इलाहाबाद : महिला छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह के दाखिले पर विवाद

By: | Last Updated: Saturday, 5 March 2016 8:25 AM
I am being harassed for campus activism, claims student leader

नई दिल्ली : पहली महिला छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह के दाखिले को इलाहाबाद यूनिवर्सिटी की जांच टीम ने गलत बताया है. इसके बाद ऋचा ने दावा किया है कि एबीवीपी के विरोध के कारण निशाना बनाया गया है. सूत्रों के मुताबिक यूनिवर्सिटी प्रशासन की जांच में ऋचा के दाखिले में गड़बड़ी पाई गई है.

यूनिवर्सिटी प्रशासन की लीक हुई जांच रिपोर्ट के मुताबिक ऋचा को मार्च 2014 में डीफिल में आरक्षित सीट पर दाखिला दिया गया था, जो गलत है. जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट वीसी ऑफिस को सौंप दी है, लेकिन वीसी के छुट्टी पर होने की वजह से अभी उस पर कोई फैसला नहीं हुआ है.

ऋचा का आरोप है कि उन्हें जेएनयू, रोहिते वेमुला के मसले पर आवाज़ उठाने और एबीवीपी का विरोध करने के कारण केंद्र के इशारे पर निशाना बनाने की तैयारी हो रही है. ऋचा का कहना है कि अगर उन्हें आरक्षित सीट पर दाखिला दिया गया, तो इसमें उनकी नहीं बल्कि यूनिवर्सिटी प्रशासन की ग़लती है.

ऋचा सिंह के दाखिले में गड़बड़ी का आरोप छात्रसंघ अध्यक्ष के चुनाव में दूसरे नंबर पर रहे रजनीश सिंह ने लगाया था, जिसके बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन ने जांच शुरू की थी. ऋचा सिंह आजादी के बाद इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ अध्यक्ष का चुनाव जीतने वाली पहली महिला हैं. उन्होंने ये चुनाव निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीता है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: I am being harassed for campus activism, claims student leader
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017