गोविंदाचार्य ने चुनाव आयोग से की बीजेपी के विज्ञापनों की शिकायत

By: | Last Updated: Saturday, 7 February 2015 8:58 AM
govindacharya_compalains_against_bjp

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पूर्व विचारक केएन गोविंदाचार्य ने कई राष्ट्रीय अखबारों के ईपेपर में बीजेपी की ओर से पूरे पृष्ठ के विज्ञापन देने को लेकर आज चुनाव आयोग का रूख किया और पार्टी के खिलाफ चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर कार्रवाई की मांग की.

 

गोविंदाचार्य ने आरोप लगाया कि बीजेपी आज ईपेपर के जरिए मतदाताओं से आग्रह कर रही है जो जनप्रतिनिधित्व अधिनियम-1951 की धारा 126 के तहत प्रतिबंधित है.

 

उन्होंने अपनी दलील को मजबूती देते हुए चुनाव आयोग की ओर से 25 अक्तूबर, 2013 को जारी अधिसूचना के बी उपबंध को उद्धृत किया जिसमें कहा गया है, ‘‘चुनाव आयोग के आदेश में शामिल दिशानिर्देश वेबसाइट को लेकर लागू होंगे तथा प्रमाणन से पहले की स्थिति में आएंगे.’’

 

गोविंदाचार्य ने कहा, ‘‘यह स्पष्ट है कि जन प्रतिनिधित्व अधिनयम और आचार संहिता के दूसरे दिशानिर्देशों का बीजेपी की ओर से खुलकर उल्लंघन किया जा रहा है तथा दिल्ली के मतदाताओं को कई ईपेपरों में गैर कानूनी विज्ञापनों के जरिए प्रभावित किया जा रहा है.’’ पहले बीजेपी में कई पदों पर रह चुके गोविंदाचार्य ने इन विज्ञापनों को प्रदर्शित करने वाले वेब पेज को बंद करने की मांग की है.

 

उन्होंने पार्टियों और उम्मीदवारों के लिए दंडात्मक कार्रवाई की भी मांग की.

 

संबंधित खबरें-

नूपुर शर्मा ने आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता पर लगाया छेड़खानी का आरोप 

दिल्ली चुनाव: एक बजे तक 36 फीसदी वोटिंग, बीजेपी और ‘आप’ में मानी दिल्ली चुनाव: राहुल गांधी और वरूण गांधी ने किया मतदान जा रही है कड़ी टक्कर

ELECTION LIVE: दिल्ली में वोटिंग जारी, 12 बजे तक करीब 36 फीसदी वोटिंग 

जनता शराब और पैसे बांटने वाली पार्टी को वोट नहीं दे: केजरीवाल 

दिल्ली चुनाव: सच की और जनता की होगी जीत- केजरीवाल 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: govindacharya_compalains_against_bjp
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017