जब चीन के छक्के छुड़ाकर भारतीय सैनिकों ने किया चित

By: | Last Updated: Monday, 29 June 2015 5:17 PM
india-china

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री मोदी भले ही चीन का दौरा करके रिश्तों की नई कहानी लिखने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन एबीपी न्यूज जब भारतचीन सीमा पर पहुंचा तो हमें सुनाई दी कुछ पुरानी कहानियों की गूंज. 1962 में चीन के हाथों हमारी हार की कहानी तो आपने सुनी होगी लेकिन क्या आपने कभी सुना है कि भारत ने उस हार के पांच साल बाद बदला लिया था. वो भी दो बार दो अलग अलग मोर्चों पर. पहले नाथुला मोर्चे की विजयगाथा.

 

भारत और चीन के बीच करीब 4 हजार किलोमीटर लंबी लाईन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल यानी एलएसी पर 1967 में भारतीय सेना ने चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया था. वो जगह थी भारत चीन सीमा पर मौजूद ना-थुला पास.

 

दरवाजे के एक तरफ आपको लोहे की ये बाड़ दिखेगी जिसे लेकर 11 सितंबर साल 1967 दोनों देशों की सेनाएं एक दूसरे के सामने आ गई थीं.

 

साल 1967 से पहले सीमा का ये हिस्सा ऐसा नहीं था. यहां सीमा की पहचान के लिए सिर्फ एक पत्थर लगा था. ये भारत की सीमा पर आखिरी पोस्ट थी. दूसरी तरफ से चीन की सेना बाकायदा लाउडस्पीकर पर भारत की सेना को पीछे हटने की धमकी दिया करती थी कि पीछे हटो वरना 1962 की तरह कुचल दिया जाएगा. यही नहीं चीनियों ने भारतीय सीमा में घुसकर बंकर बनाने की कोशिश भी की थी.

चीन की इन हरकतों को रोकने के लिए 1967 में नाथुला पास पर तैनात मेजर जनरल सगत राय की अगुवाई में कंटीली बाड़ लगाने का फैसला किया. आज भी इस बाड़ के हिस्से ज्यों के त्यों मौजूद हैं.

 

कंटीली बाड़ को लेकर खूनी लड़ाई तब शुरू हुई तब जुबानी झड़प के बाद चीन ने बाड़ लगा रही भारतीय सेना पर हमला कर दिया. बाड़ लगाने में जुटे इंजीनिरिंग यूनिट समेत भारतीय सेना के 67 जवान मारे गए.

 

1967 के चीनी हमले के बाद भारतीय सेना का खून खौल उठा. जवाबी हमला शुरू हुआ और चीन की मशीनगन यूनिट को पूरी तरह तबाह कर दिया गया.

 

1967 की उस लड़ाई में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के लिए यहां अमर जवान स्मारक बनाया गया है. तब से इस इलाके में चीन ने कभी ना तो घुसपैठ की कोशिश की और ना ही भारतीय सेना से टकराने की हिम्मत की. यहां आज भी 48 साल पुराने हालात की तरह ही चौकियां मौजूद हैं जिनके बीच सिर्फ चंद कदमों का फासला है.

 

लेकिन चीन ना आज मानता है और ना उस हार के बाद मानने को तैयार हुआ. नाथुला में मुंह की खाने के सिर्फ 15 दिन बाद एक और जंग हुई पास के ही चोला इलाके में.

 

भारत चीन सीमा में नाथुला के पास ही है चोला इलाका जहां पिछले साल बनाया गया है चोला विजय का स्मारक. ये स्मारक नाथुला में हुई उस झड़प के महज 15 दिन बाद चोला पास इलाके में चीन पर भारत की विजय का दूसरा प्रतीक है जिसे पिछले साल ही बनाकर तैयार किया गया है.

 

यहां दर्ज है चोला की विजयगाथा. बोर्ड पर दिखाई देगी आपको लाल रंग से रंगे एक पत्थर की तस्वीर. यही वो पत्थर है जिस पर कब्जे को लेकर भारत और चीन में बारूदी जंग शुरू हुई थी.

 

इस इलाके में अगर भारत और चीन की पोस्ट को देखें तो दोनों के बीच की दूरी महज 700 फुट है. इस इलाके में जवान ऐसे बंकरों में रहते हैं और 24 घंटे भारतीय सीमा की रखवाली करते हैं. 1967 की चोला पास की लड़ाई में भी ऐसे ही भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना के छक्के छुड़ा दिए थे.

 

इस लड़ाई के बाद से चीन ने चोला इलाके में कभी दखल देना मुनासिब नहीं समझा. इसकी एक और वजह है यहां भारत की चौकियां बेहद ऊंची हैं और लड़ाई की सूरत में इसे फायदेमंद समझा जाता है. करीब साढ़े चौदह हजार फुट की उंचाई पर बसा है चोला पास और इसकी पोस्ट इससे भी ऊपर यानी 15 हजार फुट की ऊंचाई पर हैं.

 

यही वजह है की भारत चीन सीमा के इस इलाके में ना सिर्फ भारत की जीत की कहानी लिखी गई बल्कि अब यहां उस जीत की कहानी स्मारक की शक्ल में हमेशा के लिए अमर बना दिया गया है.

 

1968 से ही एक दिलचस्प कहानी भी भारत चीन सीमा की सुरक्षा का हिस्सा बनी हुई है. ये कहानी है जवान हरभजन सिंह की जिनकी मौत के बाद भी सेना ने ना सिर्फ उन्हें नौकरी पर रखा बल्कि अब तो बाकायदा दफ्तर और घर के साथ मंदिर भी बन गया है .

 

बाबा हरभजन सिंह दरअसल एक जवान के तौर पर सेना में 1966 में भर्ती हुए थे. भारत-चीन युद्ध के दौरान घोड़ों के साथ एक ऊंची पोस्ट पर जाते वक्त वो फिसल गए और उनकी मौत हो गई.

 

भारत चीन सीमा पर तैनात ब्लैक कैट डिवीजन ने उन्हीं सपनों के आधार पर हरभजन सिंह को नौकरी दी, प्रमोशन दिया और छुट्टियां भी दिया करते थे.

 

जब भारत के जवानों ने चीन को चित्त किया 

 

लेकिन जब आस्था की ये कहानियां अंधविश्वास की शक्ल लेने लगीं तो पांच साल पहले हरभजन सिंह की छुट्टियां कैंसिल कर दी गईं और फिर उन्हें रिटायर घोषित कर दिया गया. लेकिन अब भी यहां आने वाले सैलानियों के बीच इस सिपाही का ये मंदिर अब भी लोकप्रिय है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: india-china
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: China India
First Published:

Related Stories

पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा का जायजा
पुराने अंदाज में किरन बेदी, रात में स्कूटी पर सवार होकर लिया महिला सुरक्षा...

पुडुचेरी: पुडुचेरी की उप राज्यपाल किरण बेदी ने रात में भेष बदलकर केंद्र शासित प्रदेश में...

LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5 लोगों की मौत, 34 घायल
LIVE: मुजफ्फरनगर के खतौली के पास कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्तः 5...

नई दिल्लीः उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बड़ा ट्रेन हादसा हुआ है. मुजफ्फरनगर में खतौली के पास...

गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!
गायों के 'सीरियल किलर' की एक और काली करतूत, 93 लाख के घोटाले का आरोप!

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में बीजेपी नेता हरीश वर्मा जो 200 से ज्यादा गायों को भूखा मारने के आरोप में...

गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी जाएंगे
गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी...

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत से मचे...

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'
CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज स्वच्छ यूपी-स्वस्थ...

नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड क्रॉस
नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड...

जिनेवा: आईएफआरसी यानी   ‘इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रॉस एंड रेड क्रीसेंट सोसाइटीज’ ने...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017