बेटे ने खोला अपनी मां के पहले अफेयर का राज!

By: | Last Updated: Friday, 28 August 2015 1:31 PM
indrani mukherjee

नई दिल्ली: बेटी की हत्या के आरोप में पुलिस इंद्राणी मुखर्जी से पूछताछ कर रही है. पुलिस इंद्राणी को जगह-जगह ले जाकर शीना की हत्या की गुत्थी उलझाने की कोशिश में लगी है. अपनी ही बेटी के कत्ल के इल्जाम में जेल जा चुकी इंद्राणी मुखर्जी की जिंदगी के वो राज अब आम हो गए हैं जिसे उन्होंने बड़े जतन से छिपाया था. उनकी वो जिंदगी जिसमें हर वो बात जो उनके सपनों पर ब्रेक लगा सकती थी उन्होंने उसे दफ्न कर दिया था. उनके बचपन का नाम परी था और उन्होंने परी की तरह ही उड़ान भऱने की कोशिश की थी.

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या के जुर्म में गिरफ्तार इंद्राणी मुखर्जी अगर अपनी जिंदगी के अनछुए–अनसुने और अनजाने किस्सों को किसी किताब की शक्ल दे देतीं तो शायद इंद्राणी की उम्र के उन तैंतालीस सालों को दुनिया एक परी की उड़ान का नाम दे देती.

 

लेकिन जिन पंखों के बूते परी बोरा उर्फ इंद्राणी मुखर्जी ने असम के एक मध्यवर्गीय परिवार से मुंबई के मीडिया जगत की सबसे युवा सीईओ के शिखर तक उड़ान भरी थी उन्हें कानून के लंबे हाथों ने जकड़ लिया.

 

जो अनकहा था दोस्तों-रिश्तेदारों की जुबान पर आ गया. जो बातें छिपाई गई थीं वो खबर बनने लगीं और सामने आने लगी महत्वाकांक्षा की ऐसी कहानी जिसके केंद्र में थी एक परी – बंगाली जुबान में पोली बोरा और हिंदी में परी बोरा.

 

परी बोरा आखिर इंद्राणी कैसे बनी. उसने असम के गुवाहाटी से मुंबई तक का सफर कैसे तय किया. रिश्तों को बनाने- उन्हें छिपाने और उलझ जाएं तो मिटा देने वाली इंद्राणी मुखर्जी की दास्तान का हर पन्ना एक ऐसा राज खोलता है जिसे इंद्राणी और उसके परिवार ने कभी सामने नहीं आने दिया.

 

इंद्राणी की उड़ान के सबसे ऊंचे शिखर की हैं. जहां बड़ी बड़ी हस्तियां उनकी जिंदगी का हिस्सा बन चुकी थीं और इंद्राणी उनके लिए एक ऐसा नाम जिसकी मुट्ठी में एक दो नहीं 17 चैनलों के बीज कुलबुला रहे थे.

 

मुंबई की इन्हीं तस्वीरों में नजर आता है वो शख्स जिसका प्यार इंद्राणी को उसके सपनों के संसार में ले आया था. वो संसार जहां पहुंचने के लिए 16 साल की उम्र में इंद्राणी अपना घर हमेशा के लिए छोड़ आई थी.

 

रहस्य में लिपटी हुई है इंद्राणी उर्फ परी बोरा की शुरुआती जिंदगी की कहानी जिसका नाता असम के गुवाहाटी से है. उपेंद्र कुमार बोरा और दुर्गा रानी बोरा इंद्राणी के पिता और मां का नाम है और साल 1972 में इंद्राणी का जन्म हुआ था और उसका नाम रखा गया था परी बोरा.

 

परी बोरा ने गुवाहाटी के सेंट मैरी स्कूल से पढ़ाई की और उसके बाद घर छोड़कर शिलॉंग चली गई. वहां डिग्री लेने के बाद परी बोरा उर्फ इंद्राणी नौकरी की तलाश में जमशेदपुर गई और फिर नई दिल्ली. बाद में वो कोलकाता पहुंच गई. लेकिन इस बीच कुछ ऐसा हो चुका था जिसका खुलासा इंद्राणी ने किसी से नहीं किया.

 

कहा जाता है कि परी बोरा उर्फ अपने प्रेमी सिद्धार्थ दास की बेटी की मां बन गई थीं. वही बेटी शीना जिसके कत्ल का इल्जाम अब इंद्राणी पर लगा है.

 

सिद्धार्थ दास के साथ लिव इन रिलेशन में रहने वाली इंद्राणी को एक बेटा मिखाइल भी हुआ जो अब सुना रहा है उस दौर की कहानी.

 

मिखाइल के मुताबिक शिलांग में रहते हुए ही उनकी मां इंद्राणी का सिद्धार्थ दास से अफेयर शुरू हो गया था. ऐसा रिश्ता जिसकी वजह से मेरा और शीना का जन्म हुआ. शीना और मैं एक साथ बड़े हुए. शीना का जन्म 28 फरवरी, 1989 को हुआ और मैं 9 सितंबर 1990 को पैदा हुआ.

 

गुवाहाटी में इंद्राणी के पड़ोसी साल 1990 का वो दौर याद करते हैं जब घर छोड़ने के बाद परी बोरा नाम की 16 साल की लड़की दो बच्चों के साथ वापस आई थी.

 

वो तब कोलकाता में किसी सिद्धार्थ दास के साथ रहती थी. 2 साल की शीना और 1 साल का मिखाइल परी बोरा और सिद्धार्थ के बच्चे थे. वो जितनी जल्दबाजी में आई थी उतने ही चुपचाप तरीके से लौट गई. बच्चों को उसने अपने माता पिता के पास छोड़ दिया और फिर 14 साल के लिए गायब हो गई.

 

मिखाइल ये भी बताते हैं कि उनकी मां के बिना गुवाहाटी में शीना और उनकी जिंदगी कैसे बीती?

 

शीना मेरे लिए दुनिया की सबसे प्यारी बच्ची थी. वो मेरे लिए सबकुछ थी. हम अपनी भावनाएं एक दूसरे से ही बताया करते थे क्योंकि हमारे माता-पिता तो हमारे साथ थे नहीं, बस काका ( दादाजी) और अइता (दादी) ही थीं.

 

परी बोरा उर्फ इंद्राणी गुवाहाटी नहीं आती थीं. दोनों बच्चे स्कूल जाने लगे थे. अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ के मुताबिककोलकाता और त्रिपुरा में कारोबार करने वाले सिद्धार्थ के कुछ रिश्तेदार गुवाहाटी में भी रहते थे और वो दादा-दादी के घर में इंद्राणी के बच्चों से दो बार मिलने आए थे. यहां तक कि वो डिजनीलैंड स्कूल जहां शीना पढ़ती थी वहां भी पैरेंट-टीचर मीटिंग में एक बार गए थे. लेकिन फिर ये सिलसिला थम गया.

 

लेकिन आप ये जानकर चौंक जाएंगे कि तब सिद्धार्थ ने भले ही अपने बच्चों का हिस्सा बनने की कोशिश की लेकिन परी बोरा उन्हें अपनी जिंदगी से निकाल चुकी थीं क्यों और कैसे ये अब भी एक राज है. 1990 में अपने बच्चों को माता-पिता के हवाले करने के बाद नया अवतार लिया. अब वो कोलकाता की इंद्राणी हो चुकी थीं और नया जीवनसाथी तलाश लिया. वो थे संजीव खन्ना जो वायरलेस का कारोबार करते थे.

 

शीना बोरा हत्याकांड में गिरफ्तारी से पहले अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत के दौरान संजीव खन्ना ने इंद्राणी से अपनी शादी की कहानी सुनाई.

 

मैं इंद्राणी से 1990 में मिला था. वो कुछ महीने पहले ही कोलकाता आई थी. वो एक कंप्यूटर कोर्स कर रही थी और पेइंग गेस्ट के तौर पर रहती थी. कुछ वक्त तक हमारी मुलाकातें होती रहीं और फिर तीन साल बाद 1993 में हमने शादी का फैसला कर लिया.

 

इंद्राणी नए नाम और नए जीवनसाथी के साथ जिंदगी शुरू कर चुकी थीं लेकिन तब भी शीना और मिखाइल की याद उनकी जिंदगी का हिस्सा थी. वो शीना और मिखाइल की तस्वीरें अपने साथ रखा करती थीं.

 

टाइम्स ऑफ इंडिया को संजीव खन्ना ने बताया कि ये तब की बात है जब हमारी शादी हो चुकी थी. जब मैंने उससे पूछा कि वो कौन हैं उसने बताया कि वो दोनों उसके भाई और बहन हैं. मैंने उसे समझाने की कोशिश की कि वो अपने परिवार से रिश्ते सुधारने की कोशिश करे लेकिन उसने मना कर दिया.

 

इंद्राणी खन्ना के पहले पति संजीव खन्ना का ये बयान ये बताने के लिए काफी है कि सिर्फ 21 साल की उम्र में इंद्राणी ने तय कर लिया था कि वो अपने अतीत के उन पन्नों को कभी दुनिया के सामने नहीं आने देगी. संजीव के मुताबिक शादी के वक्त भी इंद्राणी के मायके से कोई शख्स शादी में शामिल नहीं हुआ था.

 

इंद्राणी और संजीव का रिश्ता साल 2001 तक ही चल पाया. तब तक दोनों की बेटी विधि पांच साल की हो चुकी थी. इंद्राणी दोनों को छोड़कर अपने सपनों को पूरा करने के लिए मुंबई की मायानगरी चली आईं. मुंबई में इंद्राणी ने अपनी प्लेसमेंट एजेंसी खोल ली. इंद्राणी के लिए ये उन सपनों को पूरा करने की शुरुआत थी जो उसने बचपन से देखा था और साल 2002 की एक तारीख ने इंद्राणी की जिंदगी बदल दी.

 

विज्ञापन की दुनिया की एक अहम शख्सियत ने दो दिन पहले हुई इंद्राणी की गिरफ्तारी के बाद साल 2002 के उस अहम दिन की पूरी कहानी भी दुनिया के सामने रख दी है.

 

सुहेल सेठ के मुताबिक मैंने पीटर मुखर्जी, सुमंत्र दत्ता और मुरली देवड़ा को प्रेसिडेंट होटल के लाईब्रेरी बार बुलाया था. हम बैठे ही थे कि तभी एलेक पद्मसी के साथ एक खूबसूरत महिला दाखिल हुई. एलेक ने हमें हैलो कहा और मैंने इंद्राणी को (एलेक को नहीं) साथ बैठने क कहा. उसी मेज पर तब पीटर की गर्लफ्रेंड सपना भी बैठी थी.

 

पीटर मुखर्जी और इंद्राणी की ये पहली मुलाकात थी लेकिन तब किसी ने नहीं सोचा था कि ये मुलाकात इंद्राणी का नसीब बदलने वाली है.

 

सुहेल आगे लिखते हैं मैं दो दिन बाद दिल्ली वापस आ गया और इंद्राणी को फोन लगाया. जैसे ही मैंने फोन नीचे रखा मेरे पास पीटर मुखर्जी का फोन आया और उन्होंने कहा कि वो इंद्राणी को लेकर गंभीर हैं और उनसे शादी करना चाहते हैं. इसलिए मुझे अब इंद्राणी को दूसरी नजर से देखना चाहिए.

 

इंद्राणी के लिए ये मनमांगी मुराद के पूरे होने जैसा था. मार्केटिंग की दुनिया से निकलकर पीटर तब तक स्टार इंडिया जैसे उस नेटवर्क के सीईओ हो चुके थे जो भारत में मनोरंजन की परिभाषा बदल रहा था. सिंगापुर से भारत आकर पीटर ने टीवी मनोरंजन की दुनिया को बदल दिया था

 

पीटर के कार्यकाल में अमिताभ बच्चन जैसा सितारा स्टार टीवी नेटवर्क के लिए कौन बनेगा करोड़पति जैसा कामयाब शो करने को तैयार हुआ था. उन्हीं पीटर मुखर्जी से इंद्राणी मुखर्जी शादी करने जा रही थीं.

 

पीटर मुखर्जी ने शादी से पहले इंद्राणी को भी स्टार इंडिया में नौकरी दिलवा दी थी. जब दोनों की दूसरी शादी हुई तब इंद्राणी स्टार इंडिया में ह्यूमन रिसोर्स डिपार्टमेंट की हेड थीं और उम्र में पीटर मुखर्जी से 16 साल छोटी. इंद्राणी तब 30 साल की थीं और पीटर 46 साल के.

 

सुहेल सेठ के मुताबिक पीटर और इंद्राणी ने एक दूसरे के साथ वक्त बिताना शुरू कर दिया और करीब तीन महीने बाद पीटर ने मुझे फोन करके बताया कि वो शादी कर रहे हैं. ये शादी दिल्ली के पंचकुइंया रोड के उनके घर पर हुई थी और ये बेहद निजी समारोह था. मैंने उसमें इंद्राणी के परिवार से किसी को नहीं देखा लेकिन इंद्राणी की बेटी विधि वहां आई थी.

 

दरअसल इस शादी से पहले इंद्राणी ने संजीव खन्ना से तलाक ले लिया था और विधि की कस्टडी को लेकर दोनों के बीच कानूनी जंग भी छिड़ गई थी. पीटर मुखर्जी ने इस कानूनी लड़ाई में इंद्राणी का साथ दिया. इंद्राणी को विधि की कस्टडी मिल गई और पीटर मुखर्जी ने ना सिर्फ इंद्राणी को अपनी पत्नी बनाया बल्कि विधि को गोद लेकर बेटी बना लिया.

 

साल 2002 से साल 2007 के बीच इंद्राणी जो अब इंद्राणी मुखर्जी बन चुकी थीं पीटर के साथ स्टार इंडिया में ही काम करती रहीं लेकिन स्टार इंडिया नेटवर्क की हालत खराब होते ही पीटर और इंद्राणी दोनों को कंपनी छोड़नी पड़ी

 

और फिर दोनों ने आईएनएक्स मीडिया नाम की नई कंपनी खोल ली. साल 2007 में इस कंपनी के लिए दोनों ने बाजार से करीब 800 करोड़ रुपये का निवेश करवाया और 17 चैनलों का बड़ा नेटवर्क खड़ा करने का सपना देखा था

 

पीटीसी 6 – पीटर मुखर्जी ने स्टार इंडिया से जो करार किया था उसके मुताबिक वो मीडिया की दुनिया में नया काम नहीं कर सकते थे. इस पेंच ने इंद्राणी को वो दे दिया जिसका सपना उन्होंने हमेशा से देखा था. इंद्राणी आईएनएक्स मीडिया की सीईओ बन गईं.

 

साल 2009 में आईएनएक्स का सपना भी टूट गया. पीटर मुखर्जी और इंद्राणी ने आईएनएक्स मीडिया कंपनी को बेच दिया और यूके के ब्रिस्टल चले गए जिसके बाद साल 2015 की जनवरी में वो भारत वापस आए थे.

 

इस बीच इंद्राणी सिर्फ एक बार गुवाहाटी गईं थीं. साल 2004 में जब पीटर से उनकी शादी हो चुकी थी.

 

मिखाइल बोरा के मुताबिक हमें बचपन से ही बताया गया था कि हमारे माता पिता ने हमें छोड़ दिया है. केवल साल 2004 में हमें हमारी मां के बारे में पता चला. हमने अखबार में उनकी फोटो देखी और पढ़ा कि वो पीटर मुखर्जी की पत्नी बन चुकी हैं. हमने उन्हें चिट्ठी लिखी जिसका उन्होंने जवाब दिया.

 

साल 2005 में हम कोलकाता गए जहां उनसे हमारी पहली मुलाकात हुई. हम दोनों दसवीं में थे. उस पहली ही मुलाकात में उन्होंने हमसे कह दिया था कि वो अपने दोस्तों और परिचितों से अपने बच्चे के तौर पर नहीं मिलवा सकतीं. हम चौंक गए थे लेकिन जब उन्होंने कहा कि वो काका और अइता(दादी) के लिए पैसे भेजेंगी और हमारी पढ़ाई का खर्च उठाएंगी तब हम मान गए.

 

इंद्राणी ने ठीक उसी तरह अपने दूसरे पति पीटर से भी उन बच्चों का सच छिपा कर रखा जैसा उन्होंने पहले पति संजीव खन्ना के साथ किया था. पीटर के मुताबिक इंद्राणी ने उनसे भी शीना को अपनी बहन बताया था.

 

बाद की कहानी अब सबकी जुबां पर है. इंद्राणी ने मुंबई की चकाचौंध भरी दुनिया के लिए अपने बच्चों का सच अंधेरे में दफन कर दिया. अपनी बेटी शीना को इंद्राणी ने मुंबई में अपने घर पर रखा तो लेकिन महत्वाकांक्षा के इस लंबे सफर में वो अपनी पहली बेटी शीना के साथ रिश्ता नहीं निभा पाईं. अब इंद्राणी अपनी उसी बेटी के कत्ल के इल्जाम में गिरफ्तार हो चुकी हैं.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: indrani mukherjee
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ???? ??????? indrani mukherjee
First Published:

Related Stories

गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी जाएंगे
गोरखपुर ट्रेजडी: राहुल ने की मृतक बच्चों के परिजनों से मुलाकात, BRD अस्पताल भी...

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में पिछले दिनों बीआरडी अस्पताल में हुई बच्चों की मौत से मचे...

बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण राणे
बड़ी खबर: जल्द बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कांग्रेस के बड़े नेता नारायण...

मुंबई: महाराष्ट्र की राजनीति में एक बड़ा भूकंप आने की तैयारी में है. महाराष्ट्र में कांग्रेस...

JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी
JDU की बैठक में बड़ा फैसला, चार साल बाद फिर NDA में शामिल हुई नीतीश की पार्टी

पटना: बिहार की राजनीति में आज का दिन बेहद अहम माना जा रहा है. पटना में नीतीश की पार्टी की जेडीयू...

यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा रजिस्ट्रेशन
यूपी: मदरसों को लेकर योगी सरकार का दूसरा बड़ा फैसला, अब जरुरी होगा...

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने एक अहम फैसले के तहत शुक्रवार से प्रदेश के सभी...

बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153  तो असम में 140 से ज्यादा की मौत
बाढ़ का कहर जारी: बिहार में अबतक 153 तो असम में 140 से ज्यादा की मौत

पटना/गुवाहाटी: बाढ़ ने देश के कई राज्यों में अपना कहर बरपा रखा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा बर्बादी...

CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'
CM योगी का राहुल गांधी पर निशाना, बोले- 'गोरखपुर को पिकनिक स्पॉट न बनाएं'

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज स्वच्छ यूपी-स्वस्थ...

नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड क्रॉस
नेपाल, भारत और बांग्लादेश में बाढ़ से ‘डेढ़ करोड़’ से अधिक लोग प्रभावित: रेड...

जिनेवा: आईएफआरसी यानी   ‘इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रॉस एंड रेड क्रीसेंट सोसाइटीज’ ने...

‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार
‘डोकलाम’ पर जापान ने किया था भारत का समर्थन, चीन ने लगाई फटकार

बीजिंग:  चीन ने शुक्रवार को जापान को फटकार लगाते हुए कहा कि वह चीन, भारत सीमा विवाद पर ‘बिना...

यूपी: मथुरा में कर्जमाफी के लिए घूस लेता लेखपाल कैमरे में कैद, सस्पेंड
यूपी: मथुरा में कर्जमाफी के लिए घूस लेता लेखपाल कैमरे में कैद, सस्पेंड

मथुरा: योगी सरकार ने साढ़े 7 हजार किसानों को बड़ी राहत देते हुए उनका कर्जमाफ किया है. सीएम योगी...

बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब पता था’
बिहार: सृजन घोटाले में बड़ा खुलासा, सामाजिक कार्यकर्ता का दावा- ‘नीतीश को सब...

पटना:  बिहार में सबसे बड़ा घोटाला करने वाले सृजन एनजीओ में मोटा पैसा गैरकानूनी तरीके से सरकारी...

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017