ABP स्पेशल: बेलगाम बाबा, बेबस सरकार!

By: | Last Updated: Tuesday, 18 November 2014 4:10 PM
hisar

हिसार/नई दिल्ली: हरियाणा के हिसार में संत रामपाल के समर्थकों ने पुलिस के पसीने छुड़ा दिए. आंसू गैस के गोलों से लेकर गोलियां तक चल गईं. आश्रम किला बन गया और समर्थकों ने उस किले की ऐसी घेराबंदी की कि पुलिस घंटों तक आश्रम में घुसने के लिए जूझती रही. एक बाबा पूरे प्रशासन की नाक में दम कर दिया.

 

संत रामपाल एक ऐसे बाबा है जो किसी की परवाह नहीं करता. ना कानून की और ना ही कोर्ट के आदेशों की.

 

बाबा भी हैं, संत भी हैं और महाराज भी. खुद को परमेश्वर बताने वाले रामपाल महाराज के समर्थकों का हुड़दंग ऐसा कि आश्रम से गोलियां बरसी, पत्थर फेंके गए और पुलिस को आश्रम के अंदर घूसने से रोक दिया गया. पुलिस संत रामपाल को गिरफ्तार करने की कोशिश में जुटी है लेकिन रामपाल के समर्थक पुलिस को पीछे धकेलते रहे हैं.

 

आज क्या हुआ

 

दोपहर सवा 12 बजे पुलिस ने आश्रम में घुसने की कोशिश की थी, लेकिन समर्थकों ने पुलिस पर धावा बोल दिया. जब पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े तो रामपाल के समर्थकों ने आश्रम के अंदर से फायरिंग शुरू कर दी. एक पुलिस वाले को गोली लगी है.15 पुलिस कर्मियों को चोट आई है और सौ से ज्यादा संत रामपाल समर्थक घायल हो गए.

 

संत रामपाल के आश्रम को समर्थकों ने मानो किले में तब्दील कर दिया है. आश्रम की दीवार पर रामपाल समर्थकों ने सैनिकों की तरह मोर्चा संभाल रखा था.

 

आश्रम के मेन गेट पर पुलिस को रोकने के लिए महिलाओं और बच्चों ने घेराबंदी कर रखी थी. पिछले कई दिनों से पुलिस आश्रम के बाहर डटी है लेकिन बार-बार खाली हाथ लौटने पर मजबूर हो जा रही है.

 

संत रामपाल का सुरक्षा घेरा

 

संत रामपाल का आश्रम 12 एकड़ में फैला है. आश्रम की छत के ऊपर कई मचान हैं हर मचान पर कम से कम 25 लोग तैनात हो सकते हैं. आश्रम की दीवारें 12 फीट ऊंची हैं बाहर से देखना मुश्किल है कि अंदर क्या हो रहा है और मुख्य दरवाजे पर बने बड़े मचान पर 150 लोग एक साथ मोर्चा संभाले हुए हैं.

 

मचानों पर ट्रॉली से पत्थर ले जाए गए हैं जब अंदर घुसने की कोशिश होती है तो मचान के फट्टों पर रखे पत्थर नीचे छोड़ दिए जाते हैं.

 

संत रामपाल आश्रम के सबसे पिछले हिस्से में रहते हैं. आगे वाले हिस्से में लंगर हॉल है. लंगर हॉल के बाद करीब 500 मीटर लंबा पंडाल है, जिसमें सत्संग होता है और पंडाल के आखिर में वो हिस्सा है जहां संत रामपाल रहते हैं.

 

सारी मशक्कत रामपाल को गिरफ्तार करने के लिए हो रही है लेकिन आश्रम का दावा है कि रामपाल इलाज के लिए हरियाणा से बाहर हैं.

 

क्या है मामला?

 

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट से दो गैर जमानती वारंट जारी होने के बावजूद संत रामपाल अदालत में पेश नहीं हुए. 10 नवंबर को ही हरियाणा पुलिस को फटकार लगाते हुए हाईकोर्ट ने 17 नवंबर की सुबह 10 बजे तक संत रामपाल को कोर्ट में पेश करने का आदेश दिया था. अब पेशी की तारीख 21 नवंबर हो चुकी है.

 

बरवाला आश्रम का ये इलाका छावनी बन गया. चंडीगढ़ में एक हजार पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं. पत्थर चल गए, गोलियां चल गईं, लेकिन इन सबके बीच सबसे बड़ा सवाल ये है कि एक बाबा क सामने बेबस नजर आ रहा है पूरा प्रशासन.

 

पत्रकारों पर हमला

 

हरियाणा चुनाव के दौरान बीजेपी ने हुड्डा सरकार की कानून व्यवस्था पर सबसे ज्यादा सवाल खड़े किये थे लेकिन आज हरियाणा की बीजेपी सरकार सवालों के घेरे में हैं. हरियाणा पुलिस ने आज अपनी करतूत को छुपाने के लिए पत्रकारों को बुरी तरह से मारा पीटा है.  कैमरा तोड़ दिया और अब दोषी पुलिसवालों पर कार्रवाई के बजाय थोथी दलील दे रही है.

 

अब सवाल है कि क्या अपने डंडे के दम पर हरियाणा का राज काज चलाना चाहते हैं मनोहर लाल खट्टर? ABP न्यूज का एक कैमरा तोड़ा,  दूसरा कैमरा छीन लिया,  घटनास्थल पर मौजूद तमाम पत्रकारों को , कैमरामैन को ड्राइवर को दौड़ा दौड़ाकर पीटा! आखिर चाहती क्या है ये खट्टर सरकार?

 

अगर जानबूझकर नहीं मारा तो फिर ये क्या है?

 

आजतक के रिपोर्टर नितिन जैन को पीटा गया. आजतक के कैमरामैन पर डंडों से वार, इंडिया न्यूज का स्टाफ बुरी तरह घायल! और दूसरे पत्रकारों पर भी पुलिस ने डंडे बरसाए.

 

अब सवाल है कि क्या यही पीएम मोदी के पसंदीदा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर का सुशासन है?

 

पिटाई की निंदा

 

गृह मंत्रालय ने हिसार में पुलिस कार्रवाई और पत्रकारों की पिटाई को लेकर रिपोर्ट मांगी है. ब्रॉडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन यानी BEA ने पत्रकारों की पिटाई की निंदा की है सवाल ये है कि बाबा पर जोर नहीं चल रहा तो मीडिया पर पुलिस अपना गुबार क्यों निकाल रही है आखिर खट्टर सरकार ने ऐसा किया क्यों? कहीं ये खिसियानी बिल्ली खंभा नोचेवाली बात तो नहीं हैं.

 

संत रामपाल जी महाराज है कौन?

 

संत रामपाल जी महाराज किसी भगवान को नहीं मानते, किसी भी देवी देवता की पूजा के सख्त खिलाफ हैं संत रामपाल, लेकिन कबीरपंथी रामपाल खुद को परमेश्वर बताते हैं.

 

हरियाणा सरकार के सिंचाई विभाग में जूनियर इंजीनियर से रामपाल के परमेश्वर बनने तक की कहानी बड़ी दिलचस्प है.

 

जूनियर इंजीनियर की नौकरी के दौरान संत रामपाल महाराज की मुलाकात 107 साल के कबीरपंथी संत स्वामी रामदेवानंद महाराज से हुई थी. रामपाल रामदेवानंद महाराज के शिष्य बन गए और 18 साल लंबी सिंचाई विभाग के जूनियर इंजीनियर की नौकरी छोड़कर सत्संग करने लगे.

 

आज संत रामपाल हरियाणा के हिसार जिले के सतलोक आश्रम के मालिक हैं. 12 एकड़ में फैला उनका आश्रम किसी महल से कम नहीं है,लेकिन छावनी में तब्दील हो चुका हिसार के इस आश्रम की कहानी रोहतक से शुरू होती है.

 

साल 1999 में रामपाल ने रोहतक के करौंथा में अपना आश्रम शुरू किया था. रामपाल देवी देवता की पूजा के खिलाफ हैं और रामपाल की इस कबीरपंथी सोच के खिलाफ है आर्यसमाज. लेकिन सोच का ये फर्क साल 2006 में जमीन के विवाद के रूप में सामने आया.

 

दैनिक जागरण में छपी खबर के मुताबिक 2006 में स्वामी दयानंद की लिखी एक किताब पर संत रामपाल ने एक टिप्पणी की, आर्यसमाज को ये टिप्पणी बेहद नागवार गुजरी और दोनों के समर्थकों कें हिंसक झडप हुई. घटना में एक शख्स की मौत भी हो गयी. घटना के बाद एसडीएम ने 13 जुलाई 2006 को आश्रम को कब्जे में ले लिया. रामपाल और उनके 24 समर्थकों को गिरफ्तार कर लिया गया. 2006 में रामपाल पर हत्या का केस दर्ज हुआ था जिसमें उन्हें 21 महीने जेल में रहना पड़ा था. तब से जमानत पर हैं रामपाल.

 

विवाद की जड़

लेकिन रामपाल ने 2013 में सुप्रीम कोर्ट में केस जीता और उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर फिर से रोहतक का आश्रम फिर वापस मिल गया. इस जमीन को लेकर आश्रम के आसपास के गांव वालों का विरोध इतना ज्यादा है कि जब रामपाल के समर्थक पिछले साल आश्रम पर कब्जा करने गए तो नाराज गांव वालों और आर्य समाज के लोगों ने इन पर धावा बोल दिया.

 

हरियाणा में रामपाल का काफी विरोध है. इसलिए पड़ोसी राज्यों पंजाब, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान से समर्थक जुटाते हैं रामपाल. इन राज्यों से काफी तादाद में इनके अनुयायी हरियाणा आते हैं.

 

बाबा जमानत पर बाहर तो आ गए लेकिन साल 2006 में हिंसक झड़प में हुई मौत का मामला खत्म नहीं हुआ था. इसी मामले में अगस्त 2014 में वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए रामपाल की हिसार कोर्ट में पेशी थी. लेकिन बाबा के समर्थक कोर्ट पहुंच गए और वहां वकीलों से बदसलूकी की.

 

नाराज वकीलों ने रामपाल की जमानत रद्द करने की याचिका दे दी. हाईकोर्ट ने अदालत की अवमानना के इस मामले में रामपाल को दो बार पेशी का नोटिस भेजा लेकिन रामपाल खराब तबीयत की दलील देकर हाजिर नहीं हुए. पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट ने इसे अदालत की अवमानना मानते हुए रामपाल की गिरफ्तारी के आदेश जारी कर दिए.

 

और इसी आदेश की तामील करने के लिए हरियाणा पुलिस पिछले कई दिनों से आश्रम के बाहर तैनात है रामपाल समर्थक पुलिस को आश्रम में घुसने नहीं दे रहे. बताया जा रहा है कि आश्रम में बिजली पानी कट चुका है. लोगों को खाने-पीने की दिक्कत हो रही है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: hisar
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: sant rampal
First Published:

Related Stories

पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा का जायजा
पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा...

पुडुचेरी: पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने रात में भेष बदलकर केंद्र शासित प्रदेश में...

LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5 लोगों की मौत, 34 घायल
LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5...

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. मुजफ्फरनगर में खतौली के पास...

गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!
गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में बीजेपी नेता हरीश वर्मा जो 200 से ज्यादा गायों को भूखा मारने के आरोप में...

गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी जाएंगे
गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी...

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत से मचे...

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'
CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज स्वच्छ यूपी-स्वस्थ...

नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड क्रॉस
नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड...

जिनेवा: आईएफआरसी यानी   ‘इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रॉस एंड रेड क्रीसेंट सोसाइटीज’ ने...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017