क्या अब गणतंत्र दिवस की झांकियों का रुप बदलना चाहिए?

By: | Last Updated: Monday, 26 January 2015 4:59 PM
is tableu look should be changed

नई दिल्ली: राजपथ में गणतंत्र दिवस की झांकियों में भारत की संस्कृति की झलक दिखती है तो पुराने दिनों की यादें भी ताजा हो जाती हैं. 1952 की  ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरों में साठ साल पहले की जो झलक दिखती थी और अब जो विरासत हम दुनिया को दिखा रहे हैं उसकी थीम आज भी समान ही नजर आती है. 

 

असम की झांकी ने बताया कि बहुत कुछ नहीं बदला. आज भी यूपी में अवध की झांकी ऐसी थी जब 1952 में कव्वाली का जलसा दिखा था. और आ कथक ने उसकी जगह ली.

 

झांकियों में नारी शक्ति की झलक तब भी थी और आज भी है. और अब 2015 में नारी शक्ति से लेकर सरकार के कामों की झलक नजर आई थी.

 

साठ साल पहले बच्चे परेड का हिस्सा हुआ करते थे और आज भी बच्चों ने परेड किया. 1952 में बच्चों की हुकूमत लिखी झांकी दिखी थी और आज भी स्कूली बच्चे परेड की झांकी का हिस्सा बन रहे. इसी तरह स्कूल ड्रेस में लडकियां परेड में पहले भी नजर आती थीं और आज भी. 

 

हालांकि परेड में बदलते भारत की झलक भी दिखाई दी मोदी सरकार के मेक इन इंडिया को परेड की झांकी का हिस्सा बनाया गया.

 

बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ की झांकी में भी मोदी सरकार का विजन झलक रहा था.

 

कुछ तस्वीरें हैं जो इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं, देश की विरासत को पेश करने का जो अंदाज आजादी के बाद शुरू हुआ अब भी वो जारी है.. इक्कीसवीं सदी में सशक्त भारत की कुछ ऐसी तस्वीरें हैं जो परेड का हिस्सा शायद इसलिए नहीं बन पातीं क्योंकि सरकार बदलाव नहीं कर पाती. बड़ा सवाल ये है कि क्या झांकियों की तस्वीर बदलनी चाहिए क्या अब बदलाव करने की आवश्कता है? इसका सवाल खुद से पूछिए ये दिलचस्प होगा.

 

ये भी पढ़ें

राष्ट्रगान के समय ध्वज को सलामी नहीं देने पर अंसारी के कार्यालय का स्पष्टीकरण 

केदारनाथ में पहली बार गणतंत्र दिवस के मौके पर फहराया गया तिरंगा

महाराष्ट्र सरकार के बैनर पर 66 वें के स्थान पर लिखा था 65 वां गणतंत्र दिवस

रोटी के जुगाड़ में बीत गया बुंदेलखंड में गरीब बच्चों का गणतंत्र!

जानें! इस गणतंत्र दिवस पर क्या-क्या हुआ पहली बार

राजपथ पर महिला शक्ति, भव्यता का प्रदर्शन 

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: is tableu look should be changed
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: change Republic Day tableu
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017