आईएसआईएस को कल्याण के युवकों पर सुरक्षा एजेंट होने का शक था

By: | Last Updated: Tuesday, 2 December 2014 1:48 AM
isis areeb majid

मुंबई: इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया (आईएसआईएस) के संदिग्ध सदस्य आरीब मजीद ने दावा किया है कि आतंकवादी संगठन के सदस्यों को पहले उसे तथा उसके तीन दोस्तों के सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े होने का संदेह था और सदस्य बनाने से पहले उन्होंने घंटों उनसे पूछताछ की थी.

 

इस मामले की जांच से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि माजीद और उसके दोस्तों ने जब आईएसआईएस के कैडरों को यह अच्छी तरह विश्वास दिला दिया कि वे संगठन के लिए लड़ने की खातिर आए हैं केवल उसके बाद ही उन्हें भर्ती किया गया.

 

एनआईए सूत्रों के अनुसार, जब माजिद और उसके तीन दोस्तों शाहीन टंकी, फहद शेख और अमान तंदेल इस वर्ष मई में इराक के मोसूल शहर पहुंचे तो उनसे आईएसआईएस के एक वरिष्ठ लड़ाके अली ने पूछताछ की थी.

 

मजीद ने जांचकर्ताओं को बताया, ‘‘ हमें बताया गया था कि आईएसआईएस बिना किसी की सिफारिश के लोगों को भर्ती नहीं करता. लेकिन हमने उन्हें बताया कि हम इराक में मरने के लिए तैयार हैं लेकिन भारत नहीं लौटना चाहते. ’’

 

22 वर्षीय सिविल इंजीनियर ने जांचकर्ताओं को बताया, ‘‘एक बार भर्ती होने के बाद हमारे नाम बदल दिए गए. मेरा नाम अबु अली अल हिंदी, शाहीन का नाम अबु उस्मान अल हिंदी, अमान का नाम अबु मार अल हिंदी तथा फहद का नाम अबु बकर अल हिंदी रखा गया. ’’

 

इराक में छह महीने बिताकर लौटने वाले मजीद को शुक्रवार को मुंबई लौटने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था.

India News से जुड़े हर समाचार के लिए हमे फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस पर फॉलो करें साथ ही हमारा Hindi News App डाउनलोड करें
Web Title: isis areeb majid
Explore Hindi News from politics, Bollywood, sports, education, trending, crime, business, साथ ही साथ और भी दिलचस्प हिंदी समाचार
और जाने: ????????
First Published:

Get the Latest Coupons and Promo codes for 2017