तिरंगा फहराने के कायदों से अनजान अधिकांश देशवासी

By: | Last Updated: Thursday, 14 August 2014 11:53 AM

नई दिल्ली: लोगों को अब तिरंगा भले ही घर, दफ्तर और कार में लगाने की अनुमति मिल गयी है लेकिन फिर भी अभी तक अधिकतर लोगों को तिरंगा लगाने के नियम कायदों की जानकारी नहीं हैं.

 

पंद्रह अगस्त पर 68 वें स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए अधिकतर लोग सोशल मीडिया पर जहां अपनी प्रोफाइल पिक्चर के रूप में तिरंगे को लगा रहें हैं. सवाल यह उठता है कि क्या इस तरह से तिरंगे का इस्तेमाल करना कानून के दायरे में आता है.

 

पुराने कानूनों को सम्मिलित करते हुए सन् 2002 से प्रभाव में आए ‘फ्लैग कोड ऑफ इंडिया’ के रूप में आम जनता को सालभर तिरंगा फहराने का नया मौलिक अधिकार मिला लेकिन इसे फहराने के कुछ नियम कायदे भी निर्धारित किए गए हैं.

 

कोड के अनुसार खुले में कहीं पर भी फहराया जाने वाला झंडा सुबह से शाम तक ही फहराया जा सकता है. इस नियम से छूट सिर्फ प्रतीकात्मक झंडों को मिली है जैसा कि दिल्ली के कनॉट प्लेस में लगाया गया है. इनको भी रात में फहराने की अनुमति तब ही मिलती है जब झंडे के आसपास उचित प्रकाश की व्यवस्था हो.

 

कनॉट प्लेस के झंडे का रखरखाव करने वाले फ्लैग फाउंडेशन के मुख्य कार्यपालक अधिकारी :सीईओ: कमांडर के. वी. सिंह ने बताया, ‘‘राजीव चौक पर लगे झंडे के रखरखाव पर हर महीने 60,000 रूपए खर्च होते हैं. झंडे के आस-पास सीसीटीवी और सुरक्षाकर्मी लगाए गए हैं और आठ फ्लड लाइटों से रोशनी की व्यवस्था की गई है ताकि 207 फुट उंचा झंडा रात में भी प्रकाशमान हो. अगर झंडा फट जाता है या गंदा हो जाता है तो उसे बदला जाता है.’’

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: India_Flag_Independense Day_
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017