100 दिन में जो कदम उठाए उसके नतीजे सामने आए: मोदी

By: | Last Updated: Monday, 1 September 2014 5:14 AM
India, Japan need to work together to lead world’s economy: PM

टोक्यो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने जापान दौरे के तीसरे दिन यानी सोमवार को कहा कि उनकी सरकार ने पिछले 100 दिनों में जो कदम उठाए हैं, उसके परिणाम सामने आने लगे हैं.

 

अपनी पांच दिन के जापान यात्रा के तीसरे दिन टोक्यो में मोदी ने कहा, “पिछले 100 दिन भीतर मैंने जो पहल किए, जो कदम उठाए, उसके परिणाम स्पष्ट हैं.”

 

मोदी और शिंजो के बीच होंगे कई समझौते, बुलेट ट्रेन पर बातचीत मुमकिन 

 

मोदी ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय को ‘अधिक प्रभावी, अधिक उपयोगी’ बनाया है.

 

पीएमओ में जापान के लिए विशेष 

 

नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री कार्यालय में जापान के लिए विशेष दल बनाने की घोषणा की. मोदी ने कहा कि औद्योगिक कामकाज देखने वाली दो सदस्यीय टीम में अब जापान के दो सदस्य भी होंगे. ये दोनों जापानी सदस्य भारतीय सदस्यों के साथ स्थाई रूप से बैठेंगे और निर्णय निर्माण प्रक्रिया का हिस्सा होंगे.

 

यह टीम प्रधानमंत्री कार्यालय का हिस्सा होगी.

 

प्रधानमंत्री ने कहा, “व्यवसाय को सहज बनाने की तरह ही यह पहल जापान के लिए सहज होगा.”

 

सरकार-निवेशकों में समन्वय की आवश्यकता

 

मोदी ने जापानी निवेशकों को भारत में आकर्षित करते हुए कहा कि वह विकास के लिए निवेशकों और सरकार के बीच समन्वय की आवश्यकता को समझते हैं.

 

जापानी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री और जापान-भारत बिजनेस को-ऑपरेशन कमेटी की ओर से आयोजित कार्यक्रम में मोदी ने हिन्दी में कहा, “गुजरात में काम कर चुके जापानी लोगों को विकास के गुजरात मॉडल के बारे में मुझसे अधिक अच्छी तरह मालूम है.”

 

केंद्र में बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के 100 दिन पूरे होने के संदर्भ में मोदी ने कहा कि इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय को अधिक प्रभावशाली बनाया.

 

उन्होंने कहा, “मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 5.7 प्रतिशत विकास दर इसे दर्शाता है.”

 

जापानी व्यवसायियों को लुभाया

 

मोदी ने जापान के व्यवसायियों को लुभाने के लिए गुजरात का उदाहरण सामने रखा.

 

मोदी ने यहां जापान के व्यवसायियों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर गुजरात का अनुभव मानदंड है तो भारत में उन्हें ‘वही प्रतिक्रिया, वही गति’ मिलेगी.

 

मोदी ने यह भी कहा कि जापान गुणवत्ता, प्रभावशीलता और अनुशासन के लिए जाना जाता है.

 

कौशल विकास के लिए जापान की मदद

 

मोदी ने भारत में कौशल विकास के लिए जापान से मदद मांगी. मोदी ने यहां कहा कि भारत दुनिया का सबसे अधिक युवा देश है और यहां के युवाओं की बड़ी संख्या दुनिया में श्रम बल की आवश्यकता की पूर्ति कर सकता है.

 

मोदी ने कहा कि वह चाहते हैं कि जापान भारत को कौशल विकास में मदद दे. जापान ‘वास्तव में इस दिशा में हमारी मदद कर सकता है.’

 

भारतीय स्कूलों में पढ़ाईं जाएं जापानी भाषा

 

भारत और जापान के बीच भाषाई संबंध पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापानी शिक्षकों से मुलाकात की और उनसे भारत में लोगों को जापानी भाषा सिखाने के लिए कहा.

 

जापान की पांच दिवसीय यात्रा पर पहुंचे मोदी ने ताईमेई प्राथमिक स्कूल में शिक्षकों से मुखातिब होते हुए कहा, “हम अपने स्कूलों में जापानी भाषा सिखाने की कोशिश कर रहे हैं. हमें इसके लिए शिक्षकों की आवश्यकता है. मैं आप सभी को भारत आने और वहां लोगों को जापानी भाषा सिखाने का न्यौता देता हूं.”

 

मोदी ने यह भी कहा कि एशियाई देशों को शिक्षा के क्षेत्र में अधिक तैयार होने की जरूरत है. उन्होंने कहा, “दुनिया ने स्वीकार किया है कि 21वीं सदी एशिया की शताब्दी है, लेकिन हमें इसके लिए तैयार रहना होगा.”

 

करीब 136 साल पुराना ताईमेई प्राथमिक स्कूल वर्ष 2011 में आए भूकंप के कारण नष्ट हो गया था, जिसका बाद में पुनर्निर्माण किया गया. मोदी ने इस अवसर पर गुजरात में 2001 में आए भूकंप के दौरान भुज शहर को हुए नुकसान का भी जिक्र किया.

 

मोदी ने बाद में जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे से भी बातचीत की.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India, Japan need to work together to lead world’s economy: PM
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: India Japan japan tour Narendra Modi
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017