यूरोपीय संसद ने इतालवी मरीन पर पारित किया प्रस्ताव, भारत ने किया नामंजूर

By: | Last Updated: Friday, 16 January 2015 7:54 AM
India disapproves European Parliament resolution on Italian marines

फ़ाइल फ़ोटो: भारतीय मछुआरों के हत्या के आरोपी इटली के दो मरीन, मासिमिलियानो लातोरे और सल्वातोरे गिरोने

ब्रसेल्स/नई दिल्ली: यूरोपीय संसद ने एक ऐसा प्रस्ताव पारित किया है, जो भारत से कहता है कि वह दो भारतीय मछुआरों की हत्या के आरोपी दो इतालवी मरीनों को देश लौटने की अनुमति दे. इस प्रस्ताव पर नई दिल्ली ने तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए इस कदम को ‘गलत सलाह’ करार दिया है क्योंकि मामला न्यायालय के समक्ष विचाराधीन है. यूरोपीय संसद के फैसले पर आपत्ति जताते हुए भारत ने आज कहा कि दो इतालवी मरीनों का मामला न्यायालय के समक्ष विचाराधीन है और भारत एवं इटली के बीच इसपर चर्चा की जा रही है.

 

विदेश मंत्रालय के आधिकारिक प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने नयी दिल्ली में कहा, ‘‘माननीय सुप्रीम कोर्ट ने 14 जनवरी 2015 के अपने फैसले में इतालवी मरीन मासीमिलियानो लातोरे को स्वास्थ्य कारणों के चलते इटली में रहने के लिए तीन माह का विस्तार दिया है. वहीं दूसरा मरीन साल्वातोरे गिरोने नयी दिल्ली में इतालवी दूतावास में रह रहा है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इन परिस्थितियों में, यूरोपीय संसद के लिए बेहतर यही होता कि वह ऐसा प्रस्ताव पारित नहीं करती.’’

 

देर रात आकार लेने वाले घटनाक्रम के तहत, स्ट्रासबर्ग में यूरोपीय संसद ने दो इतालवी मरीनों के मुद्दे पर प्रस्ताव पारित कर दिया. इस प्रस्ताव के तहत अन्य चीजों के साथ-साथ यह आह्वान किया गया है कि दोनों मरीन को इटली वापस आने दिया जाए और न्यायाधिकार क्षेत्र में बदलाव किया जाए.

 

यूरोपीय संसद की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति में प्रस्ताव के हवाले से कहा गया, ‘‘यूरोपीय संसद उम्मीद करती है कि दो इतालवी मरीनों के अभियोजन के मुद्दे पर इटली और भारत के बीच के कूटनीतिक विवाद को इतालवी न्यायाधिकार क्षेत्र और/या अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता के जरिए जल्द ही सुलझा लिया जाएगा.’’

 

इसमें कहा गया कि सदस्यों ने मरीनों को स्वदेश वापस भेजने का भी आह्वान किया क्योंकि बिना किसी आरोप के उन्हें हिरासत में रखना ‘मानवाधिकारों का गंभीर उल्लंघन है.’ विज्ञप्ति में कहा गया कि हाथ उठाकर दिए गए मत के आधार पर मंजूर किए गए एक संयुक्त प्रस्ताव में सदस्यों ने दो भारतीय मछुआरों की त्रासद मौत पर गहरा दुख जाहिर किया लेकिन उन्होंने मरीनों को हिरासत में रखे जाने पर गंभीर चिंता भी जताई.

 

दो मरीनों- मासीमिलियानो लातोरे और साल्वातोरे गिरोने को 15 फरवरी 2012 को केरल में दो भारतीय मछुआरों की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था. दोनों मरीन यह कहते आए हैं कि ‘एनरीका लेक्सी’ पोत की सुरक्षा करते हुए उन्होंने मछुआरों को गलती से समुद्री डाकू समझकर गोली चला दी थी.

 

गोलीबारी की इस घटना के कारण भारत और इटली के बीच न्याय अधिकार क्षेत्र और छूट के मुद्दे पर राय में भेद होने के कारण राजनयिक विवाद शुरू हो गया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India disapproves European Parliament resolution on Italian marines
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017