हिंदू, मुसलमान लड़कियों की जल्द होती है शादी : रिपोर्ट

By: | Last Updated: Thursday, 7 May 2015 6:45 AM
Hindu, Muslim girls marry earliest; Jains, Christians later

नई दिल्ली: शहरों में रहने वाले ईसाई, जैन या सवर्ण हिंदू समुदायों की शिक्षित और आर्थिक रूप से स्थिर परिवार की लड़कियों की शादी 18 साल के बाद यानी वयस्क होने के बाद की जाती है. एक सर्वेक्षण में यह खुलासा हुआ है.

 

किशोरियों के गर्भवती होने के मामले अल्पशिक्षित या निरक्षर किशोरियों में ज्यादा देखे जाते हैं, जो पढ़ी लिखी और कम से कम स्कूली शिक्षा पूरी कर चुकी लड़कियों के मुकाबले नौ गुणा ज्यादा है.

 

ग्रामीण क्षेत्र की युवतियों और शहरी क्षेत्रों की युवतियों के शादी में दो साल का अंतर देखा गया है, जबकि अमीर घरों की युवतियों और निर्धन परिवारों की युवतियों के विवाह में चार साल का अंतर होता है.

 

असम के जनजातीय समुदाय की युवतियां देर से विवाह करती हैं और वहां युवतियों को विवाहेत्तर संबंध रखने की स्वतंत्रता प्राप्त है.

 

दिल्ली की एक संस्था ‘निरंतर’ द्वारा देश के सात राज्यों में कराए गए सर्वेक्षण से पता चलता है कि कम उम्र में लड़कियों का विवाह वैसे तो निचली जातियों में देखा जाता है, लेकिन सर्वणों में भी ऐसे कुछ मामले देखने को मिलते हैं.

 

जैन समुदाय की युवतियों के विवाह की औसत उम्र 20.8 है, ईसाई समुदाय में यह उम्र सीमा 20.6 है, सिख समुदाय में युवतियों के विवाह की उम्र सीमा 19.9 है, जबकि हिंदू और मुसलमानों में शादी की औसतन उम्र 16.7 है.

 

वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत की 1.2 अरब की आबादी में 97.3 करोड़ संयुक्त रूप से हिंदू एवं मुसलमान हैं, जो पूरी आबादी का 80 फीसदी है.

 

देखा गया है कि किशोरियों के गर्भधारण या मां बनने के मामले हिंदू और मुसलमान समुदायों में सबसे ज्यादा (16 फीसदी) देखने को मिलते हैं, जबकि अन्य समुदायों में ऐसे मामले अपेक्षाकृत कम है.

 

स्वयंसेवी संस्था निरंतर की रिपोर्ट ‘अर्ली एंड चाइल्ड मैरिज इन इंडिया : ए लैंडस्केप एनालाइसिस’ के मुताबिक, कम उम्र में लड़कियों की शादी कर दिए जाने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे परिवार की आय, स्थान (शहरी अथवा ग्रामीण), समुदाय, जाति और शिक्षा, जिनका सीधा संबंध एक भारतीय किशोरी या युवती की शादी की उम्र तय करने से है.

 

निरंतर पिछड़े समुदायों की महिलओं और लड़कियों के लिए काम करती है. इसकी रिपोर्ट में कहा गया कि समाज का रवैया बदलने की जरूरत है. साथ ही किशोरावस्था को बाल्यावस्था की श्रेणी से अलग कर देखने की जरूरत है.

 

रिपोर्ट से यह भी पता चलता है कि बाल विवाह की सामाजिक प्रकृति धीरे धीरे कम हो रही है. देखा गया है कि 20 साल की उम्र से पहले शादी करने वाली लड़कियों में मात्र 12 फीसदी ही ऐसी थीं जिनकी विवाह के समय उम्र 15 साल से कम थी.

 

यूनिसेफ की एक रिपोर्ट के अनुसार, दुनियाभर में 72 करोड़ महिलाओं की शादी 18 साल से पहले हुई है, जिनमें एक तिहाई महिलाएं भारत में हैं. जबकि पुरुषों में यह आंकड़ा 15.6 करोड़ है.

 

यह भी देखा गया है कि शिक्षा और आय की भी विवाह की उम्र तय करने में विशेष भूमिका रहती है.

 

निरंतर की रिपोर्ट के अनुसार, उच्च आय वाले परिवारों में लड़कियों की शादी कम आय वाले परिवारों की लड़कियों की तुलना में चार साल बाद होती है.

 

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि शहरों में रहने वाली लड़कियां ग्रामीण क्षेत्रों की लड़कियों की तुलना में दो साल देर से शादी करती हैं.

 

रिपोर्ट में बताया गया कि केरल और असम में बाल विवाह की दर बेहद निम्न है, जिसका कारण इन स्थानों में मातृसत्तात्मक समाज और महिलाओं का शिक्षित होना है.

 

(इंडियास्पेंड डॉट ऑर्ग के साथ बनी एक व्यवस्था के तहत. यह एक गैर लाभकारी पत्रकारिता मंच है, जो जनहित में काम करता है.)

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Hindu, Muslim girls marry earliest; Jains, Christians later
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: christians Hindu marriage Muslim
First Published:

Related Stories

डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट फाड़े
डोकलाम के बाद उत्तराखंड के बाराहोती बॉर्डर पर चीन की अकड़, चरवाहों के टेंट...

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी जगजाहिर है. इस बीच उत्तराखंड के बाराहोती...

एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज पर दिनभर की बड़ी खबरें

1. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मिशन 2019 की तैयारियां शुरू कर दी हैं और आज इसको लेकर...

20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य
20 महीने पहले ही 2019 के लिए अमित शाह ने रचा 'चक्रव्यूह', 360+ सीटें जीतने का लक्ष्य

नई दिल्ली: मिशन-2019 को लेकर बीजेपी में अभी से बैठकों का दौर शुरू हो गया है. बीजेपी के राष्ट्रीय...

अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी
अगर लाउडस्पीकर पर बैन लगना है तो सभी धार्मिक जगहों पर लगे: सीएम योगी

लखनऊ: कांवड़ यात्रा के दौरान संगीत के शोर को लेकर हुई शिकायतों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ...

मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा
मालेगांव ब्लास्ट मामला: सुप्रीम कोर्ट ने श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका...

नई दिल्ली: 2008 मालेगांव ब्लास्ट के आरोपी प्रसाद श्रीकांत पुरोहित की ज़मानत याचिका पर सुप्रीम...

'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी
'आयरन लेडी' इरोम शर्मिला ने ब्रिटिश नागरिक डेसमंड कॉटिन्हो से रचाई शादी

नई दिल्ली: नागरिक अधिकार कार्यकर्ता इरोम शार्मिला और उनके लंबे समय से साथी रहे ब्रिटिश नागरिक...

अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे
अब तक 113: मुंबई एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा खाकी में लौटे

 मुंबई: मुंबई पुलिस के मशहूर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पुलिस अधिकारी प्रदीप शर्मा को महाराष्ट्र...

RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी
RSS ने तब तक तिरंगे को नहीं अपनाया, जब तक सत्ता नहीं मिली: राहुल गांधी

आरएसएस की देशभक्ति पर कड़ा हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस संगठन ने तब तक तिरंगे को नहीं...

चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’
चीन की खूनी साजिश: तिब्बत में शिफ्ट किए गए ‘ब्लड बैंक’

नई दिल्ली: डोकलाम विवाद पर भारत और चीन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है. चीन ने अब भारत के खिलाफ खूनी...

सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'
सृजन घोटाला: लालू का नीतीश पर वार, बोले 'बचने के लिए BJP की शरण में गए'

पटना: सृजन घोटाले को लेकर बिहार की राजनीति में संग्राम छिड़ गया है. आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017