निवेशकों को लुभाने के लिए गांधीनगर में आज से प्रवासी भारतीय दिवस शुरु

By: | Last Updated: Wednesday, 7 January 2015 1:27 AM
gandhinagar_nri_summit

नई दिल्ली: देश मंत्री सुषमा स्वराज ने गुजरात की राजधानी गांधीनगर में बुधवार को दीप प्रज्जवलित करके ‘यूथ प्रवासी भारतीय दिवस’ (पीबीडी) का बुधवार को उद्घाटन किया. भारतवंशी नागरिकों के विश्व के सबसे बड़े सम्मेलन 13वें पीबीडी में 4,000 से अधिक प्रतिनिधिमंडल शिरकत कर रहे हैं. इस सम्मेलन का लक्ष्य प्रवासी भारतीयों के बीच संपर्क को बढ़ाने के साथ-साथ व्यावसायिक संपर्क को मजबूत करना है.

 

अलग-अलग देशों में करीब 2.5 करोड़ भारतवंशी निवास करते हैं.

 

सात से नौ जनवरी के बीच गांधीनगर के महात्मा मंदिर परिसर में तीन दिवसीय प्रवासी सम्मेलन का आयोजन किया गया है. यह महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से वापसी के 100 साल पूरे होने पर ‘सर्वश्रेष्ठ प्रवासी भारतीय’ रूप में मनाया जा रहा है.

 

महात्मा मंदिर परिसर 60,000 वर्ग मीटर में फैला हुआ है.

 

प्रवासी भारतीय मामलों की मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को यहां मौजूद प्रवासी युवाओं से कहा कि वे यहां आएं, जुड़ें और देश में हो रहे महत्वपूर्ण बदलाव का हिस्सा बनने के लिए योगदान करें. युवा प्रवासी भारतीय दिवस (पीबीडी) 2015 के उद्घाटन के मौके पर सुषमा ने प्रवासी युवाओं से देश के विकास में योगदान करने की अपील की.

 

उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने कारोबारी माहौल को सरल बनाने के लिए कई कदम उठाए हैं, जिनमें नियमों की तर्कसंगत व्याख्या और बेकार कानूनों को चिन्हित करना भी शामिल है.

 

विदेश मंत्रालय की भी जिम्मेदारी संभाल रहीं सुषमा ने कहा कि मोदी सरकार का मुख्य ध्यान आधारभूत संरचना पर है और सरकार पारदर्शी नीति पर भी ध्यान दे रही है.

इससे पहले, सैंकड़ों युवा प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए सुषमा ने कहा कि युवाओं से बातचीत करना आनंददायक है, जिनका भारत से विशेष नाता है.

 

उन्होंने कहा कि पीबीडी प्रवासी भारतीयों को मातृभूमि से जोड़ने का मंच है और यह वैश्विक भारतीय परिवार की अवधारणा को बढ़ावा देता है.

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कल यानी 8 जनवरी को इस समारोह का औपचारिक तौर पर उद्घाटन करेंगे. उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी 9 जनवरी को होने वाले समापन समारोह में मौजूद रहेंगे. गौरतलब है कि सरकार इस बार प्रवासी भारतीय दिवस राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस आने के 100 वर्ष पूरे होने को लेकर मना रही है. पीएम मोदी भी आज देर शाम गांधीनगर पहुंच जाएंगे.

 

गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल ने मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आठ जनवरी से शुरू हो रहे तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस में हिस्सा लेने के लिए कल यहां आएंगे और उनके आगमन पर हवाई अड्डे पर उनका भव्य स्वागत किया जाएगा.

 

पटेल ने कहा, ‘‘नरेंद्रभाई आठ जनवरी की सुबह प्रवासी भारतीय दिवस का उद्घाटन करेंगे. वह कल करीब नौ बजे यहां आएंगे. हम हवाई अड्डे पर उनका भव्य स्वागत करेंगे.’’ उन्होंने कहा कि मोदी सुबह करीब 8:30 बजे महात्मा मंदिर में ‘दांडी कुटीर’ का उद्घाटन करेंगे और करीब 10:00 बजे प्रवासी भारतीय दिवस का उद्घाटन करेंगे.

 

पटेल ने कहा, ‘‘वह भोजन के बाद चले जाएंगे.’’ प्रवासी भारतीय दिवस सात से नौ जनवरी के बीच आयोजित किया जाएगा जबकि ‘वाइब्रेंट गुजरात समिट’ का आयोजन महात्मा मंदिर में 11 से 13 जनवरी तक होगा. मोदी 11 जनवरी को ‘वाइब्रेंट गुजरात समिट’ का उद्घाटन करेंगे.

 

बीजेपी की गुजरात इकाई पहले ही तैयारियां कर चुकी है और हवाई अड्डे पर मोदी के भव्य स्वागत का फैसला किया गया है.

 

बीजेपी की गुजरात इकाई के प्रवक्ता आई के जडेजा ने कहा, ‘‘जब गुजरात के साथ-साथ पूरे देश के गौरव प्रधानमंत्री अहमदाबाद आ रहे हैं तो भाजपा कार्यकर्ता, आम नागरिक और कई शुभचिंतक यहां उनका भव्य स्वागत करेंगे. इसके अलावा, राज्य के कई मंत्री, बीजेपी के पदाधिकारी और कई स्थानीय नेता भी उनका अभिनंदन करेंगे.’’ प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन पहली बार गुजरात में किया जा रहा है जबकि ‘वाइब्रेंट गुजरात समिट’ की शुरूआत नरेंद्र मोदी ने 2003 में राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर की थी.

 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और गुजरात की सीएम आनंदीबेन पटेल आज शाम वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल ट्रेड फेयर और प्रवासी भारतीय दिवस प्रदर्शनी का उद्घाटन करेंगीं. गुजरात सरकार 13वें प्रवासी भारतीय दिवस को महात्मा गांधी के दक्षिण अफ्रीका से भारत वापस आने के 100 साल पूरे होने की खुशी के रूप में मना रही है.

प्रवासियों को पीएम का ‘तोहफा’

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने एक और अध्यादेश पास किया. राष्ट्रपति ने पीआईओ और ओसीआई कार्ड के विलय से जुड़ा नागरिकता अध्यादेश पर दस्तखत किए.

मोदी सरकार ने राष्ट्रपति के पास विदेश में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों की नागरिकता से जुड़ा अध्यादेश भेजा था. अध्यादेश के जरिए भारतीय नागरिकता कानून में संशोधन कर सरकार ने PIO और OCI कार्ड का विलय किया गया. विलय के बाद अब PIO कार्ड वालों को भी वही सुविधा मिल सकेगी जो OCI कार्ड वालों को मिलती है.

 

OCI कार्ड वालों को ताउम्र वीजा और भारत में काम करने की इजाजत होती है. नए कार्ड का नाम इंडियन ओवरसीज कार्ड होगा.

 

संबंधित खबरें-

कुवैत : भारतीयों ने मनाया स्वतंत्रता दिवस 

ब्रांड इंडिया बनाने के लिए मोदी का ‘5टी’ का फार्मूला

कुछ महीनों में आने वाला हैं अच्छा वक्त: मोदी 

प्रवासी भारतीय सम्मेलन में पीएम पर नरेंद्र मोदी का हमला, कहा- जल्द आने वाले हैं देश में अच्छे दिन

वोट देने के अधिकार को लेकर लंदन में अनशन पर बैठा NRI 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gandhinagar_nri_summit
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017