हमें भारतीय अर्थव्यवस्था की विश्वसनीयता बढ़ाने की जरूरत : जेटली

By: | Last Updated: Sunday, 24 January 2016 4:20 PM
India can defy global slowdown with reforms, planning: Jaitley

दावोस: वित्त मंत्री अरण जेटली ने निजी क्षेत्र से झिझक छोड़ने और निवेश बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की विश्वसनीयता बढ़ाने की बेहद जरूरत है क्यों कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में संकट के बीच दुनिया भारत को आशा की किरण के रूप में देख रही है.

जेटली ने पीटीआई भाषा से साक्षात्कार में कहा, ‘‘दुनिया भारत को एक आशा की किरण के रूप में देखती है, क्योंकि सिर्फ हम ही ऐसे हैं जो सात प्रतिशत से अधिक की दर से वृद्धि दर्ज कर रहे हैं. निवेशक भारत में निवेश कर रहे हैं और भारत की ओर सकारात्मक तरीके से देख रहे हैं.’’

जेटली यहां विश्व आर्थिक मंच (डब्ल्यूईएफ) की वाषिर्क बैठक में शामिल होने आए थे. यह बैठक कल रात संपन्न हो गई. उन्होंने कहा कि निजी क्षेत्र को सतर्कता छोड़कर निवेश करना चाहिए.

वित्त मंत्री के अनुसार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की 7-7.5 प्रतिशत की वृद्धि दर को और बढ़ाने की गुंजाइश है और उसके कुछ अतिरिक्त वृद्धि के इंजनों की जरूरत है. उन्होंने कहा कि सरकार का ध्यान फिलहाल निजी क्षेत्र के निवेश में सुधार और अधिक विदेशी निवेश आकषिर्त करने पर है.

चीन की अर्थव्यवस्था में सुस्ती की चिंता और अमेरिका और यूरोप में दिक्कत के मद्देनजर जेटली ने कहा कि दुनिया अब एक नई स्थिति से निपटने के लिए तैयार हो रही है, जो पूर्व में आई समस्याओं से कुछ भिन्न हैं. उन्होंने वैश्विक अर्थव्यवस्था के बारे में कहा कि पहले चिंता कच्चे तेल के उंचे दाम थी, अब चिंता कच्चे तेल के निचले स्तर पर आ चुकी कीमत है.

वित्त मंत्री जेटली ने कहा, ‘‘मेरा अपना मानना है कि ऐसी अर्थव्यवस्था और कंपनियां जो मुख्य रूप से सेवा क्षेत्र पर निर्भर हैं, इस स्थिति में टिकी हुई हैं. वहीं ऐसी कंपनियां या अर्थव्यवस्थाएं जो उर्जा, तेल, धातु और जिंसों पर निर्भर हैं, बुरी तरीके से प्रभावित हुई हैं.’’

उन्होंने कहा कि मूड गहरी चिंता का है. वैश्विक नेताओं से परिचर्चा और पैनल विचार विमर्श से उभरी प्रमुख बातों के बारे में पूछने पर जेटली ने कहा कि यहां एकमत से राय यही थी कि भारत को उचित और जिम्मेदाराना तरीके से सुधारों को आगे बढ़ाना चाहिए और मौजूदा आर्थिक परिदृश्य में और वृद्धि दर्ज करनी चाहिए.

जेटली ने कहा कि वैश्विक नेताओं और डब्ल्यूईएफ के अन्य भागीदारों का मूड चिंता वाला था. वित्त मंत्री ने कहा कि भारत को वैश्विक सुस्ती से बचाव के लिए अपने ढांचागत सुधारों की राह पर आगे बढ़ना चाहिए.

वित्त मंत्री ने कहा कि एक साथ कई प्रकार की चुनौतियां उभरी हैं. चीन को लेकर चिंता है हालांकि चीन के लोगों का ही कहना है कि उसके लिए अब दो अंकीय वृद्धि दर्ज करना संभव नहीं है और वे सात प्रतिशत की वृद्धि दर को नया सामान्य स्तर मानते हैं. लेकिन वैश्विक स्तर पर चीन को लेकर अभी काफी चिंता बनी हुई है.

वित्त मंत्री जेटली ने आगे कहा कि कच्चे तेल, धातु तथा जिंसों का उत्पादन करने वाले देश गंभीर चुनौती का सामना कर रहे हैं और इस बात को लेकर भी चिंता है कि अमेरिका में चौथी तिमाही संभवत: अच्छे नतीजे नहीं देगी. उन्होंने कहा कि इन मुद्दों को लेकर वैश्विक स्तर पर अनिश्चितता बढ़ी है. इससे कई बाजारों में निवेश का समायोजन करना पड़ा है.

जेटली ने कहा कि कई बाजारों से पैसा निकालकर अन्य स्थानों पर लगाया जा रहा है. निवेश सतर्क हैं और वे अनिश्चितता के माहौल में जोखिम उठाने से कतरा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि ऐसे में वैश्विक स्तर पर शेयर बाजार बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. वे वैश्विक स्तर पर एकीकृत हैं. दुनिया के अधिकांश हिस्सों में मुद्राएं बुरी तरह प्रभावित हुई हैं. हालांकि, भारत के मामले में मुद्रा का प्रभाव कम है, लेकिन कुल मिलाकर असर पड़ा है.

Business News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India can defy global slowdown with reforms, planning: Jaitley
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Related Stories

कितने सुरक्षित है स्मार्टफोन हैंडसेट, बताएं मोबाइल हैंडसेट मुहैया कराने वाली कंपनियां
कितने सुरक्षित है स्मार्टफोन हैंडसेट, बताएं मोबाइल हैंडसेट मुहैया कराने...

नई दिल्लीः चीन से तकनीकी खतरे की आशंका के मद्देनजर सरकार ने भारतीय बाजारो में स्मार्टफोन...

जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट मिलना चाहिए'
जेपी विवाद पर बोले वित्त मंत्री: 'जिन लोगों ने पैसा लगाया है, उन्हें फ्लैट...

नई दिल्लीः एनसीआर में जेपी इंफ्राटेक के प्रोजेक्ट्स में घर खरीदारों के लिए थोड़ी राहत की किरण...

हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया
हिमाचल के लोगों को तोहफाः सरकार ने डीए में 4 फीसदी बढ़ोतरी का ऐलान किया

हिमाचल: हिमाचल प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को आज राज्य सरकार ने तोहफा दिया है. हिमाचल प्रदेश...

नोटबंदी के बाद लोन हुए सस्ते, बैंकों की ब्याज दरें घटीं: पीएम मोदी
नोटबंदी के बाद लोन हुए सस्ते, बैंकों की ब्याज दरें घटीं: पीएम मोदी

नई दिल्ली: आज स्वतंत्रता दिवस पर देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि...

सहारा को झटकाः एंबी वैली प्रोजेक्ट की नीलामी शुरू, रिजर्व प्राइस 37,392 करोड़ रुपये
सहारा को झटकाः एंबी वैली प्रोजेक्ट की नीलामी शुरू, रिजर्व प्राइस 37,392 करोड़...

नई दिल्लीः सहारा समूह के लिए आज बड़े झटके की खबर है. सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के 3 दिन बाद आज...

जेपी इंफ्रा की संपत्ति बेच अटकी परियोजनाएं पूरी करने की संभावनाएं खंगालने में जुटी सरकार
जेपी इंफ्रा की संपत्ति बेच अटकी परियोजनाएं पूरी करने की संभावनाएं खंगालने...

नई दिल्लीः राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा और ग्रेटर नोएडा में जेपी इंफ्राटेक के घर...

जुलाई में थोक मंहगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें हुईं महंगी
जुलाई में थोक मंहगाई दर 1.88 फीसदी बढ़ी, खाने-पीने की चीजें हुईं महंगी

नई दिल्लीः देश के थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित महंगाई दर जुलाई में बढ़कर 1.88 फीसदी रही. वाणिज्य...

AC रेस्टोरेंट के बिना एसी वाले एरिया से खाना पैक कराने पर भी 18% जीएसटी
AC रेस्टोरेंट के बिना एसी वाले एरिया से खाना पैक कराने पर भी 18% जीएसटी

नई दिल्ली: किसी होटल का एक हिस्सा अगर एयर कंडीशनर (एसी) है तो वहां से खाना पैक कराकर ले जाने या...

नोटबंदी के दौरान कितनी रकम आई? RBI की वेबसाइट पर है दिलचस्प जानकारी !
नोटबंदी के दौरान कितनी रकम आई? RBI की वेबसाइट पर है दिलचस्प जानकारी !

नई दिल्लीः नोटबंदी के दौरान देश में बैंकों में कितना पैसा आया इसका आधिकारिक आंकड़ा भले ही अभी...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017