पंकजा मुंडे के बाद विनोद तावड़े पर बिना ई-टेंडरिंग 191 करोड़ का ठेका देने का आरोप

By: | Last Updated: Tuesday, 30 June 2015 4:50 AM
INDIAN EXPRESS REVEAL ANOTHER SCAM

गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे

नई दिल्ली : महाराष्ट्र सरकार की मंत्री पंकजा मुंडे के चिक्की घोटाले के बाद अब महाराष्ट्र शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े का नाम भी विवादों में आ गया है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक  तावड़े पर भी बिना ई-टेंडरिंग के 191 करोड़ का ठेका देने का आरोप है.

 

वित्तीय विभाग ने इस ठेके में हुई अनियमितताओं का खुलासा किया है.  वित्तीय विभाग के इस आरोप के बाद तावड़े ने इस ठेके को रोक दिया है.

 

क्या किया है खुलासा

अखबार के मुताबिक स्कूलों के लिए आग बुझाने वाले यंत्र की खऱीद का ठेका बिना ई-टेंडरिंग के ही ठाणे की एक कंपनी को दिया गया. राज्य के 62 हजार 105 स्कूलों के लिए तीन-तीन अग्निशामक खरीदे जाने थे. फरवरी महीने की 11 तारीख को ठेका दिया गया और मार्च में इस पर रोक लगा दी गई. जिस ठेकेदार को ठेका दिया गया है वो महाराष्ट्र सरकार की सरकारी लिस्ट में शामिल भी नहीं रहा है. लेकिन वो केंद्र की कॉन्ट्रैक्टर लिस्ट में शामिल है.

 

22 जुलाई 2004 के आदेश में सुप्रीम कोर्ट ने सभी सरकारी और निजी स्कूलों में आग बुझाने वाले उपकरण लगाने के आदेश दिए थे.

 

विनोद तावड़े की सफाई

 

शिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने एबीपी न्यूज से बातचीत में कहा है कि ये ठेका 191 करोड़ का नहीं बल्कि 6 करोड़ का है. उन्होंने आगे कहा, “हमने कॉन्ट्रैक्टर को एक पैसा भी नहीं दिया है साथ ही जांच के आदेश दिये हैं.”

 

तावड़े इस आरोप से इनकार कर रहे हैं कि उन्होंने ई-टेंडरिंग जैसी प्रक्रिया के पालन में कोई कोताही बरती.

 

विनोद तावडे ने एबीपी न्यूज से कहा है कि कांग्रेस-एनसीपी सरकार ने ठेका दिया था. उन्होंने कहा, “हमारी सरकार ने ठेकेदार को एक भी पैसा नहीं दिया है. हमने 6 हजार का ठेका दिया था. पेमेंट नहीं की थी. पुरानी सरकार ने 27 हजार का ठेका शुरू किया था. प्रपोजल 191 का करोड़ का पिछली सरकार ने दिया था.”

 

क्या है चिक्की घोटाला

महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री पंकजा मुंडे पर 206 करोड़ के घोटाले का आरोप लग रहा है. उन पर आरोप है कि उन्होंने कायदे कानून को ताक पर रखकर अपनी पसंद की कंपनियों को स्कूल में खाना सप्लाई करने का ठेका दिया है. कांग्रेस ने इस मुद्दे पर पंकजा मुंडे से इस्तीफा मांगा है वहीं पकंजा मुंडे ने सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है.

 

दरअसल पंकजा मुंडे के मंत्रालय में एक ही दिन में 206 करोड़ की खरीददारी हुई है जिसमें आदिवासी छात्रों के लिए चिक्की, किताबें, वॉटर फिल्टर जैसी चीजें खरीदी गईं. बाद में खुलासा हुआ कि ये सारी खरीददारी बिना किसी टेंडर के हुई है जबकि राज्य सरकार के नियम के मुताबिक एक लाख से ऊपर की सरकारी खरीद के लिए ई टेंडर निकालना जरुरी है.

 

कांग्रेस ने पंकजा मुंडे के मामले की शिकायत एंटी करप्शन ब्यूरो से की है और उनका दावा कि पंकजा के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं. दूसरी तरफ दिवंगत गोपनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे ने इस मुद्दे पर सफाई देते हुए कहा है कि महिला और बाल विकास मंत्रालय में जो खरीददारी की गई है वो केंद्र सरकार के डायरेक्टर जनरल ऑफ सप्लाईज एंड डिस्पोजल्स के नियमों के अनुसार किया गया है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: INDIAN EXPRESS REVEAL ANOTHER SCAM
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: E-TENDRING Maharashtra Scam vinod tawde
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017