मुंबई: पुलिस की करतूत के चलते बेगुनाह को काटनी पड़ी 7 साल की सजा!

By: | Last Updated: Saturday, 11 July 2015 2:46 PM
He Spent 7-Years In Prison For A Crime He Did Not Commit. Now Gopal Shetye Seeks Justice!

नई दिल्ली: आज के समाज में कब किस के साथ क्या हो जाए ये कोई नहीं बता सकता है क्योंकि आज हम आपको मुंबई रेलवे पुलिस की ऐसी करतूत के बारे में बता रहे हैं जिसे न तो आपने पहले कभी  सुना होगा और ना ही कभी देखा होगा.

जी हां! जिसे  सुनते ही आपके पैरो तले जमीन खिसक जाएगी, जिसे सुनते ही आपका पुलिस और कोर्ट से भरोसा ही उठ जाएगा. रेलवे पुलिस रेप के आरोपी को पकड़ नही पाया तो झूठा आरोपी ही जेल में डाल दिया. आपको बता दें कि 7 साल की सजा के बाद अब यह आरोपी हाई कोर्ट से बरी हो गया.

 

मुंबई के आजाद मैदान पर पिछले 16 दिनों से भूखे प्यासे बैठा गोपाल शेटे नाम का यह शख्स एक वक्त अपनी बीवी और 2 बेटियो के साथ खुशहाल जिंदगी जी रहा था. मुंबई के हिंदुजा कॉलेज से बी कॉम और होटल मैनेजमेंट की पढाई कर चुके गोपाल के पास चाय पिने के पैसे नहीं है. घर परिवार सब कुछ बिखर गया. दरअसल एक रेप के आरोप में गोपाल शेटे को रेलवे पुलिस ने गिरफ्तार किया और निचली अदालत ने 7 साल की सजा सुनाई. सजा ख़त्म होने के बाद गोपाल को हाई कोर्ट ने बरी कर दिया.

 

मुंबई के घाटकोपर इलाके में 2009 एक महिला का रेप हुआ था और उस केस में गोपी नाम का आरोपी की तलाश रेलवे पुलिस कर रही थी. पुलिस ने आरोपी की तलाश की लेकिन आरोपी न मिलने पर पुलिस एक गोपाल नाम के शख्स को ही गोपी बना डाला.

 

आपको बता दें कि जब पुलिस उस गोपाल नाम के व्यक्ति को ढूढ़ने आई तो गोपाल ने अपने बारे में उन्हें सब कुछ बताया.जिसके बाद रेलवे पुलिस ने उससे रिश्वत की मांग की और गिरफ्तारी में 4 दिन बाद आरोप बताया.

 

गोपाल के मुताबिक न डीएनए जांच हुआ, मंदबुद्धि पीड़ित लड़की ने पहचान नहीं की और रेलवे पुलिस के टिपर ही गवाह बने जो पुलिस के हर दूसरे मामले में गवाह बनते है. केवल इतना ही नहीं  कोर्ट में भी उसे बोलने का मौका नही दिया गया और 7 साल की सजा और 400 रुपये का जुर्माना भरने को कहा गया.

 

अब गोपाल पूरी सजा कर चूका है और हाई कोर्ट ने उसे निर्दोष भी करार दिया है लेकिन इन 7 सालों में गोपाल की जिंदगी तबाह हो गई. गोपाल तो गिरफ्तार हो गया लेकिन उसका परिवार टूटता गया, पिता की दिल के दौरे से मौत, मां सदमे में गांव वापस लौट गयी, पत्नी ने पड़ोसियों के ताने सुनने के बाद दूसरी शादी कर ली और दो छोटी बच्चियां माता पिता होने के बावजूद अनाथाश्रम में पलने को मजबूर हो गईं?

 

ऐसे में गोपाल का सवाल है की क्या कोई भी पुलिस, कोई भी न्यायपालिका या कोई भी सरकार उसे उसका परिवार वापस दिला पायेगा ?

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: He Spent 7-Years In Prison For A Crime He Did Not Commit. Now Gopal Shetye Seeks Justice!
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: Mumbai Police Railway rape
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017