रेल बजट 2016: ना किराया बढ़ा और ना माल भाड़ा, सुविधाएं बढ़ाने पर जोर

By: | Last Updated: Thursday, 25 February 2016 5:17 PM
full story rail budget 2016 by suresh prabhu

नई दिल्ली: वर्ष 2016-17 के लिए आज पेश रेल बजट में यात्री किराए और माल भाड़े में कोई बढ़ोतरी नहीं की गई है. रेलवे ने तीन नयी सुपरफास्ट ट्रेनें शुरू करने और वर्ष 2019 तक समर्पित उत्तर-दक्षिण, पूरब-पश्चिम और पूर्वी तटीय माल ढुलाई गलियारा बनाने की घोषणा की.

लोकसभा में अपना दूसरा बजट पेश करते हुए रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेलवे के किराए भाड़े की दरों को तर्कसंगत बनाने का वादा किया ताकि रेलवे एक आधुनिक परिवहन प्रणाली के रूप में परिवहन के अन्य साधनों से प्रतिस्पर्धा कर सके.

उन्होंने कहा कि रेलवे माल ढुलाई के क्षेत्र में और अधिक प्रकार के माल ढोने के उपाय करेगी जिससे अतिरिक्त संसाधन अर्जित किये जा सकें.

PRABHU 1

पिछले साल से हटकर रेल मंत्री ने इस बार न तो यात्री किराए में और न ही माल भाड़े की दरों में कोई छेड़छाड़ की. पिछली बार उन्होंने माल भाड़े की दरों में संशोधन किया था.

रेल बजट 2016-17 में तीन नयी सुपरफास्ट रेल गाड़ियां चलाने की घोषणा की गई है. इनमें हमसफर नाम की गाड़ियां पूरी तरह से वातानुकूलित 3एसी के डिब्बों वाली होंगी जिनमें भोजन का भी विकल्प होगा. वहीं तेजस नाम से चलाई जाने वाली नयी गाड़ियां 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलेंगी और इनमें मनोरंजन, वाईफाई तथा स्थानीय व्यंजनों जैसी सेवाएं प्रदान की जाएंगी.

इन दोनों ट्रेनों के परिचालन की लागत उनके किराए के साथ साथ दूसरे तरीकों से वसूली जाएगी. तीसरी प्रकार की ट्रेन उदय नाम से चलाई जाएगी जो दो तला होगी और इसके साथ उत्कृष्ट नाम से वातानुकूलित दो तला गाड़ियां चलाने की घोषणा की गई है.

ये दो तला गाड़ियां व्यस्त मार्गों पर चलाने की योजना है. बजट में अनारक्षित यात्रियों की सुविधा का भी ध्यान रखा गया है. रेल मंत्री प्रभु ने सुपरफास्ट अंत्योदय एक्सप्रेस सेवा शुरू करने की घोषणा की है. इसके अलावा, ऐसे यात्रियों के लिए ‘दीन दयालु’ अनारक्षित डिब्बे लगाए जाएंगे जिनमें पेयजल और मोबाइल चार्जिंग की सुविधा होगी.

उन्होंने रेल विकास प्राधिकरण के गठन की भी घोषणा की जो सेवाओं की दरों के निर्धारण में रेलवे की मदद करेगा ताकि देश की यह सबसे बड़ी परिवहन प्रणाली अपनी प्रतिस्पर्धा क्षमता बनाए रख सके. साथ ही इसके ग्राहकों के हितों की भी रक्षा हो और सेवा की दक्षता, मानक स्तर की हो.

प्रभु ने वर्ष 2016-17 में भारतीय रेलवे के लिए 1.21 लाख करोड़ रपये के योजना व्यय का प्रस्ताव किया. योजनाओं के लिए धन की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए वित्त पोषण की मिली-जुली व्यवस्था करने का प्रस्ताव है.

रेल बजट के अनुसार, अगले वित्त वर्ष में रेलवे को यातायात कारोबार से सकल राजस्व प्राप्ति 1.84 लाख करोड़ रपये रहने का अनुमान है. वर्ष के दौरान यात्री किराए से 51,012 करोड़ रपये की आय का लक्ष्य रखा गया है जो चालू वित्त वर्ष के बजट से 12.4 प्रतिशत अधिक होगा.

rail 1

रेलवे ने 2016-17 में 5 करोड़ टन अतिरिक्त माल ढुलाई का लक्ष्य रखा है और उम्मीद की है कि बुनियादी क्षेत्र के स्वस्थ विकास से यह लक्ष्य हासिल हो जाएगा. माल ढुलाई से 1.17 लाख करोड़ रपये की आमदनी होने का अनुमान है.

अन्य कोचिंग और छोटी मोटी सेवाओं से रेलवे को अगले वित्त वर्ष में क्रमश: 6,185 करोड़ रपये और 9,590 करोड़ रपये की आय होने का अनुमान है.

आगामी वित्त वर्ष में रेलवे को पेंशन पर 45,500 करोड़ रपये खर्च करने पड़ सकते हैं. चालू वित्त वर्ष में रेलवे के वित्तीय कारोबार में 8,720 करोड़ रपये की बचत दिखाई गई है.

सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने से रेलवे पर अगले वित्त वर्ष में दबाव बढ़ने और इस कारण परिचालन अनुपात :कुल आय के मुकाबले परिचालन खर्च: बिगड़ने का अनुमान है. बजट में वर्ष 2016-17 के दौरान परिचालन अनुपात बढ़कर 92 प्रतिशत पहुंचने का अनुमान लगाया गया है जो चालू वित्त वर्ष में 90 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

रेलवे ने अनुमान लगाया है कि वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करने के बावजूद उसके साधारण खच में वृद्धि 11.16 प्रतिशत तक सीमित रहेगी. इसके लिए उसने डीजल और बिजली की खपत में कटौती की योजना बनाई है.

रेल मंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि तीन नए मालगाड़ी मार्ग बनाए जाएंगे जिनमें एक उत्तर दक्षिण गलियारा दिल्ली से चेन्नई के बीच होगा, जबकि दूसरा पूरब पश्चिम गलियारा खड़गपुर से मुंबई और तीसरा पूर्वी तटीय गलियारा खड़गपुर को विजयवाड़ा से जोड़ेगा.

kuli

प्रभु ने अपने एक घंटे से अधिक के बजट भाषण में कहा, ‘‘इन तीन परियोजनाओं को उच्च प्राथमिकता देने का प्रस्ताव है ताकि इन परियोजना प्रस्तावों को तैयार करने, उनका ठेका देने और उन पर अमल करने का काम समय पर सुनिश्चित हो सके.’’ रेल मंत्री ने कहा कि इनके लिए धन की व्यवस्था पीपीपी- :निजी सरकारी भागीदारी: मॉडल सहित नए तरीकों से की जाएगी.

रेल मंत्री ने यह भी कहा कि इन परियोजनाओं में चालू वित्त वर्ष की समाप्ति से पहले सिविल इंजीनियरिंग काम के सारे ठेके दिए भी जा चुके होंगे.

प्रभु ने कहा कि उनके रेल मंत्रालय संभालने के बाद से 24,000 करोड़ रपये के ठेके दिए जा चुके हैं, जबकि उससे पहले के छह साल में कुल मिलाकर 13,000 करोड़ रपये के ठेके दिए गए थे.

रेलवे के बारे में अपना सपना पेश करते हुए प्रभु ने वादा किया 2020 तक रेलवे को लेकर आम लोगों की चिर अपेक्षाएं संतुष्ट की जाएंगी.

उन्होंने कहा कि इस अवधि में रेलवे ने मांग पर गाड़ियों में आरक्षित जगह उपलब्ध कराने, माल गाड़ियों को समय सारणी के अनुसार चलाने, सुरक्षा को बढ़ाने के लिए अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी का उपयोग करने, बिना फाटक की रेलवे क्रासिंगों को खत्म करने, गाड़ियां समय पर चलाने, माल गाड़ियों की गति बढ़ाने और पटरियों पर शौचालय की गंदगी छोड़े जाने पर पूरी तरह रोक लगाने का लक्ष्य रखा है.

rail budget 2

यात्रियों के सुखद अनुभव के लिए बजट में सोशल मीडिया और समर्पित आईवीआरएस प्रणाली के जरिए संपर्क सुविधा करने व प्रतिक्रिया लेने का प्रस्ताव है. रेलवे ने यात्रा को सुखद बनाने के लिए 65,000 अतिरिक्त बर्थ उपलब्ध कराने और 2500 पेयजल की मशीनें लगाने का भी प्रस्ताव किया है.

रेलवे ने 100 स्टेशनों पर वाई-फाई सुविधा उपलब्ध करा दी है एवं आगामी वर्ष में और 400 स्टेशनों पर यह सुविधा उपलब्ध होगी.

संरक्षा के उपायों के तहत चालू वर्ष में 350 फाटक वाले लेवल क्रासिंग और 1000 बिना फाटक वाले क्रासिंग बंद किए जा चुके हैं. 820 रोड ओवरब्रिजों एवं रेल अंडर ब्रिजों को काम पूरा हो चुका है और ऐसे 1,350 पुलों पर काम चल रहा है.

यात्रियों की सुविधा बढ़ाने के लिए स्टेशनों पर कैटरिंग और फूड स्टॉल का प्रबंध करने का काम चरणबद्ध तरीके से आईआरसीटीसी को सौंपा जाएगा. रेलवे आईआरसीटीसी के तहत 10 और आधारभूत रसोईघरों को शुरू कर अपनी कैटरिंग सेवाएं परिचालन में लाने की संभावना तलाशेगा.

rail 2

इसके अलावा, ट्रेनों के आवागमन की क्षण क्षण की सूचना यात्रियों को देने के लिए 2,000 स्टेशनों पर 20,000 स्क्रीन लगाए जाएंगे जो उच्च प्रौद्योगिकी के नेटवर्क से जुड़े होंगे और इन स्क्रीन पर विज्ञापन की भी सुविधा होगी जिससे रेलवे को अतिरिक्त आमदनी हो सकती है.

प्रभु ने अजमेर, अमृतसर, बिहार शरीफ, चेंगन्नूर, द्वारका, गया, हरिद्वार, मथुरा, नागपट्टिनम, नांदेड़, नासिक, पाली, पारसनाथ, पुरी, तिरपति, वैलंकन्नि, वाराणसी और वास्को जैसे धर्मस्थलों के रेलवे स्टेशनों पर यात्री सुविधाएं बढ़ाने और स्टेशनों के सौंदर्यीकरण का काम प्राथमिकता के साथ पूरा करने का वादा किया.

रेलवे ने धार्मिक स्थलों को जोड़ने के लिए ‘आस्था’ सर्किट गाड़ियां चलाने का भी विचार पेश किया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: full story rail budget 2016 by suresh prabhu
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017