राम मंदिर बनवाने ईंट लेकर अयोध्या पहुंचा मुस्लिम कारसेवक संघ

By: | Last Updated: Friday, 21 April 2017 3:03 PM
Indian Muslim karsevak sangh supports construction of Ram temple

नई दिल्लीः राम मंदिर निमार्ण का समर्थन करते हुए भारतीय मुस्लिम कारसेवक संघ के अध्यक्ष मोहम्मद आज़म खान शुक्रवार ईंट लेकर अयोध्या पहुंचे. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुस्लिम कारसेवक संघ मंदिर निर्माण के लिए एक ट्रक ईंट लाया.

राम मंदिर बनाने के लिए ईंट लाने के सवाल पर मोहम्मद आज़म खान ने कहा, ‘मैं एक पठान हूं , हमारे पूर्वज क्षत्रिय रहे होंगे, राम भी क्षत्रिय थे. हम मुस्लिम नफरत को मिटाकर एकता और प्यार बांटना चाहते हैं. हम मुस्लिम राम मंदिर निर्माण का समर्थन करना चाहते हैं.’

क्या है पूरा मामला?

आपको बता दें कि राम मंदिर और बाबरी मस्जिद का मुद्दा अभी सुप्रीम कोर्ट में लंबित है.

1949 में विवादित ढांचे में रामलल्ला की मूर्ति अचानक प्रकट हुई. इस पर हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच विवाद हुआ. इस मुसलमानों से एफआईआर दर्ज कराई कि यह मूर्तियां बाहर से लाकर रखी गई हैं. निचली अदालत ने वहां ताला लगा दिया. इसके दस साल बाद निर्मोही अखाड़े ने विवादित ढांचे पर अपना मालिकाना हक जताते हुए मुकदमा दर्ज कराया. फिर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने अपना हक जताया. कोर्ट ने यथास्थिति बनाये रखने के आदेश दिये.

1986 तक स्थिति बनी रही फिर तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने ताला खुलवा दिया. दूसरा मोड़ 1989 में आया जब राजीव गांधी सरकार ने ही शिलान्यास की अनुमति दी. सबसे अहम फैसला, 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवाद को सुलझाने के लिए एक बीच का रास्ता निकाला था, लेकिन उस फैसले के बाद भी स्थिति अभी 6 साल पहले वाली ही बनी हुई है.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित 2.77 एकड़ भूमि को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का फैसला सुनाया था, राम मूर्ति वाला हिस्सा रामलला विराजमान को, राम चबूतरा और सीता रसोई का हिस्सा निर्मोही अखाड़ा को और तीसरा हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड को देने का आदेश दिया था.

First Published:

Related Stories

रात विमान में और दिन मुलाकात में: विदेश दौरे पर हर घंटे एक्शन में होते हैं पीएम मोदी
रात विमान में और दिन मुलाकात में: विदेश दौरे पर हर घंटे एक्शन में होते हैं...

नई दिल्ली: तीन देशों की यात्रा करके आने के बाद आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिन के गुजरात...

एयर इंडिया पर अपना नियंत्रण बनाए रख सकती है सरकार
एयर इंडिया पर अपना नियंत्रण बनाए रख सकती है सरकार

 नई दिल्लीः सरकार एयर इंडिया का मालिकाना हक अपने पास ही रख सकती है. हालांकि इस बारे फैसला वित्त...

GST: बेहद आसान भाषा में जानें क्या है इनपुट टैक्स क्रेडिट?
GST: बेहद आसान भाषा में जानें क्या है इनपुट टैक्स क्रेडिट?

नई दिल्ली: इनपुट टैक्स क्रेडिट यानी सामान बनाने वाले कारोबारियों को सरकार की तरफ से मिलने वाली...

केंद्रीय कर्मियों के लिए भत्तों में फेरबदल पर कैबिनेट की मुहर, आवास भत्ता ज्यादा मिलेगा
केंद्रीय कर्मियों के लिए भत्तों में फेरबदल पर कैबिनेट की मुहर, आवास भत्ता...

नई दिल्लीः केंद्र सरकार के 48 लाख कर्मचारियों-अधिकारियों के साथ 55 लाख पेंशनर के लिए अच्छी खबर....

हरियाणा सरकार की पत्रिका ने बताया 'घूंघट को राज्य की पहचान'
हरियाणा सरकार की पत्रिका ने बताया 'घूंघट को राज्य की पहचान'

चंडीगढ़: हरियाणा सरकार की एक पत्रिका में छपी तस्वीर के साथ लगे कैप्शन में ”घूंघट को राज्य की...

ये प्रमुख विपक्षी दल GST बैठक में नहीं हो सकते हैं शामिल!
ये प्रमुख विपक्षी दल GST बैठक में नहीं हो सकते हैं शामिल!

नई दिल्ली : संसद में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) लागू होने के अवसर पर 30 जून को मध्य रात्रि में होने...

वायरल सच: क्या योगी की पुलिस अपनी ही गाड़ी से डीजल चुराती है?
वायरल सच: क्या योगी की पुलिस अपनी ही गाड़ी से डीजल चुराती है?

नई दिल्ली: हर तरफ उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के 100 दिन पूरे होने की चर्चा हो रही है. सरकार अपनी...

जीएसटी में सिर्फ एक दर क्यों नहीं ? यहां पढ़ें सबसे बड़े सवाल का जवाब
जीएसटी में सिर्फ एक दर क्यों नहीं ? यहां पढ़ें सबसे बड़े सवाल का जवाब

नई दिल्ली: दुनिया के कई देशों में जीएसटी यानी एक टैक्स की व्यवस्था पहले से चल रही है. वहां और...

एबीपी न्यूज़ पर दिनभर की बड़ी खबरें
एबीपी न्यूज़ पर दिनभर की बड़ी खबरें

एबीपी न्यूज़ पर दिनभर की बड़ी खबरें 1. *राष्ट्रपति चुनाव के लिए 17 विपक्षी दलों की उम्मीदवार मीरा...

नीतीश दे सकते हैं महागठबंधन को झटका, जीएसटी के आयोजन में हो सकते हैं शामिल: सूत्र
नीतीश दे सकते हैं महागठबंधन को झटका, जीएसटी के आयोजन में हो सकते हैं शामिल:...

नई दिल्ली: राष्ट्रपति चुनाव को लेकर महागठबंधन में दरार के बीच खबर है नीतीश कुमार एक बार फिर...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017