जानें: उबेर एप्लिकेशन के जरिए कैसे मिलती है टैक्सी?

By: | Last Updated: Sunday, 7 December 2014 4:03 AM
How the Uber app functions and how Uber tracks the cab?

नई दिल्ली: टैक्सी मालिकों और ड्राइवरों से करार करके ऐप के जरिए सर्विस देने वाली उबर कोई मामूली कंपनी नहीं है. दुनिया के 50 देशों के ढाई सौ शहरों में कंपनी काम करती है. दुनिया के सबसे कीमती सेवाओं में से एक है. यह कॉल सेंटर से नहीं बल्कि ऐप से चलती है. 40 बिलियन अमेरिकी डॉलर का कारोबार है.

 

उबर का भारत में कारोबार काफी फैल रहा है. भारत में 10 शहरों में उसकी सर्विस है. अमेरिका के बाद भारत उसके लिए सबसे बड़ा बाजार है.

 

ऐप के जरिए कैसे मिलती है टैक्सी?

  • स्मार्टफोन पर एप्लिकेशन डाउनलोड करते हैं और एप्लिकेशन में आप अपना पिक अप लोकेशन चुनते हैं.
     

  • जीपीएस ऑन होगा और आप अपने एरिया का पिन डालेंगे.

     

  • इसके बाद आपको अपनी लोकेशन दिखेगी. इसके बाद रिक्वेस्ट पर क्लिक करेंगे इसके बाद  दिखाएगा कि  आपकी गाड़ी बुक हो चुकी है.

     

  • इसके बाद आपको नजदीकी कैब ड्राइवर का नंबर आपको मिल जाएगा. और यहां यह भी दिखाएगा कि कितने मिनट में गाड़ी आपके पास पहुंच जाएगा.

     

  • यहां परआपको टैक्सी के इस्तेमाल के बाद पैसे भी नकद नहीं चुकाए जाते और पैसा क्रेडिट कार्ड से कट जाता है.

 

रिजर्व बैंक ऐसे भुगतान पर सवाल उठा चुका है-

खबरों के मुताबिक हालांकि इस तरीके पर रिजर्व बैंक भी सवाल उठा चुका है. हम आपको बता दें कि उबर के बिजनेस मॉडल पर शुरू से विवाद रहा है. उबर की टैक्सी लेने पर आपको कैश पेमेंट नहीं करना होता है. क्रेडिट कार्ड से पेमेंट को लेकर आरबीआई ने भी आपत्ति जताई थी.

 

पहले सिस्टम ये था कि एक बार उबर के यूजर्स अकाउंट में आपको अपने क्रेडिट कार्ड की डिटेल स्टोर करनी होती थी. इसके बाद आप जब भी टैक्सी बुक करते थे यात्रा खत्म होने के बाद क्रेडिट कार्ड से पेमेंट ऑटो डेबिट हो जाता था क्योंकि ऑथेंटिकेशन की प्रक्रिया का पालन नहीं होता था.

आरबीआई की आपत्ति के बाद उबर ने पेमेंट मोड बदल लिया है और अब पेटीएम के जरिए कंपनी पेमेंट लेती है.

 

यह भी पढ़ें-

दिल्ली: उबेर App से बुक टैक्सी में रेप