Gujarat Assembly Elections: congress stand on Patidar's reservation क्या गुजरात में पटेलों को आरक्षण के नाम पर गुमराह कर रही है कांग्रेस?

क्या गुजरात में पटेलों को आरक्षण के नाम पर गुमराह कर रही है कांग्रेस?

पटेलों को आरक्षण देने में सबसे बड़ी मुश्किल सुप्रीम कोर्ट का आदेश है, जो साफ कहता है कि 50 फीसदी से ज्यादा आरक्षण नहीं दिया जा सकता.

By: | Updated: 30 Oct 2017 10:43 PM
Gujarat Assembly Elections: congress stand on Patidar’s reservation
नई दिल्लीगुजरात चुनाव में पटेल समुदाय के आरक्षण का मुद्दा गरम है. पाटीदार जिस आरक्षण की मांग कर रहे हैं उसपर पेंच फंसा हुआ है. हार्दिक पटेल ने कांग्रेस को अपना रुख साफ करने के लिए सात नवंबर तक का वक्त दिया है.

दरअसल पटेलों को आरक्षण देने में सबसे बड़ी मुश्किल सुप्रीम कोर्ट का आदेश है, जो साफ कहता है कि 50 फीसदी से ज्यादा आरक्षण नहीं दिया जा सकता.ऐसे में सवाल यह है कि क्या राहुल गांधी आरक्षण के नाम पर पटेलों को गुमराह कर रहे हैं.

क्या राहुल गांधी आरक्षण के नाम पर पटेलों को गुमराह कर रहे हैं?

दरअसल हार्दिक के अल्टीमेटम के बाद कांग्रेस ने कहा था कि आरक्षण के मौजूदा 49% कोटा के अलावा वो 20 % का एक और कोटा लायेगी और उसी कोटे के तहत आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों यानी ईबीसी को आरक्षण दिया जाएगा और उसी कोटे के तहत पाटीदारों को आरक्षण दिया जायेगा.

कांग्रेस का ये फॉर्मूला दरअसल आंख में धूल झोंकने जैसा है, क्योंकि गुजरात की मौजूदा बीजेपी सरकार ने भी ऐसे आरक्षण की व्यवस्था की थी.

1 मई 2016 को गुजरात सरकार ने आर्थिक तौर पर कमजोर वर्ग के लिए सरकारी नौकरी और शिक्षण संस्थानों में 10 प्रतिशत आरक्षण की अधिसूचना जारी की थी. इसके तहत छह लाख रुपए तक की सालाना आय वाले पाटीदार, ब्राह्मण और बनिया समुदाय के लोगों को आरक्षण दिया जाना था. लेकिन 4 अगस्त 2016 को ही गुजरात हाई कोर्ट ने इस अधिसूचना को रद्द कर दिया.

कोर्ट ने कहा कि ऐसा करने से आऱक्षण 50 फीसद से ऊपर चला जाएगा जो नहीं हो सकता. फिलहाल इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. कोर्ट में लटकने वाला ये आरक्षण का पहला मामला नहीं है. इससे पहले कई राज्यों में आरक्षण को लेकर आंदोलन होने पर सरकारों या राजनीतिक दलों ने इस तरह के धोखे दिए हैं, जैसा अब कांग्रेस गुजरात में करने की कोशिश कर रही है.

कैसे मिल सकता है50 फीसदी से ज्यादा आरक्षण?

आरक्षण की तय सीमा यानी 50 फीसदी से ज्यादा आरक्षण तभी दिया जा सकता है जब पटेलों को पिछड़ा वर्ग में शामिल करने के कानून को संविधान की नौवीं अनुसूची में डलवा दिया जाए. ये काम सिर्फ केंद्र सरकार ही कर सकती है, यानी सत्ता मिलने पर भी कांग्रेस फिलहाल ऐसा नहीं कर सकती और केंद्र की मुश्किल ये है कि अगर वो किसी एक समुदाय के लिए ऐसा करेगी तो जगह जगह ऐसी मांगें उठने लगेंगी. यहां जानेदेश में क्या है आरक्षण की मौजूदा व्यवस्था?

यह भी पढ़ें-

कांग्रेस को लेकर हार्दिक पटेल नरम, आरक्षण पर पाटीदार समुदाय ने दिया 7 नवंबर तक का वक्त

आरक्षण पर अपना स्टैंड क्लीयर करें हार्दिक पटेल: सीएम रुपाणी

जानें राहुल गांधी की सोशल मीडिया टीम के लोग क्या कर रहे हैं हिमाचल में

पीएम मोदी ने दो टॉरपीडो GST और नोटबंदी मार अर्थव्यवस्था को नष्ट किया- राहुल गांधी

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Gujarat Assembly Elections: congress stand on Patidar’s reservation
Read all latest India News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात चुनाव: पहले चरण में कांग्रेस को जिताने वाले सर्वे का वायरल सच