भारत के संचार उपग्रह जीसैट-16 का सफल प्रक्षेपण

By: | Last Updated: Sunday, 7 December 2014 5:15 PM

बेंगलूरू: भारत की संचार सेवाओं को मजबूती प्रदान करते हुए जीसैट-16 नाम के नवीनतम उपग्रह का आज सफल प्रक्षेपण किया गया . आज तड़के फ्रेंज गुयाना के कोरू प्रक्षेपण स्थल से एरियनस्पेस रॉकेट की मदद से यह प्रक्षेपण किया गया . मौसम खराब होने की वजह से इस प्रक्षेपण में दो दिन का विलंब हुआ .

 

तड़के दो बजकर दस मिनट पर विमान वीए221 के जरिए एरियन-5 की सफल उड़ान के 32 मिनट बाद उपग्रह को जीओसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट (जीटीओ) में प्रवेश करा दिया गया . प्रक्षेपण स्थल से एरियन श्रेणी के यानों द्वारा किया गया यह 221वां प्रक्षेपण है .

 

एरियनस्पेस ने कहा कि दोहरे रॉकेट अभियान के तहत प्रक्षेपित किया गया जीसैट-16 अपने साथ ले जाये गए डायरेक्ट टीवी-14 अंतरिक्ष यान के चार मिनट बाद अंतरिक्ष में प्रवेश कर गया . जीसैट-16 में 48 ट्रांसपांडर लगे हैं और यह संख्या इसरो द्वारा बनाए गए किसी भी संचार उपग्रह में लगाए गए ट्रांसपांडरों की संख्या से ज्यादा है . डायरेक्ट टीवी-14 अमेरिका में ‘डायरेक्ट-टू-होम टीवी’ के प्रसारण के लिए है .

 

प्रक्षेपण के कुछ ही समय बाद कर्नाटक के हासन स्थित इसरो की ‘मास्टर कंट्रोल फैसिलिटी’ (नियंत्रक प्रतिष्ठान) ने जीसैट-16 की कमान और नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया और कहा कि शुरूआती जांच में उपग्रह ‘सामान्य हालत’ में पाया गया है .

 

इसरो ने कहा कि इसे कक्षा में उपर उठाने का पहला कदम :ऑर्बिट रेजि़ंग: कल तड़के तीन बजकर 50 मिनट पर होना तय है . यह प्रक्रिया उपग्रह को उसके तय स्थान पर यानी भूस्थतिक कक्षा में 55 डिग्री पूर्वी देशांतर पर और जीसैट-8, आईआरएनएसएस-1ए एवं आईआरएनएसएस-1बी के साथ स्थापित करने का एक चरण है .

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gsat 16_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: GSAT 16
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017