बाकियो से किस तरह अलग रहे 'आप'

By: | Last Updated: Monday, 30 March 2015 1:02 PM
how can u  are driffrent fron other parties

नई दिल्ली: लोकपाल आंदोलन से इस पार्टी का जन्म हुआ था. खुद को बाकियों से अलग दिखाने के लिए पार्टी ने आंतरिक लोकपाल बनाया लेकिन जब पार्टी के सबसे बड़े नेता पर सवाल उठे तो पार्टी ने लोकपाल ही बदल दिया.

 

योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने सवाल उठाए तो उन्हें पहले पीएसी से फिर राष्ट्रीय कार्यकारिणी से हटा दिया गया. आंतरिक लोकपाल रामदास ने केजरीवाल पर अंगुली उठाई तो लोकपाल ही बदल दिया गया. केजरीवाल ने शपथ लेते ही कहा कि पांच साल तक दिल्ली की सेवा करूंगा. लेकिन पांच महीने भी नहीं बीते की दिल्ली से बाहर के मेवे की तैयारी में जुट गए . केजरीवाल के एक फोन टेप से ये भी साफ हो गया था कि वो दिल्ली में दोबारा कांग्रेस के साथ सरकार बनाना चाहते थे. यानी  इनका मकसद भी सत्ता ही था.

 

बागी नेता कह रहे हैं कि जो लोग पसंद नहीं उसे केजरीवाल बाहर कर रहे हैं. अब योगेंद्र यादव जैसे संस्थापक नेता पार्टी में खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं. योगेंद्र को तमाम बड़े पदों से हटा दिया अब उन्हें डर है कि बाहर भी किया जा सकता  है.

 

पार्टी भी कह रही है कि इन लोगों के खिलाफ शिकायत का इंतजार है. इस पार्टी में बड़ी उम्मीद के साथ लोग आए थे लेकिन जूतम पैजार, मारपीट, गाली गलौज,  शह-मात और सत्ता का लोभ यानी वो सब कुछ यहां हो रहा है जिसके लिए राजनीति बदनाम होती रही है . इसी वजह से नाराज कुछ बड़े लोग पार्टी छोड़ भी चुके हैं .

 

दिल्ली में ही सिमट कर रह जाएगी आप?

केजरीवाल सरकार ने दिल्ली में चबाने वाले तंबाकू पर पाबंदी लगाई, आज से जर्दा, गुटखा खाया, खरीदा या रखा तो जुर्माने के साथ कड़ी कार्रवाई

आप का कड़ा रुख, पार्टी करेगी नई अनुशासन समिति का गठन

राष्ट्रीय परिषद की बैठक में केजरीवाल ने सुनाई ये अहम कहानी

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: how can u are driffrent fron other parties
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: AAP dispute
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017