जानें पीएम नरेंद्र मोदी की जुबानी क्या है आइडिया ऑफ इंडिया?

By: | Last Updated: Friday, 27 November 2015 3:39 PM
Idea of India by Narendra Modi

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज संसद में संविधान पर भाषण दिया. आइडिया ऑफ इंडिया क्या है इस पर अक्सर बहस होती रही है. प्रधानमंत्री की नजर में आइडिया ऑफ इंडिया क्या है इसके लिए उन्होंने कई श्लोकों का सहारा लिया. आइए देखते हैं उनके क्या मतलब हैं.

 

1. सत्यमेव जयते

सत्य की हमेशा जीत होती है

 

2. अहिंसा परमो धर्म:

अहिंसा सबसे बड़ा धर्म है

 

3. एकं सद्विप्रा बहुधा वदन्ति

ईश्वर एक हैं लोग उन्हें अलग-अलग नाम से पुकारते हैं, पौधे में भी परमात्मा होते हैं

 

4. वसुधैव कुटुम्बकम

पूरी वसुधा यानी पूरा संसार एक परिवार की तरह है

 

5. सर्व धर्म समभाव

सभी पंथ जाती, आदि को समान भाव से ही देखे

 

6. अप्प दीपो भव

अपना प्रकाश स्वयं बनो

 

7. तेन त्यक्तेन भुंजीथा

यानी त्याग भाव से संसार में रहना चाहिए

 

8. सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया. सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःखभाग् भवेत्

सभी सुखी हों, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े

 

9. न त्वहं कामये राज्यं न स्वर्गं नापुनर्भवम्. कामये दुःखतप्तानां प्राणिनाम् आर्तिनाशनम्

न तो राज्य की कामना करता हूं, न स्वर्ग की और न ही मोक्ष की, बस यही कामना है कि दुःखी प्राणियों के कष्ट दूर कर सकूं

 

10. वैष्णव जन तो तेने कहिये जे पीड परायी जाणे रे. पर दुःखे उपकार करे तो ये मन अभिमान न आणे रे

वैष्णव वो व्यक्ति है जो दूसरों की पीड़ा को अपना दर्द समझता हो

 

11. जन सेवा ही प्रभु सेवा

गरीब की सेवा ईश्वर की सेवा के समान है

 

12. ॐ सहना भवतु, सहनो भुनक्तु सहवीर्यं करवावहै! तेजस्वीनावधीतामस्तु माविद्विषावहै ॐ शांति शांति शांति !!

ईश्वर हमारा रक्षण करे – हम सब मिलकर सुख भोगें – एक दूसरे के लाभ के लिए कोशिश करें -हम सबका जीवन तेज से भर जाय – परस्पर कोई द्वेष या ईर्ष्या न हो

 

12. नर करनी करे तो नारायण हो जाए

अर्थात मानव यदि कर्म करे तो ईश्वर बन सकता है

 

13. नारी तू नारायणी

नारी तुम ईश्वर के समान हो

 

14. यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता

जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवताओं का निवास होता है

 

15. आनो भद्रा कृत्वा यान्तु विश्वतः

ऋग्वेद के इस मंत्र का अर्थ है कि किसी भी सदविचार को अपनी तरफ किसी भी दिशा से आने दें

 

16. जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी

जन्मभूमि मां के समान है जो स्वर्ग से भी सुन्दर है

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Idea of India by Narendra Modi
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017