आरएसएस, बीजेपी नजरिया बदलें तो हम साथ चलने को तैयार: जमीयत

By: | Last Updated: Tuesday, 18 November 2014 9:06 AM
if rss, bjp ready to change attitude towards muslims, we are ready to go together says maulana syed arshad madani

फ़ाइल फ़ोटो: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत

नई दिल्ली: देश के प्रमुख मुस्लिम संगठन जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने कहा है कि अगर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और बीजेपी मुसलमानों को लेकर अपने नजरिए में बदलाव करते हैं तो वह देश को मजबूत बनाने के लिए उनके साथ चलने और मिलकर काम करने तैयार है. जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी ने कहा, ‘‘हमारी उनसे (संघ/आरएसएस और बीजेपी) कोई सियासी लड़ाई नहीं है…कोई सत्ता की लड़ाई नहीं है. अगर वे कहते हैं कि हमसे (मुसलमानों के) करीब होना चाहते हैं, हमारा नजरिया पहले जैसा नहीं है और हम प्यार-मोहब्बत को बढ़ावा देना चाहते हैं हम बात करेंगे और आगे बढ़ेंगे. ऐसा होना तो बड़ी अच्छी बात है.’’

 

उनसे सवाल किया गया था कि अगर आरएसएस और बीजेपी अपने नजरिए में बदलाव लायें तो वह देश को मजबूत बनाने के लिए उनके साथ चलने और मिलकर काम करने को तैयार हैं? उन्होंने आगे कहा, ‘‘अगर मोहन भागवत (संघ/आरएसएस प्रमुख) उस नजरिए को खत्म कर देंगे जिससे हमें विरोध है, भाई-चारे को लेकर चलेंगे और हिंदू और मुसलमान दोनों के लिए एक पैमाना रखेंगे तो हम उनके साथ क्यों नहीं जा सकते. हम अगर किसी कांग्रेसी के साथ चल सकते हैं, अगर हम समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी वालों के साथ चल सकते हैं तो हम ऐसा क्यों कहेंगे आरएसएस और बीजेपी के साथ नहीं चलेंगे’’

 

मदनी ने कहा कि सरकार और देश के मुस्लिम संगठनों के बीच संपर्क और बातचीत की पहल पहले सरकार को करनी चाहिए. मदनी ने देश में मदरसों को लेकर ‘गलतफहमियों’ को दूर करने और हिंदू-मुस्लिम एकता पर जोर देते हुए कहा कि भाई-चारा बढ़ाने में मदरसे अहम भूमिका निभा सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मदरसों का नेटवर्क गांव-गांव तक फैला है…अब हम मदरसों के सुपुर्द एक और काम सौंपना चाहते हैं. यह काम भाई-चारे के पैगाम का है. उन्हें मजहब के असली पैगाम यानी इंसानियत की बुनियाद पर भाई-चारा बढ़ाने के लिए आगे आना होगा.’’

 

जमीयत प्रमुख ने कहा, ‘‘इस तरह की गलतफहमियां फैलाई गई हैं कि मदरसे आतंकवाद के अड्डे हैं. जिन लोगों को इस तरह गलतफहमियां हैं उन्हें मदरसों में बुलाना चाहिए. मदरसों को भी बहुसंख्यक समाज के लोगों तक पहुंचकर इन गलतफहमियों को दूर करना चाहिए.’’    

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: if rss, bjp ready to change attitude towards muslims, we are ready to go together says maulana syed arshad madani
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017