गंगा के लिए साबरमती मॉडल पर्याप्त नहीं : विशेषज्ञ

By: | Last Updated: Sunday, 6 July 2014 2:58 PM
ganga_sabarmati model

नई दिल्लीः गंगा को दुर्दशा से एक नया मंत्रालय नहीं उबार सकता और न ही उसके लिए ‘साबरमती मॉडल’ पर्याप्त होगा. यह राय विशेषज्ञों ने व्यक्त की है. विशेषज्ञों का कहना है कि नदी का गौरव बहाल रखने के लिए कानूनी प्रावधानों की दरकार है.

 

भारत के हर हिस्से में बसने वाले करोड़ों हिंदुओं के लिए सबसे पवित्र मानी जाने वाली और पुराणों एवं लोकगाथाओं का सदियों से हिस्सा बनी रहने वाली 2,525 किलोमीटर की इस नदी को स्वच्छ करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विशेष जोर दिया है. गंगा सिर्फ भारत में आस्था का ही एक नाम नहीं है, बल्कि 11 राज्यों की 40 प्रतिशत से अधिक आबादी को पानी मुहैया कराती हुई जीवनरेखा भी है. पर्यावरणविदों का मानना है कि इस नदी के जीवन के लिए असंख्य बांध सबसे बड़ा खतरा हैं.

 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की तेज-तर्रार नेता उमा भारती की देखरेख में गंगा के लिए पृथक मंत्रालय से कुछ उम्मीद तो जगी, लेकिन अभी तक कोई ठोस योजना सामने नहीं आई है.

 

पर्यावरण वैज्ञानिक और राष्ट्रीय गंगा नदी घाटी प्राधिकरण (एनजीआरबीए) के सदस्य बी. डी. त्रिपाठी ने कहा, “सफाई गंगा के लिए समाधान नहीं है..तीन मुख्य धाराएं-भागिरथी, अलकनंदा और मंदाकिनी सभी पर कई बांध और बैराज बन चुके हैं. इनके कारण बड़े पैमाने पर नदी का पानी भूमि में समा जा रहा है. नहरों के जरिए जो पानी गंगा में गिरता है उसकी मात्रा क्षीण है.”

 

गंगा को साफ करने के लिए वर्ष 2009 में तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में नेशनल गंगा रिवर बेसिन अथारिटी (एनजीआरबीए) का गठन हुआ था.

 

त्रिपाठी के मुताबिक नदी प्रबंधन से जुड़े कई मुद्दे मौजूदा विधायी ढांचे में नहीं आते हैं. इसमें पर्यावरणीय प्रवाह की देखरेख, नदी घाटी की पारिस्थितिकी एवं जैवविविधता का संरक्षण, भूजल का स्तर बनाए रखना, विभिन्न धाराओं में नदी के पानी की दिशा मोड़ने की योजना का दृढ़ीकरण, मलबे का निस्तारण, नदी के प्रवाह में रुकावट और संयोजकता का क्षरण एवं बाढ़ के मैदान और सक्रिय बाढ़ क्षेत्र का इस्तेमाल आदि मौजूदा विधायी ढांचे में नहीं आते.

 

त्रिपाठी ने कहा, “गंगा एक राष्ट्रीय नदी है और इसीलिए राष्ट्रीय नीति की जरूरत है. अब जबकि एक पृथक मंत्रालय है तो हमें इस वास्तविकता को महसूस करने की जरूरत है कि गंगा का प्रबंधन केंद्रीय स्तर पर एक कानूनी ढंचे के तहत यह सुनिश्चित करने के लिए होना चाहिए कि पूरे देश में नदी, उसके बहाव और उसकी घाटी से संबंधित मुद्दे का समाधान एकरूपता से हो.”

 

गंगा की सफाई का वादा करते हुए मोदी जहां गुजरात की साबरमती नदी को उदाहरण के रूप में पेश करते हैं, वहीं कार्यकर्ताओं का कहना है कि यह गंगा के लिए कहीं से भी उपयोगी नहीं ठहरता.

 

साबरमती गुजरात की सबसे बड़ी नदी है और इसका उद्गम राजस्थान के उदयपुर जिले में अरावल पर्वत श्रंखला में स्थित धेबर झील से है. यह नदी वहां से दक्षिण पश्चिम की दिशा में बहती हुई 371 किलोमीटर की यात्रा के बाद अरब सागर के खंभात की खाड़ी में गिरती है. यह गुजरात में शुरू से समुद्र तक बहती है और इसी के किनारे राज्य की राजधानी गांधीनगर व उससे सटा अहमदाबाद है. यहां पर्यटकों को लुभाने के लिए नदी के किनारों को विकसित किया गया है.

 

पर्यावरणविदों ने उल्लेख किया कि साबरमती साफ नहीं हुई है. केवल इसमें नर्मदा नदी का पानी बहाया जा रहा ताकि यह साफ दिख सके.

 

साउथ एशिया नेटवर्क ऑन डैम्स नामक एनजीओ के समन्वयक और पर्यावरणविद हिमांशु ठक्कर ने आईएएनएस से कहा, “अहमदाबाद में साबरमती में जो पानी बहता दिखता है वह नर्मदा का है और यह गुजरात के सूखाग्रस्त इलाकों के लिए है.”

 

इसी से मिलती जुलती बात टाक्सिक वाच अलायंस के गोपाल कृष्ण ने भी कही, “गुजरात का जल प्रबंधन मॉडल गंगा के लिए कामयाब नहीं हो सकता क्योंकि यह गुजरात के लिए भी उपयोगी साबित नहीं हुआ है. नर्मदा का जल साबरमती में बहाना कोई समाधान नहीं है. साबरमती नदी के किनारे नदी के बाढ़ क्षेत्र पर एक हमला है.”

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: ganga_sabarmati model
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

बिहार: लालू का नीतीश पर सृजन घोटाला दबाने का आरोप, तेजस्वी की सबौर सभा में लगी धारा 144
बिहार: लालू का नीतीश पर सृजन घोटाला दबाने का आरोप, तेजस्वी की सबौर सभा में...

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा
यूपी: बहराइच में बाढ़ में फंस गई बारात, ट्रैक्टर पर मंडप पहुंचा दूल्हा

बहराइच: उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बाढ़ आने से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. इस बीच बहराइच में...

बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगा आयकर
बेनामी संपत्ति: लालू के बेटा-बेटी, दामाद और पत्नी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल...

नई दिल्ली:  लालू परिवार के लिए मुश्किलें बढ़ाने वाली है. एबीपी न्यूज को जानकारी मिली है कि...

अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की हत्या
अनुप्रिया की पार्टी अपना दल की मंडल अध्यक्ष संतोषी वर्मा और उनके पति की...

इलाहाबाद: उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल की...

गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए जिम्मेदार
गोरखपुर ट्रेजडी: डीएम की रिपोर्ट में डॉक्टर सतीश, डॉक्टर राजीव ठहरा गए...

गोरखपुर: बीते हफ्ते गोरखपुर अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से हुई 36 बच्चों की मौत के मामले...

अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक सकते: CM योगी
अगर हम सड़कों पर नमाज़ नहीं रोक सकते, तो थानों में जन्माष्टमी भी नहीं रोक...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धार्मिक स्थलों और कांवड़ यात्रा के दौरान...

बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

नई दिल्ली: तंत्र साधना के लिए 2 साल के बच्चे की बलि देने वाले दंपत्ति की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट...

जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’
जब बेंगलुरू में इंदिरा कैन्टीन की जगह राहुल गांधी बोल गए ‘अम्मा कैन्टीन’

बेंगलूरू: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक सरकार की सस्ती खानपान सुविधा का उद्घाटन...

घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों को तोहफा, 70% सस्ती होगी नी-रिप्लेसमेंट
घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों को तोहफा, 70% सस्ती होगी नी-रिप्लेसमेंट

नई दिल्ली: घुटने के दर्द से परेशान बुजुर्गों के लिए अच्छी खबर है. मोदी सरकार ने नी-रिप्लेसमेंट...

बिहार में बाढ़ का कहर: अबतक 72 की मौत, पानी घटा पर मुश्किलें जस की तस
बिहार में बाढ़ का कहर: अबतक 72 की मौत, पानी घटा पर मुश्किलें जस की तस

पटना: पडोसी देश नेपाल और बिहार में लगातार हुई भारी बारिश के कारण अचानक आयी बाढ़ से बिहार बेहाल...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017