यहां पढ़ें : हाफिज-वैदिक मुलाकात में क्या हुई बातचीत?

By: | Last Updated: Saturday, 19 July 2014 10:57 AM
HAFIZ_VAIDIK_MODI GOVERNMENT

नई दिल्ली : मुंबई हमले के गुनहगार आतंकी हाफिज सईद से वेद प्रताप वैदिक की मुलाकात को लेकर जमकर विवाद हुआ है. संसद में भी इस मुद्दे पर खूब हंगामा हुआ. सवाल उठे तो विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि सरकार ने पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग से पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी. पाकिस्तान में भारतीय उच्चायोग ने सरकार को रिपोर्ट दी है. उन्होंने कहा कि हाफिज-वैदिक मुलाकात में न भूमिका थी, न कोई जानकारी थी.

 

अब वेद प्रताप वैदिक ने बताया कि कैसे हुई मुलाकात और क्या हुई बातचीत?

 

 

वेद प्रताप वैदिक ने बताया कि हाफिज सईद से मुलाकात अचानक तय हुई. दो जुलाई की दोपहर को मैं भारत आनेवाला था. एक जुलाई की शाम को कुछ पत्रकार मुझसे बातचीत कर रहे थे. उन्होंने कहा कि आप भारत-विरोधी आतंकवाद का मुद्दा इतनी जोर से उठा रहे हैं तो आप कभी हाफिज सईद से मिले? मैंने कहा नहीं. उनमें से लगभग सबके पास हाफिज सईद के नंबर थे. उनमें से किसी ने फोन मिलाया और मुलाकात तय हो गई. सुबह 7 बजे इसलिए तय हुई कि मुझे लाहौर हवाई अड्डे पर 10-11 बजे के बीच पहुंचना था. मैंने कह दिया था कि अगर मुलाकात देर से तय हुई तो मैं नहीं मिल सकूंगा.

 

हाफिज सईद से डॉ. वैदिक की भेंटवार्ता

 

हाफिज सईद: मैं आपके लेख पढ़ता रहा हूं और आपके टीवी इंटरव्यूज भी मैंने कई देखे हैं लेकिन आप अपने बारे में थोड़ा और बताइए.

 

डॉ. वेदप्रताप वैदिक: मैंने अन्तरराष्ट्रीय राजनीति में पीएच.डी. किया है, जवाहरलाल नेहरु युनिवर्सिटी से. दिल्ली युनिवर्सिटी के एक कालेज में फिर चार साल राजनीतिशास्त्र पढ़ाया और फिर अखबार और एक न्यूज एजेन्सी का संपादक रहा. विदेश नीति और अन्य विषयों पर मेरे लगभग दर्जन भर ग्रंथ निकले हैं. पत्रकारिता मैं पिछले 50-55 साल से कर रहा हूं. आपके देश में मैं पिछले 30-35 साल से बराबर आ रहा हूं. अब क्या आप मुझे अपने बारे में बताएंगे?

 

सईद: हां, क्यों नहीं? मेरा जन्म मार्च 1948 में हुआ? मेरे माता-पिता भारत से पाकिस्तान आए थे?

 

वैदिक: आप क्या बिहार के हैं, मुहाजिर ?

 

सईद: मेरी मां रोपड़ में गर्भवती हुई थीं और मुझे पाकिस्तान आकर उन्होंने जन्म दिया. इस तरह मेरा भारत से भी संबंध है.

 

वैदिक: यदि भारत से संबंध है तो फिर यह बताइए कि आपने भारत पर ऐसे भयंकर हमले क्यों करवाए?

 

सईद: यह बेबुनियाद इल्जाम है. जब बंबई के ताज होटल की खबर मैंने टीवी पर देखी तो क्या देखा कि दो घंटे के अंदर ही अंदर मेरा नाम आने लगा. बार-बार आने लगा.

 

वैदिक: उसकी कुछ तो वजह होगी?

 

सईद: वजह बस एक ही थी. पिछली सरकार मेरे पीछे हाथ धोकर पड़ी हुई थी. उसका गृहमंत्री रहमान मलिक मेरा दुश्मन था. उसने मुझे जबर्दस्ती गिरफ्तार कर लिया.

 

वैदिक: आपकी सरकार ने ही आपको पकड़ लिया? उनके पास कुछ ठोस सबूत जरुर होंगे?

 

सईद: सबूत वगैरह कोई नहीं थे. उसे सिर्फ अमेरिका की गुलामी करनी थी. सरकार का दिवाला पिट रहा था. उसे पैसे चाहिए थे. मुझे पकड़कर उसने अमेरिका को खुश कर दिया और बड़ी मदद ले ली. लेकिन मैंने अदालत में सरकार को चारों खाने चित कर दिया. लाहौर के हाई कोर्ट ने मेरे वकीलों को बाहर कर दिया, इसके बावजूद रहमान की तिकड़म फेल हो गई. अदालत ने मुझे बरी कर दिया. लेकिन रहमान ने मुझे फिर गिरफ्तार कर लिया. मैं फिर सुप्रीम कोर्ट में गया. वहां भी मैं जीत गया. मेरा कोई गुनाह साबित नहीं हुआ.

 

वैदिक: अदालतें तो अदालते हैं. और फिर ये आपकी अपनी अदालते हैं. यदि ये कोई अन्तरराष्ट्रीय अदालतें होतीं तो कुछ और बात होती. यह भी ठीक है कि सरकारों के लिए तो वही सही होता है, जो अदालतें फैसला करती हैं लेकिन मैं आपसे पूछता हूं कि अल्लाहताला का भी कोई कानून आप मानते हैं या नहीं ?

 

सईद: क्यों नहीं मानता हूं? मैं तो जिहादी हूं.

 

वैदिक: क्या अल्लाहताला बेकसूरों की हत्या का जायज़ मान लेगा? उसकी अदालत में तो हर जुर्म की सजा मिलती है. अल्लाहताला सब कुछ जानता है. उससे आप कुछ छुपा नहीं सकते. उसकी अदालत में आप क्या जवाब देंगे?

 

सईद: मैं जिहादी हूं.

 

वैदिक: मैं तो ‘जिहादे-अकबर’ को मानता हूं. इसे उंचे जिहाद का मतलब तो मैं यही समझता हूं कि इसमें हिंसा (तश्द्दुद) की कोई जगह नहीं है.

 

सईद: आप फिर मुझ पर इल्जाम लगा रहे हैं? मेरा आतंकवाद (दहशतगर्दी) से कोई लेना-देना नहीं है. मैं हिंसा में विश्वास करता ही नहीं. मैं तो शुद्ध सेवा-कार्य करता हूं. स्कूल-पाठशालाएं (मदरसे) चलाता हूं, अनाथों की देखभाल करता हूं और देखिए अभी जो वजीरिस्तान से लाखों लोग भाग रहे हैं, उनकी सेवा सरकार से ज्यादा मेरे संगठन के लोग कर रहे हैं. आप चलें, खुद अपनी आंखों से देखें.

 

वैदिक: हो सकता है कि आप यह सब कुछ कर रहे हों लेकिन मुझे यह बताइए कि आखिर संयुक्तराष्ट्र संघ और अमेरिका ने आपके संगठन को गैर-कानूनी क्यों घोषित किया है? अमेरिका ने आपके सिर पर करोड़ों का इनाम क्यों रखा है? भारत सरकार ने आपके खिलाफ ठोस सबूत देकर कई दस्तावेज़ तैयार किए हैं. उन सबका आपके पास क्या जवाब है?

 

सईद: (थोड़ा उत्तेजित होकर) जवाब क्या है? सारे जवाब मैं दे चुका हूं. क्या मेरे जवाबों से आप संतुष्ट नहीं हैं?

 

वैदिक: भारत के खिलाफ आप जबर्दस्त नफरत फैलाते हैं. मैंने खुद टीवी पर आपके भाषण सुने हैं.

 

सईद: और भारत जो हमारे कश्मीरी भाईयों की हत्या करता है, जो बलूचिस्तान और सिंध में दहशतगर्दी फैलाता है, वह कुछ नहीं? अफगानिस्तान में उसने कौंसुलेट के नाम पर 14 जासूसखाने खोल रखे हैं. भारत अफगानिस्तान को हमारे खिलाफ भड़काता है.

 

वैदिक: यह बिल्कुल गलत है. वहां हमारे 14 कौंसुलेट बिल्कुल नहीं है. हम उस देश की दोस्ताना मदद करते हैं. हिंदुस्तान की जनता आपके नाम से नफरत करती है. आपकी हर घर में निंदा होती है. मुंबई के रक्तपात को भुलाना मुश्किल है.

 

सईद: मैं तो हिंदुस्तानियों की यही गलतफहमी दूर करना चाहता हूं.

 

वैदिक: इसका तो एक ही तरीका है कि आप अपना जुर्म कबूल करें और उसकी उचित सजा मांगे. यह आपकी बहादुरी होगी और आप यह रास्ता नहीं अपना सकते हैं तो प्रायश्चित करें, माफी मांगें. जैसे कि हमारे यहां कथा है कि हत्यारे अंगुलिमाल ने बुद्ध के सामने और डाकू वाल्मीकि ने नारद मुनि के सामने प्रायश्चित किया था.

 

सईद: (थोड़ी उंची आवाज़ में) मैंने जब कोई जुर्म ही नहीं किया तो इन सब बातों का सवाल हीं नहीं उठता. (थोड़ी देर चुप्पी)

 

ईद: यह बताइए कि यह नरेंद्र मोदी कैसा आदमी है? इसका आना समूचे दक्षिण एशिया (जुनूबी एशिया) के लिए खतरनाक नहीं है?

 

वैदिक: इसमें शक नहीं कि नरेंद्र मोदी बहुत सख्त आदमी हैं लेकिन मोदी साहब ने अपने चुनाव-अभियान में किसी मुल्क के खिलाफ कुछ नहीं बोला. इस्लाम और मुसलमानों के खिलाफ कुछ नहीं बोला. पुरानी बातों को छोडि़ए. आगे बढि़ए. मोदी अब भारत के वज़ीरे-आजम हैं. उनकी जिम्मेदारी बहुत बड़ी होती है. देखिए, आते से ही मोदी ने अपनी शपथ-विधि में पड़ोसी देशों और खासकर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को बुलाया. क्या किसी अन्य भारतीय प्र.मं. ने पिछले 67 साल में किसी पाक प्र.मं. को बुलाया?

 

सईद: क्या बुलाया? बुलाकर मोदी ने उसे बेइज्जत कर दिया?

 

वैदिक: कैसे?

 

सईद: आपकी विदेश सचिव औरत ने कहा कि मोदी ने मियां नवाज़ को डांट लगाई?

 

वैदिक: मैंने आपके वजीरे-आजम मियां नवाज़, आपके विदेश मंत्री और विदेश सचिव से भी यह पूछा तो उन्होंने ऐसी किसी बात से साफ इंकार किया. यह तो सिर्फ मीडिया की करतूत है.

 

सईद: हो सकता है लेकिन पाकिस्तान में तो हम सभी यही समझ रहे हैं?

 

वैदिक: हम मानते हैं कि भारत-पाक संबंधों की राह में आप सबसे बड़े रोड़े हैं. जरा संबंध सुधरते हैं कि कोई न कोई आतंकवाद की घटना घट जाती है.

 

सईद: मैं बिल्कुल भी रोड़ा नहीं हूं. आपकी यही गलतफहमी दूर करने के लिए मैं एक बार भारत आना चाहता हूं. मैं चाहता हूं कि दोनों मुल्कों के संबंध (ताल्लुकात) अच्छे बनें. हम दोनों मुल्कों की तहजीब एक-जैसी है. मैं भारत के किसी बड़े जलसे में भाषण (तकरीर) देना चाहता हूं.

 

वैदिक: मुझसे पाकिस्तान में बहुत-से लोगों ने कहा कि मोदी साहब खुद पाकिस्तान क्यों नहीं आते? अगर आएं तो आप क्या पत्थरबाजी करवाएंगे, प्रदर्शन करेंगे, विरोध करेंगे?

 

सईद: (थोड़ा रुककर) नहीं, नहीं, हम उनका स्वागत (इस्तकबाल) करेंगे!

 

वैदिक: मैं तो उल्टा समझ रहा था?

 

सईद: क्या आपको हम मुसलमानों की मेहमाननवाजी के बारे में पता नहीं है? अगर हमारी सरकार उन्हें बुलाएगी तो वे हमारे मेहमान होंगे.

 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: HAFIZ_VAIDIK_MODI GOVERNMENT
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017