मोदी के नाम 'जयललिता के प्रेमपत्र' वेबसाइट से हटे

By: | Last Updated: Friday, 1 August 2014 11:26 AM

चेन्नई: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता की एक तस्वीर और उसके साथ जुड़े ‘प्रेम पत्र’ को लेकर विवाद खड़ा हो गया है. तस्वीर और ‘प्रेम पत्र’ की कहानी शुरू होती है श्रीलंका में.

 

दरअसल मामला ये है कि श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट पर लगी तस्वीर में जयललिता को मोदी के बारे में सोचते हुए दिखाया गया था. इसके साथ ही वेबसाइट पर एक लेख पोस्ट है जिसका शीर्षक था, ”नरेंद्र मोदी को लिखे जयललिता के प्रेम पत्र कितने सार्थक हैं.”

 

तस्वीर और ‘प्रेम पत्र’ को लेकर चेन्नई में जयललिता की पार्टी AIADMK समर्थकों ने श्रीलंका के खिलाफ विरोध करना शुरू कर दिया है. विरोध के बाद श्रीलंका के रक्षा मंत्रालय ने विवादित तस्वीर और लेख अपनी वेबसाइट से हटा दिए हैं.

 

मामले से पल्ला झाड़ते हुए कहा गया है कि ओपिनियम पेज पर छपने वाले वाली लोगों की राय से मंत्रालय इत्तेफाक नहीं रखता.

आपको बता दें कि उसी पेज पर लिखा था कि जयललिता जानती हैं कि भारतीय मछुआरे अंतरराष्ट्रीय सीमा का उल्लंघन कर श्रीलंका में घुसते हैं, ऐसे में वो भारतीय प्रधानमंत्री से श्रीलंका के खिलाफ कार्रवाई करने को कैसे कह सकती हैं.

 

याद रहे कि मोदी के सत्ता में आने के बाद से जयललिता ने तमिल मछुआरों के मुद्दों पर उन्हें कई ख़त लिखे हैं.

 

एआईडीएमके की सहयोगी पीएमके के नेता एस रामदॉस ने इसे लेकर श्रीलंका की जबरदस्त आलोचना की है. रामादॉस के मुताबिक श्रीलंका की सरकारी बेवसाइट पर ऐसे लेख का छपना मोदी पीएम मोदी और तमिलनाडु की सीएम को अपमानित करता है.

 

इसके साथ ही रमामदॉस ने कहा कि भारत को श्रीलंका से राजनयिक संबंध समाप्त कर लेना चाहिए.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: How meaningful are Jayalalitha’s love letters to Modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017