पश्चिम बंगाल के 10वीं मदरसा बोर्ड की मेरिट में हिंदू लड़की ने हासिल किया 8वां नंबर

By: | Last Updated: Thursday, 18 May 2017 11:04 PM
पश्चिम बंगाल के 10वीं मदरसा बोर्ड की मेरिट में हिंदू लड़की ने हासिल किया 8वां नंबर

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल बोर्ड के मदरसा एजूकेशन एक्जाम 2017 में एक हिंदू लड़की ने मेरिट लिस्ट में जगह बनाकर सबको चौंका दिया है. मदरसा एजूकेशन एक्जाम के नतीजे आज घोषित हुए. नतीजों में हावड़ा जिले की 16 साल की प्रशमा ससमाल ने खलतपुर हाई मदरसा से 10वीं की परीक्षा में 8वां स्थान हासिल कर मेरिट में जगह बनाई है.

प्रशमा को 800 में से 729 मार्क्स मिले जिसके मुताबिक इन्हें कुल 91.9 फीसदी अंक मिले हैं. प्रशमा ने बताया कि हालांकि उसके गांव हरिहरपुर में बिरेश्वर बालिका विद्यालय है लेकिन इसके बावजूद उसने मदरसे में पढ़ने का फैसला लिया. उसके पिता मदरसे में कुछ टीचर्स को जानते हैं और ये उसके घर के पास भी था जिससे उसने यहीं पढ़ने का फैसला किया. यहां पर उसे सभी टीचर्स का पूरा सपोर्ट मिला और वो इसी मदरसे से 12वीं क्लास भी पूरी करेगी.

प्रशमा जो यहां के एक स्थानीय पंचायत अधिकारी की बेटी हैं, वो इस मदरसे में इस्लाम परिचय और अरेबिक भी पढ़ रही है. मदरसे में पढ़ने वाले और स्टूडेंट की तरह प्रशमा ने भी इनको 2 अनिवार्य विषयों के तौर पर लिया. उसके मुताबिक इनकी पढ़ाई करना उसके लिए एक अलग और अच्छा अनुभव रहा. हालांकि उसके परिवार में इन विषयों की किसी को जानकारी नहीं है लेकिन फिर भी टीचर्स के सपोर्ट से उसे इन सब्जेक्ट्स में अच्छे अंक मिलने का भरोसा है.

प्रशमा जिस मदरसे में पढ़ती हैं उसमें 10वीं क्लास के एक्जाम में कुल 33 छात्रों ने परीक्षा दी थी जिनमें 6 लड़कियां और 3 लड़के समेत 9 हिंदू छात्र थे. इसी मदरसे में प्रशमा का भाई भी छठीं कक्षा में पढ़ता है.

पश्चिम बंगाल मदरसा एजूकेशन एक्जाम बोर्ड की परीक्षा में कुल 2287 गैर मुस्लिम छात्रों ने हिस्सा लिया. ये मदरसा एजूकेशन एक्जाम बोर्ड की परीक्षा में शामिल हुए कुल 52,115 छात्रों का सिर्फ 4.3 फीसदी ही है. वहीं इन 52,115 छात्रों में से लड़कियों की संख्या 36,276 है यानी कुल हिंदू छात्रों का 69 फीसदी भी लड़कियां ही हैं.

मदरसा बोर्ड के अध्यक्ष आबिद हुसैन के मुताबिक मदरसा बोर्ड की परीक्षा में एक गैर मुस्लिम लड़की का मेरिट लिस्ट में जगह बनाना अपने आप में एक अनोखा उदाहरण है. साफ तौर पर एक हिंदू लड़की ने मदरसे के नाम को चार चांद लगाए हैं जिसे स्वस्थ शिक्षा व्यवस्था और स्वस्थ धार्मिक सौहार्द का अच्छा उदाहरण माना जा सकता है.

First Published:

Related Stories

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017