गीता के बदले पाकिस्तान को रिटर्न गिफ्ट में मिलेगा 'रमजान'

By: | Last Updated: Tuesday, 27 October 2015 7:08 AM
India to send Ramzan home as a ‘return gift’ to Pakistan for Geeta

नई दिल्ली: गीता के भारत वापस आने के बाद दो साल से भोपाल में रह रहे रमज़ान की पाकिस्तान जाने की उम्मीदें बढ़ गई है. कराची का रहनेवाला 14 साल का रमज़ान दस साल की उम्र में अपनी माँ से बिछड़ गया था और फिलहाल भोपाल में उम्मीद नाम की संस्था में बच्चों के साथ रह रहा है.

 

उम्मीद नाम की संस्था का दावा है कि रमज़ान को पाकिस्तान भेजने पर विदेश मंत्रालय ने विचार करना शुरू कर दिया है. कराची में रहने वाली रमज़ान की माँ रजिया बेगम बेसब्री से अपने बेटे के वापस आने का इंतज़ार कर रही हैं.

 

रमजान ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा कि वो भी अपनी मां के पास जाना चाहता है. रमजान ने बताया कि उसके पास एक फोन आया था जिसमें उससे बोला गया कि तुम्हें घर भेज दिया जाएगा. हालांकि रमजान ये नहीं बता सका कि किसका फोन उसके पास आया था.

 

उम्मीद की प्रमुख अर्चाना सहाय ने बताया कि उन्होंने रमजान को बताया है कि पाकिस्तान हाइकमिशन से फोन आया था और उनकी एप्लिकेशन एक्सेप्ट हो गई है. उन्होंने कहा, “सरकार के साथ मेरी जो बातचीत हुई है वो पाकिस्तान भेज दिया गया है.”

 

रमजान ने खुद ही बताया कि वो भोपाल कैसे पहुंचा. रमजान ने एबीपी न्यूज़ से बताया, ‘मै जब नौ साल का था तो मम्मी पापा का तलाक हो गया था. उसके बाद पापा मुझे लेकर बांग्लादेश गए. वहां उन्होंने दूसरी शादी कर ली. सौतेली मां तंग करती थी. पापा ने कहा कि यहां से चला जा. उस दिन मैं दोस्त के पास चला गया. अगले दिन घर आया तो पापा ने बोला कि तु मेरा  बेटा नहीं और मैं तेरा बाप नहीं. यही कहकर उन्होंने मुझे वहां से भगा दिया. इसके बाद मैं वहां से मजार में चला गया. वहां दरगाह पर तीन चार महीने रहा. इसके बाद वहां पर सैदुल्ला भाई थे उन्होंने मेरी मदद की. जहां भाई ने भेजा था मैं वहां गया. मैंने बताया कि मेरी सौतेली मां मेरी मुझे तंग करती है. उन्होंने कुछ पैसे देकर बॉर्डर पार कर दिया. इसके बाद नदी पार की. इसके बाद मुझे इंडिया में लाया गया. उसके बाद इंडियन पैसे देकर मुझे गाड़ी में बिठा दिया. उसके बाद राची पहुंच गया  फिर दिल्ली. यहां पर चार दिन रहा. यहां एक भैया से मैंने बताया कि मैं पाकिस्तान का रहने वाला हूं. उन्होंने कहा कि ये बात किसी को नहीं बताना. फिर मुझे ट्रेन में बिठा दिया. मैं ट्रेन में रो रहा था. एक भैया ने मुझे भोपाल थाने में पहुंचा दिया. थाने ने मुझे उम्मीद को दे दिया. मैंने 6 महीने बाद बताया कि मैं पाकिस्तान का रहने वाला हूं. तब से उम्मीद के लोग मुझे पाकिस्तान भिजवाने की कोशिश कर रहे हैं.’

 

उम्मीद फाउंडेशन के मुताबिक विदेश मंत्रालय रमजान को पाकिस्तान भेजने पर विचार कर रहा है. जल्द ही वो मां के पास पाकिस्तान में होगा.

 

आपको बता दें कि गलती से सीमा पार कर जाने के कारण पिछले 10 सालों से भी ज्यादा समय से पाकिस्तान में फंसी गीता की घर वापसी हो गई है. सोमवार को गीता पाकिस्तान से भारत पहुंच गई.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India to send Ramzan home as a ‘return gift’ to Pakistan for Geeta
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: geeta India Pakistan ramzan Welcome Geeta
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017