमांस के बीच अहम फर्क क्या है?

 

अंग्रेजी के शब्द बीफ का मतलब आम तौर पर गाय के मांस से लगा लिया जाता है जबकि ये सही नहीं है. गाय, बैल, सांड, भैंस, भैंसा के मांस को मिले जुले तौर पर बीफ कहा जाता है. यानी अगर को बीफ खाने की बात कह रहा है तो इसका मतलब ये नही है कि वो गाय का ही मांस खा रहा है. 

 

भारत दुनिया में बीफ का सबसे बड़ा निर्यातक जरूर है लेकिन भारत में इसकी खपत सिर्फ 3.8 फीसदी ही है. यानी हमारे यहां कुल बीफ उत्पादन का बड़ा हिस्सा विदेशों में भेजा जाता है और इसीलिए इसने एक बड़े कारोबार की शक्ल ले ली है. लेकिन जिस गोमांस को लेकर सारा विवाद है, क्या उसका इस कारोबार से कोई लेना देना है ?

 

भारत दुनिया के 65 देशों में मांस का निर्यात करता है. लेकिन यह मांस किसका होता है? भारत में निर्यात पर नजर रखने वाले Agricultural and Processed Food Products Export Development Authority (APEDA) के मुताबिक भारत से जिन मांस उत्पादों का निर्यात किया जाता है उनमें भैंस और बकरे का मांस ही प्रमुख है. इस सूची में कहीं भी गाय, बैल या सांड़ के मांस का जिक्र नहीं है. यानी बीफ के नाम पर भारत से जो निर्यात होता है वो दरअसल भैंस का मांस है.

 

2014 में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में तेजी से बढ़ते बीफ कारोबार पर सवाल उठाए थे. मोदी के प्रधानमंत्री बनने के एक साल के अंदर ही महाराष्ट्र और हरियाणा की बीजेपी सरकार ने गौवंश हत्या पर रोक का कानून भी बना दिया. महाराष्ट्र में तो 1976 से ही गौमांस पर रोक है लेकिन अब नये कानून के तहत बैल और सांड़ के मांस पर भी रोक लगा दी गई है. लेकिन यहां समझने वाली बात यह है कि हिंदू संगठन जिस गौहत्या पर रोक की मांग करते रहे हैं वो रोक देश के ज्यादातर राज्यों में पहले से ही लागू है.

 

जम्मू –कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, उड़ीसा, तेलंगान, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, असम और आंध्रप्रदेश में गोमांस प्रतिबंधित है. हांलाकि इनमें से कुछ राज्यों में बैल और भैंस के मांस पर रोक नहीं है बशर्ते इसकी स्थानीय प्रशासन से इजाजत ली गई हो और जानवर बीमार ना हो. लेकिन देश के कुछ राज्य ऐसे भी है जहां गोमांस पर प्रतिबंध नहीं है. इनमें पश्चिम बंगाल, सिक्किम, मेघालय, त्रिपुरा, मिजोरम, मणिपुर, नागालैंड और अरुणाचल प्रदेश और केरल शामिल हैं. पश्चिम बंगाल में गाय या भैंस के मांस के लिए फिट फॉर सलॉटर होना जरुरी है हांलाकि बाकी राज्यों में इस तरह का सर्टिफिकेट जरुरी नहीं है. भारत में बीफ के निर्यात का सालाना कारोबार 25 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का है. बीफ के इस कारोबार में मुनाफा कमाने वालों में हिंदू और मुसलमान दोनो ही शामिल है यानी यह किसी एक धर्म का मामला नहीं है. महाराष्ट्र, हरियाणा या देश के किसी अन्य राज्य में गोवंश हत्या पर रोक से भारत के बीफ कारोबार पर भी कोई असर नहीं पड़ना चाहिए. यही वजह है कि नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद भी बीफ निर्यात के आंकड़े में कोई कमी नहीं आई. बल्कि इसके निर्यात से होने वाली कमाई में 14 फीसदी की बढ़ोतरी ही हुई है.

 

भारत में केरल, बंगाल और उत्तर पूर्वी राज्यों को छोड़कर लगभग सभी जगह गोहत्या पर रोक का कोई न कोई कानून मौजूद है लेकिन ये भी सच है कि पिछले कुछ सालों में गायों की संख्या में कमी आई है. 1951 में हुई पशुओं की गणना के मुताबिक भारत में गायों की तादाद कुल मवेशियों की 53.04 फीसदी थी जो 2012 में घटकर 37.28 फीसदी रह गयी. इसलिए बीफ और गोमांस के बीच फर्क और बीफ के कारोबार की तमाम चुनौतियों के बीच ये सवाल भी जिंदा है कि आखिर गायों की संख्या में यह कमी कैसे और क्यों आयी. और इस सवाल का जवाब ढूढ़ना इसलिए भी जरुरी है क्योंकि भारत में गोहत्या और गोमांस का सेवन एक संवेदनशील मुद्दा है. जिसकी जद में आकर ना जाने कितने अखलाक, मारे जा चुके है.  

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: full information on beef
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

चीन-पाकिस्तान के गठजोड़ से रहना होगा देश को सावधान : सह-सेनाध्यक्ष
चीन-पाकिस्तान के गठजोड़ से रहना होगा देश को सावधान : सह-सेनाध्यक्ष

नई दिल्ली : सेना ने एक बार फिर आगाह किया है कि हमारे दोनों दुश्मन देश चीन और पाकिस्तान का गठजोड़...

पहले सत्ता.. अब व्यवस्था परिवर्तन, तीनों शीर्ष पदों पर पहली बार बीजेपी के चेहरे
पहले सत्ता.. अब व्यवस्था परिवर्तन, तीनों शीर्ष पदों पर पहली बार बीजेपी के...

नई दिल्ली: देश के सर्वोच्च पद पर रामनाथ कोविंद के आसीन होते ही 2014 में हुआ सत्ता परिवर्तन,...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. रामनाथ कोविंद देश के 14वें राष्ट्रपति बने. सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने उन्हें...

मुंबई: घाटकोपर में गिरी बिल्डिंग, आठ की मौत, मलबे में फंसे कई लोग
मुंबई: घाटकोपर में गिरी बिल्डिंग, आठ की मौत, मलबे में फंसे कई लोग

मुंबई: मुंबई के घाटकोपर में आज चार मंजिला बिल्डिंग के ढहने से आठ लोगों की मौत हो गई और मलबे में...

सैनिकों को राशन के बदले कैश का विरोध करते हुए कर्नल ने भेजा सरकार को नोटिस
सैनिकों को राशन के बदले कैश का विरोध करते हुए कर्नल ने भेजा सरकार को नोटिस

नई दिल्ली : सैनिकों को राशन के बदले कैश देना का विरोध करते हुए सेना के एक कर्नल ने रक्षा सचिव को...

सुप्रीम कोर्ट में आधार पर नई याचिका: निजता के अधिकार का हनन है आधार
सुप्रीम कोर्ट में आधार पर नई याचिका: निजता के अधिकार का हनन है आधार

नई दिल्लीः यूनिक आइडेंटफिकेशन नंबर या आधार कार्ड योजना की वैधता को चुनौती देने वाली कई...

तमिलनाडु: मद्रास HC ने किया राज्य के सभी सरकारी-निजी स्कूलों में 'वंदे मातरम' गाना अनिवार्य
तमिलनाडु: मद्रास HC ने किया राज्य के सभी सरकारी-निजी स्कूलों में 'वंदे मातरम'...

चेन्नई: मद्रास हाई कोर्ट ने समूचे तमिलनाडु के स्कूलों में हफ्ते में कम से कम दो बार राष्ट्रीय...

अब भारत के राष्ट्रपति का आधिकारिक ट्विटर हैंडल इस्तेमाल करेंगे रामनाथ कोविंद
अब भारत के राष्ट्रपति का आधिकारिक ट्विटर हैंडल इस्तेमाल करेंगे रामनाथ...

नई दिल्ली: रामनाथ कोविंद के देश के 14वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लेने के बाद राष्ट्रपति भवन के...

भारत के पास भारी मात्रा में मौजूद है गोला-बारूद, देश न करे चिंता : रक्षा मंत्री
भारत के पास भारी मात्रा में मौजूद है गोला-बारूद, देश न करे चिंता : रक्षा...

नई दिल्ली: सेना के पास मौजूद गोला बारूद को लेकर आज राज्यसभा में आरोप-प्रत्यारोप की झड़ी लग गई....

DEPTH INFORMATION: कैसे AADHAR बना यूनीक पहचान का जरिया, कैसे PM मोदी बने मुरीद?
DEPTH INFORMATION: कैसे AADHAR बना यूनीक पहचान का जरिया, कैसे PM मोदी बने मुरीद?

नई दिल्लीः देश में आज लगभग हर काम के लिए आधार कार्ड मांगा जाता है. अब तक करीब 115 करोड़ आधार कार्ड...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017