गुजरात: रेप पीड़ित 25 हफ्ते की प्रेग्नेंट बालिका का होगा गर्भपात

By: | Last Updated: Friday, 31 July 2015 5:06 AM

नई दिल्ली: निचली अदालतों से लेकर गुजरात हाईकोर्ट के द्वारा याचिका ठुकराए जाने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने 25 हफ्तों की प्रेग्नेंट नाबालिग लड़की के गर्भपात कराने का ऐतिहासिक फैसला सुनाया है जिसका शुक्रवार को यानी आज गर्भपात किया जाएगा.

 

गुजरात में डॉक्टर के द्वारा रेप के बाद 25 हफ्तों की गर्भवती हुई 14 साल की नाबालिग लड़की के गर्भपात को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है.

 

दरअसल हुआ कुछ यूं कि इसी साल फरवरी में यह लड़की टॉयफाइड का इलाज कराने के लिए डॉक्टर के पास गई थी. जहां डॉक्टर ने बेहोशी की दवा देकर नाबालिग लड़की के साथ रेप किया.

 

जिसके चलते वह लड़की प्रग्नेंट हो गई. इसके बाद लड़की के परिवार वालों ने लड़की का गर्भपात कराने के लिए आवेदन किया. लेकिन पीड़ित लड़की के परिवार वालों के आवेदन को निचली अदालतों सहित गुजरात हाईकोर्ट तक ने ठुकरा दिया.

 

आपको बता दें कि गुजरात हाईकोर्ट में 25 जुलाई को हुई सुनवाई के वक्त पीड़ित लड़की 24 हफ्ते की गर्भवती थी और भारत के कानून के तहत 20 हफ्तों के बाद गर्भपात कानूनन अपराध की श्रेणी में आता है.

 

मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट, 1971 के मुताबिक कोई भी महिला 20 हफ्ते के गर्भधारण के बाद गर्भपात नहीं करवा सकती. हालांकि 12 से 20 हफ्ते की प्रेग्नेंसी के दौरान अगर मां को जान का खतरा है या बच्चे के मानसिक या शारीरिक रुप से  विकलांग होने की आशंका है तो इस सूरत में ही गर्भपात करवाया जा सकता है.

 

हाईकोर्ट के द्वारा लड़की के गर्भपात का आवेदन ठुकराए जाने के बाद पीड़ित लड़की के परिवार वालों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को पीड़ित लड़की के गर्भपात को लेकर डॉक्टरों को जरूरी फैसला लेने की इजाजत दे दी.

 

चार गाइनाकोलॉजिस्ट और एक क्लीनिकल साइकॉलाजिस्ट के पैनल ने कोर्ट के आदेश पर आज लड़की का परीक्षण किया. पैनल में शामिल एक डॉक्टर ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बच्चे को जन्म देने से लड़की के जीवन को गंभीर खतरा पैदा हो सकता है.

 

आपको बता दें कि जिसके बाद डॉक्टरों की एक टीम ने जांच के बाद फैसला किया कि गर्भपात करके ही उस लड़की की जिंदगी बचाई जा सकती है. जिसके बाद रेप से गर्भवती हुई इस 14 साल की लड़की का शुक्रवार को गर्भपात करने का निर्णय लिया गया.

 

पीड़ित लड़की की पहले भी जांच कर चुकीं डॉक्टर ने अपने रिपोर्ट में कहा कि वह ‘मानसिक रूप से बेहद परेशान’ है और ‘बच्चा जनने के लिए शारीरिक रूप से बेहद कमजोर है.’

 

इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस उम्र में गर्भपात और उससे पैदा होने वाले हालात उसके जीवन को गंभीर खतरा पहुंचा सकते हैं. आपको बता दें कि इस रिपोर्ट के आधार पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा था कि अगर डॉक्टरों को जरूरी लगता है तो वह पीड़ित लड़की का गर्भपात कर सकते हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Gujarat_Teen_Rape Survivo_Abortion
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: abortion Gujarat rape supreme court survivor
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017