रिटायरमेंट की उम्र बढ़ने से उपहार की दुकानों पर पसरा सन्नाटा

By: | Last Updated: Tuesday, 7 April 2015 12:09 PM
hike in retirement age or impact of market

जम्मू: जम्मू कश्मीर में उमर अब्दुल्लाह की पूर्व सरकार ने सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु को 2 साल बढ़ाकर 60 कर दी, जिससे बेशक राज्य के 60,000 से अधिक सरकारी कर्मचारियों को सीधा लाभ हुआ है, लेकिन सरकार के इस फैसले ने राज्य में उपहारों से जुड़े व्यापारियों की नींद उड़ा दी है.

 

जम्मू में इन दिनों उपहारों और गुलदस्तों की दुकानों पर सन्नाटा पसरा है. नये साल के बाद फरवरी-मार्च में आम तौर पर सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति का मौसम होता था, और इन दो महीनों में उपहारों और गुलदस्तों के व्यपार से जुड़े लोग अच्छी कमाई करते थे. लेकिन, उमर अब्दुल्लाह की पिछली सरकार ने राज्य के सरकारी कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु को 58 से बढ़ा कर 60 कर दिया, जिसके चलते अब दो साल तक सेवानिवृत्ति के बाद आयोजित होने वाली पार्टिया बंद हो गयी हैं.

 

जम्मू के पॉश गांधी नगर इलाके में एक बहु-राष्ट्रीय कंपनी की उपहार गैलरी चला रहे सत्यन महाजन के मुताबिक सरकार के इस फैसले का उनके काम और व्यापार पर खासा असर पड़ा है.

 

सत्यन महाजन कहते हैं, “फरवरी और मार्च के दो महीनो में जम्मू कश्मीर में सरकारी सेवा से सेवानिवृत्ति हुए कर्मचारियों और अधिकारियो की विदाई पार्टियों का दौर होता था, जो अब थम गया है”

 

सत्यन दावा करते है. “इन दो-तीन महीनों में ना तो शादियां होती है और न कोई बड़े आयोजन, ऐसे में ऐसी विदाई पार्टियां ही व्यापारियों की उम्मीद होती थी”.

 

लेकिन अब ऐसी पार्टियों के न होने के चलते एक-एक गैलरी को लाखों रुपये का नुक्सान होता है. जम्मू कश्मीर सरकार से सेवानिवृत्त हुए मोहम्मद इक़बाल के मुताबिक सरकारी विभागों में विदाई पार्टियो का खासा चलन है और ऐसी पार्टियों में उपहारों का लेना देना रिटायर हो रहे शख्स के पद पर निर्भर होता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: hike in retirement age or impact of market
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017