भारत 2025 तक बन जाएगा जल संकट वाला देश: रिपोर्ट

By: | Last Updated: Sunday, 24 May 2015 3:44 PM
india_water

मुंबई: पानी की मांग एवं आपूर्ति में अंतर के कारण भारत 2025 तक जल संकट वाला देश बन जाएगा. एक नये अध्ययन में कहा गया है कि इस क्षेत्र में अगले कुछ साल में विदेशी कंपनियां 13 अरब डालर का निवेश कर सकती हैं.

 

जल क्षेत्र में प्रमुख परामर्श कंपनी ईए वाटर के एक अध्ययन के अनुसार, ‘‘भारत में पानी की मांग सभी मौजूदा स्रोतों से होने वाली आपूर्ति के मुकाबले उपर चले जाने की आशंका है और देश 2025 जल संकट वाला देश बन जाएगा.’’

 

अध्ययन में कहा गया है, ‘‘परिवार की आय बढ़ने तथा सेवा तथा उद्योग क्षेत्र से योगदान बढ़ने के कारण घरेलू और औद्योगिक क्षेत्रों में पानी की मांग में उल्लेखनीय वृद्धि हो रही है.’’ देश की सिंचाई का करीब 70 प्रतिशत तथा घरेलू जल खपत का 80 प्रतिशत हिस्सा भूमिगत जल से पूरा होता है जिसका स्तर तेजी से घट रहा है.

 

हालांकि कनाडा, इस्राइल, जर्मनी, इटली, अमेरिका, चीन और बेल्जियम की कंपनियां घरेलू जल क्षेत्र में 13 अरब डालर मूल्य के निवेश के अवसर देख रही हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि उद्योग को अगले तीन साल में 18,000 करोड़ रपये प्राप्त होने की उम्मीद है.

 

देश में जल आपूर्ति और दूषित जल प्रबंधन के लिये बुनियादी ढांचे के विकास समेत विभिन्न संबंधित क्षेत्रों में काफी अवसर हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: india_water
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: India water
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017