गुर्जर आन्दोलनकारियों ने रखी बयाना में बातचीत की शर्त, जयपुर आने से इंकार

By: | Last Updated: Monday, 25 May 2015 12:49 PM

जयपुर: गुर्जरों का पांच प्रतिशत आरक्षण की मांग को लेकर राजस्थान में जारी आन्दोलन का आज पांचवा दिन है और आन्दोलनकारियों ने आज दूसरे दौर की बातचीत के लिए जयपुर आने से इंकार कर बयाना में ही बातचीत करने की शर्त रख दी है. पीलूपुरा के निकट दिल्ली-मुम्बई रेल मार्ग और सिंकदरा के निकट जयपुर-आगरा राष्ट्रीय राज मार्ग पर आन्दोलनकारियों के धरने के कारण यातायात ठप पड़ा है.

 

राजस्थान गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने आज पीटीआई-भाषा से कहा ‘‘हमने सरकार को दूसरे दौर की बातचीत के लिए जयपुर आने से इंकार कर दिया है, हम बातचीत बयाना में ही करेंगे. सरकार को इस बारे में पत्र भेज दिया गया है, हम उनके जवाब की प्रतीक्षा कर रहे हैं.’’

 

यह पूछे जाने पर कि क्या वह बातचीत से पीछे हट रहे हैं, कर्नल बैंसला ने कहा ‘‘नहीं, हम बातचीत के लिए तैयार हैं लेकिन यह बातचीत बयाना में हो, जयपुर में नहीं.’’ उन्होंने एक अन्य प्रश्न के जवाब में कहा ‘‘सरकार हमारी मांग मान ले ताकि आन्दोलन खत्म हो. आन्दोलन कर हम लोगों को परेशान नहीं करना चाहते लेकिन सरकार हमारी मांग नहीं मान रही है. मजबूरी में हमें यह रास्ता अख्तियार करना पड़ा है. ’’

 

कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने पुलिस द्वारा स्वयं पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज करने पर नाराज होते हुए कहा ‘‘मैं डकैत अथवा अपराधी नहीं हूं जिनके विरुद्ध राजद्रोह मामला दर्ज किया जाये.’’ उन्होंने सरकार के रवैये पर चुटकी लेते हुये कहा कि जब वह तथा उनके साथी सरकार की नजर में राजद्रोह के दोषी हैं तो ऐसी स्थिति में उन्हें वार्ता के लिए बुलाने का क्या औचित्य है.

 

आन्दोलनकारियों ने बयाना की छौंकरा पुलिस चौकी पर कब्जा कर लिया है. 20 मई तक इस पुलिस चौकी पर आरएसी के एक दर्जन जवान तैनात थे लेकिन अब वहां गुर्जर आंदोलनकारियों की चैक पोस्ट है. यहां से वह पीलूपुरा ट्रैक पर आने जाने वालों की निगरानी रखते है.

 

बयाना पुलिस थाना प्रभारी महावीर सिंह शेखावत की ओर से गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला सहित 2500 लोगों के खिलाफ राजद्रोह का नामजद मुकदमा तथा 2500 अन्य लोगों के खिलाफ राजकाज में बाधा, राजकीय सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने, भड़काउ बयान देने के मुकदमे दर्ज किये गए हैं. यह मुकदमे गत 21 मई को दर्ज किये गये हैं.

 

पश्चिम मध्य रेलवे के सैक्शन इंजीनियर महेन्द्र कुमार जैन की ओर से 2500 आंदोलनकारियों के विरुद्ध तथा सिगनल ऑफिसर चन्द्रभान द्वारा 23 मई को एक नई प्राथमिकी कर्नल बैंसला सहित 700 लोगों के खिलाफ दर्ज कराई गई है. इस मामले में कुल तीन प्राथमिकियां बयाना थाना में दर्ज हुई है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gujjar protest
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: gujjar protest
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017