Himachal Pradesh: Battle between Father-in-law and son-in-law on Solan assembly seat | हिमाचल प्रदेश: सोलन विधानसभा सीट पर दिलचस्प टक्कर, ससुर और दामाद आमने सामने

हिमाचल प्रदेश: सोलन विधानसभा सीट पर दिलचस्प टक्कर, ससुर और दामाद आमने सामने

इस दिलचस्प मुकाबले को लेकर लोगों का कहना है कि राजेश कश्यप को अपने ससुर से आशीर्वाद मिला है.

By: | Updated: 03 Nov 2017 12:49 PM
Himachal Pradesh: Battle between Father-in-law and son-in-law on Solan assembly seat

नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश में यूं तो कुल 68 सीटों पर विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन एक सीट ऐसी है जिस पर सभी की नज़रे टिकी हैं. दरअसल सोलन (सु) विधानसभा सीट पर ससुर दामाद आमने सामने हैं. कांग्रेस से वर्तमान विधायक कर्नल धनीराम शांडिल दूसरी बार जीत दर्ज करने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे हैं लेकिन धनीराम को पटखनी देने के लिए बीजेपी ने उनके दामाद डॉक्टर राजेश कश्यप को मैदान में उतारा है.


इस सीट से मौजूदा विधायक और सामाजिक अधिकारिता और न्याय मंत्री धनीराम शांडिल को उनके ही दामाद चुनौती दे रहे हैं. धनीराम दो बार सांसद भी रह चुके हैं. चुनाव प्रचार में जुटे धनीराम शांडिल से एबीपी न्यूज़ ने जब बात की तो उन्होंने कहा कि ये विपक्ष की चाल भी होती है. बीजेपी कभी-कभी भाइयों में भी लड़ाई करवाती है.


कर्नल धनीराम ने कहा कि अगर मेरे सामने राजेश कश्यप आए हैं इसकी मुझे कोई चिंता नहीं है. हमने बहुत विकास किया है और उसी पर वोट मांगेंगे. राजेश कश्यप के बारे में धनीराम ने कहा कि वो अपने किए गए काम गिनवाए, साथ ही जीएसटी और नोटबंदी से नुकसान के बारे में भी बताएं.


वहीं दूसरी तरफ राजेश कश्यप पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं. राजेश ने कहा कि हम केंद्र की नीतियों के साथ चुनाव लड़ रहे हैं. मेरी पत्नी मेरे साथ खड़ी हैं. राजेश कश्यप ने कहा कि मेरे ससुर बहुत ही शरीफ आदमी हैं लेकिन वे एक कोठरी से घिरे हुए हैं. हमारे इलाके में काम नहीं हुए हैं. अस्पताल की हालत बहुत बुरी है. राजेश कहते हैं कि मैं अपनी विचारधारा के साथ लड़ रहा हूं. राजेश ने कहा कि हम तो उम्मीदवार के ऊपर भी अटैक करेंगे साथ ही कांग्रेस की जनविरोधी नीतियों को जनता के बीच मे ले जाएंगे. राजेश कश्यप कहते हैं कि धनीराम शांडिल को आशीर्वाद देना ही पड़ेगा क्योंकि मैं उनका जमाई हूं.


इस दिलचस्प मुकाबले को लेकर लोगों का कहना है कि राजेश कश्यप को अपने ससुर से आशीर्वाद मिला है. एक शख्स ने बताया कि जनता को कोई कंफ्यूजन नहीं है और साफ-सफाई, पार्किंग और पानी जैसे मुद्दे अहम रहेंगे.

फटाफट ख़बरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर और डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App
Web Title: Himachal Pradesh: Battle between Father-in-law and son-in-law on Solan assembly seat
Read all latest Himachal Assembly Election 2017 News headlines in Hindi. Also don’t miss today’s Hindi News.

First Published:
Next Story गुजरात चुनाव: पहले चरण में कांग्रेस को जिताने वाले सर्वे का वायरल सच