मोदी, अमित शाह को फंसाने में लगे रहे चिदंबरम: बीजेपी

By: | Last Updated: Tuesday, 1 March 2016 10:59 PM
Ishrat Jahan case

नई दिल्ली: बीजेपी ने कहा कि इशरत मामले में पूर्व गृह मंत्री पी चिदंबरम नरेंद्र मोदी और अमित शाह को फंसाने के लिए काम कर रहे थे. बीजेपी ने कहा कि चिदंबरम खुद नहीं कांग्रेस आलाकमान के इशारे पर काम कर रहे थे.

आपको बता दें कि पूर्व गृह सचिव पिल्लई के इशरत मामले में हलफनामा बदलवाने के आऱोपों पर पूर्व गृह मंत्री चिदंबरम ने सफाई दी है. चिदंबरम ने माना है कि हलफनामा बदला गया था लेकिन उन्होंने कहा है कि ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि पहला हलफनामा भ्रम पैदा करने वाला था. चिंदबरम ने पिल्लई पर पलटवार भी किया है.

पूर्व गृह सचिव पिल्लई ने ये कहकर बड़ा धमाका किया था कि लश्कर की कथित आतंकी इशऱत के एनकाउंटर मामले में खुद चिदंबरम ने केंद्र सरकार का हलफनामा बदलवाया था. पिल्लई के इस खुलासे के बाद चिंदबरम और कांग्रेस एक बार फिर बीजेपी के निशाने पर आ गए. लेकिन अब चिदंबरम ने चुप्पी तोड़ते हुए माना है कि उन्होंने हलफनामा बदलवाया था लेकिन किसी को बचाने के लिए नहीं बल्कि केंद्र सरकार का पक्ष सही तरीके से रखने के लिए ऐसा किया गया.

चिदंबरम ने पूर्व गृह सचिव पिल्लई पर पलटवार करते हुए उनकी नीयत पर सवाल भी उठाए हैं. इशरत जहां का मामला इसलिए उठा है क्योंकि मुंबई हमले की साजिश में शामिल आतंकी डेविड कोलमैन हेडली ने हाल ही में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट को दी गवाही में कहा है कि इशरत जहां लश्कर की आतंकी थी.

इशरत जहां मामला क्या है?

15 जून 2004 को इशरत जहां, जावेद शेख, अमजद राणा जीशान जौहर नाम के चार कथित आतंकियों का अहमदाबाद में एनकाउंटर हुआ था. गुजरात पुलिस ने खुफिया सूत्रों का हवाला देते हुए कहा था कि ये लश्कर ए तैयबा के आतंकी थे जो गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या करने आए थे.

कांग्रेस ने तब की गुजरात की मोदी सरकार पर फर्जी एनकाउंटर का आरोप लगाया था. एनकाउंटर फर्जी था या नहीं इस पर तो पूर्व गृह सचिव पिल्लई चुप हैं लेकिन उन्होंने ये जरूर माना है कि इशरत के आतंकियों से रिश्ते थे.

जीके पिल्लई ने कहा कि इशरत लश्कर की आतंकी था या नहीं ये नहीं पता लेकिन वो उस पूरे ऑपरेशन में शामिल थी.

इशरत जहां मामले की जांच फिलहाल सीबीआई के पास है. 2013 में दायर चार्जशीट में सीबीआई ने कहा था कि एनकाउंटर फर्जी था. एनकाउंटर अहमबाद पुलिस और आईबी ने मिलकर किया था. फिलहाल मामला कोर्ट में है. इस केस में गुजरात के बड़े पुलिस अधिकारियों पर गाज गिर चुकी है. हेडली के खुलासे के बाद एक बार फिर से इशरत मामले की जांच की मांग भी की जा रही है.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: Ishrat Jahan case
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ishrat jahan case
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017