गुजरात के पांच हजार से अधिक आंगनवाड़ी केंद्रों में नहीं हैं शौचालय :कैग

By: | Last Updated: Tuesday, 11 November 2014 1:20 PM
gujrat_cag

गांधीनगर: भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की एक रिपोर्ट आज गुजरात विधानसभा में रखी गई. उस रिपोर्ट में यह कहा गया है कि पिछले साल तक राज्य में 5000 से अधिक आंगनवाड़ी केंद्रों में शौचालय नहीं थे.

 

विधानसभा के मौजूदा सत्र के आखिरी दिन राज्य की बीजेपी सरकार ने मार्च 2013 में समाप्त हुए वर्ष के लिए स्थानीय निकायों पर ऑडिट रिपोर्ट आज सदन के पटल पर रखी.

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि साल 2008-2013 की अवधि के लिए पूर्ण स्वच्छता अभियान का प्रदर्शन ऑडिट किया गया.

 

केंद्र ने 1999 में इस अभियान की शुरूआत की थी, जिसका नाम 2012 में निर्मल भारत अभियान रखा गया. कैग रिपोर्ट में गुजरात के ग्रामीण हिस्सों में योजना के कार्यान्वयन में कई कमियां पाई गईं.

 

योजना के तहत आंगनवाड़ियों में शौचालयों के निर्माण का प्रावधान है. गुजरात सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य के अनुसार मार्च 2009 तक 22 हजार 505 शौचालयों का निर्माण किया जाना था. बाद में अप्रैल 2012 में इसे संशोधित करके 30 हजार 516 किया गया.

 

कैग ने अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘‘मार्च 2013 तक 30 हजार 516 आंगनवाड़ी शौचालयों के निर्माण के लक्ष्य में से 25 हजार 422 :83 फीसदी: का निर्माण किया गया. जामनगर में स्थिति सबसे खराब है और वहां सिर्फ 47 फीसदी लक्ष्य हासिल किया गया है. परिणामस्वरूप, आंगनवाड़ियों में बच्चे अब भी बुनियादी सुविधाओं से वंचित हैं.’’ संयोगवश, गुजरात विधानसभा ने कल एक विधेयक पारित किया जिसमें घर में शौचालय बनाने को स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने की पूर्व शर्त बनाया गया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: gujrat_cag
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017